पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भास्कर एक्सक्लूसिव:बिहार में 7 दिन में 18466 नए संक्रमितों में महज 4204 दे पाए कोरोना को मात, 54 लोगों की गई जान

पटना2 महीने पहलेलेखक: मनीष मिश्रा
  • कॉपी लिंक
कोरोना से मरने वालों में ऑक्सीजन का लेवल तेजी से गिरा है। - Dainik Bhaskar
कोरोना से मरने वालों में ऑक्सीजन का लेवल तेजी से गिरा है।
  • 7 दिन में रिकवरी रेट में 4.74 प्रतिशत की हो गई है गिरावट

बिहार में कोरोना अब उग्र हो गया है। दूसरी लहर में संक्रमण के साथ मौत का खतरा भी बढ़ा है। एक सप्ताह में कोरोना की चपेट में आने वाले 54 लोगों की इम्यूनिटी पर वायरस भारी पड़ा है। अंतत: उन्हें मौत मिली है। इन 7 दिनों में 18466 लोग संक्रमित हुए हैं और मात्र 4204 लोग ही वायरस को मात दे पाए हैं। बाकी के 14223 लोग एक्टिव केस की सूची में जिंदगी की जंग लड़ रहे हैं। सरकारी अस्पतालों के बेड फुल हो रहे हैं और प्राइवेट अस्पतालों में इलाज का खर्च भारी पड़ रहा है। ऐसे में सुरक्षा और सावधानी में थोड़ी सी चूक हुई तो संक्रमण के साथ मौत का आंकड़ा रोका नहीं जा सकता है।

बिहार के लिए भारी पड़ा 7 दिन

बिहार के लिए 7 से 13 अप्रैल का समय काफी भारी पड़ा है। इस बीच कोरोना से जंग मुश्किल हुई है। 7 दिन में 54 लोगों की मौत हुई है। कोरोना से मरने वालों में ऑक्सीजन का लेवल तेजी से गिरा है। वायरस संक्रमण के बाद 7 दिन भी जिंदगी जीने का मौका नहीं दिया है। मौत का खतरा दूसरे या तीसरे दिन से ही हो गया। इलाज के दौरान ही इन लोगों की मौत हुई है।

7 दिन में NMCH में मौत का आंकड़ा

7 से 13 अप्रैल के बीच मौत का ग्राफ बढ़ा है। NMCH में 7 दिन में कुल 17 मौत हुई है। कोरोना ने 7 और 8 अप्रैल को किसी की जान नहीं ली, लेकिन इसके बाद से वह थमा भी नहीं। 9 अप्रैल को 4 लोगों की मौत हुई, 10 अप्रैल को 3 लोगों की मौत हुई, 11 अप्रैल को भी 3 की जान गई, 12 अप्रैल को फिर कोरोना 3 जान पर भारी पड़ा, 13 अप्रैल को 4 की जान चली गई। ऐसे एक सप्ताह में 17 जिंदगियां चली गईं।

7 दिन में PMCH में हो गई 21 मौत

PMCH में मौत का सिलसिला नहीं थम रहा है। 7 दिनों में 21 लोगों की जान चली गई है। 7 अप्रैल को तो कोरोना ने किसी की जान नहीं ली, लेकिन इसके बाद किसी दिन गैप भी नहीं किया है। मौत का सिलसिला लगातार जारी रहा है। 8 अप्रैल को एक मौत हुई, 9 अप्रैल को 2 लोगों की जान गई, 10 अप्रैल को 5 की मौत हो गई, 11 अप्रैल को PMCH इलाज में एक संक्रमित को नहीं बचा पाया उसकी मौत हो गई। 12 अप्रैल को फिर 5 लोगों की जान कोरोना निगल गया, 13 अप्रैल तो काफी भारी पड़ा इस दिन 7 लोगों की जान कोरोना के कारण चली गई। मौत का तांडव करने वाला कोरोना 7 दिन में ही 21 लोगों की जान PMCH में ले लिया।

7 दिन में AIIMS में 16 लोगों की गई जान

पटना AIIMS में भी 7 दिन मौत के लिहाज से भारी पड़ा है। इस एक सप्ताह में 16 लोगों की जान चली गई है। 7 दिन में कई दिन बड़ा जख्म दिया है कोरोना ने। 7 अप्रैल को 3 लोगों की मौत इलाज के दौरान हुई, 8 अप्रैल को 4 लोगों की मौत हो गई, 9 अप्रैल को भी 4 लोगों की जान चली गई, 10 अप्रैल को एक की मौत हुई, 11 अप्रैल को भी एक व्यक्ति की जान इलाज के दौरान चली गई। 12 अप्रैल को 3 लोगों की इलाज के दौरान मौत हुई है।

7 दिन में रिकवरी रेट 4.74% गिरा

बिहार में संक्रमण की रफ्तार के आगे रिकवरी रेट तेजी से गिर रहा है। पिछले सात दिनों में इसमें 4.74% की गिरावट दर्ज की गई है। 7 अप्रैल को बिहार में रिकवरी रेट 97.24 % था जो अब 92.50 % आ गया है। रिकवरी रेट गिरने का बड़ा कारण एक्टिव मामलों का तेजी से बढ़ना है। इन 7 दिनों में हर दिन रिकवरी रेट में गिरावट हुई जिससे अब आंकड़ा 4.74% पर पहुंचा है।

7 दिनों में 18 हजार नए मामले जुड़े हैं, जिसमें ठीक होने वाले कम

7 दिनों में बिहार में 18466 नए मामले जुड़े हैं जिसमें मात्र 4204 लोग ही ठीक हो पाए हैं। एक सप्ताह में यह आंकड़ा काफी डराने वाला है क्योंकि एक्टिव केस का नंबर कम नहीं हुआ है। 50 प्रतिशत लोग भी एक सप्ताह में कोरोना को मात नहीं दे पाए हैं। यह स्वास्थ्य विभाग के लिए सबसे बड़ी चिंता की बात है। एक्टिव मामलों की सूची अब प्रदेश में बढ़कर 20148 हो गई है, इसमें एक सप्ताह में आए 18466 लोग भी शामिल हैं। एक सप्ताह में 14223 लोगों की वृद्धि एक्टिव केस में हुई है। यह आंकड़ा इस सप्ताह का सबसे बड़ा और चौंकाने वाला है। 7 दिन में बिहार में जांच में लगभग 8473 बढ़ोत्तरी हर दिन हुई है। 7 अप्रैल को 85050 लोगों की जांच हुई थी जबकि 13 अप्रैल को 93523 लोगों की जांच हुई है।

जांच के साथ बढ रहा कोरोना का संक्रमण

बिहार में मंगलवार को 93523 लोगों की हुई जांच तो 4157 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। मंगलवार को पटना में 1205 नए मामले आए। पटना के साथ भागलपुर, गया जहानाबाद और मुजफ्फरपुर सहित लगभग एक दर्जन जिलों में संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। सोमवार को मात्र 80018 लोगों की जांच की गई थी इस कारण से मामले कम आए थे। CM नीतीश कुमार ने प्रदेश में हर दिन एक लाख लोगों की जांच का लक्ष्य दिया है।

बिहार में कोरोना का यह है हाल

मंगलवार को जो रिपोर्ट आई है उसके मुताबिक प्रदेश में 4157 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव है। इसमें पटना के 1205, भागलपुर के 346, गया के 250, जहानाबाद के 175, मुजफ्फरपुर के 218, सहरसा के 111, सारण के 171, संवेदनशील जिलों की रिपोर्ट शामिल है। इसी तरह अररिया में 42, अरवल में 43, औरंगाबाद में 77, बांका में 21, बेगूसराय में 93, भोजपुर में 47, बक्सर में 96, दरभंगा में 23, पूर्वी चंपारण में 60, गोपालगंज में 79, जमुई में 25, कैमूर में 25, कटिहार में 26, खगड़िया में 14, किसनगंज में 18, लखीयराय में 40, मधेपुरा में 44, मधुबनी में 45, मुंगेर में 96, नालंदा में 81, नवादा में 83, पूर्णिया में 65, रोहतास में 92, समस्तीपुर में 94, शेखपुरा में 15, शिवहर में 17, सीतामढ़ी में 36, सिवान में 59, सुपौल में 36, वैशाली में 57 और पश्चिमी चंपारण में 87 नए मामले आए हैं। बिहार के अलग अलग जिलों में बाहर गैर प्रांत से आए 45 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इसमें अकेले बलिया से आए 12 लोग संक्रमित पाए गए हैं।

खबरें और भी हैं...