पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से मौत के बाद अब मार रही बीमा कंपनियां:अपनों को खोने के बाद मेडिक्लेम के लिए दौड़ा रहीं बीमा कंपनियां; प्रशासन कसने जा रहा है शिकंजा, लेटलतीफी की तो कंपनियों पर होगी कार्रवाई

पटना6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

कोरोना से परिवार के सदस्य को खोने वाले अब बीमा का क्लेम पाने के लिए दौड़ रहे हैं। बीमा कंपनियां तरह-तरह की खामियां बताकर उन्हें दौड़ा रही हैं। पॉलिसी लेते समय दिखाया गया सपना अब चूर-चूर हो रहा है। बिहार में ऐसे हजारों की संख्या में लोग हैं, जो क्लेम पाने के लिए दौड़ रहे हैं। पटना के प्रमंडलीय आयुक्त के पास भी ऐसी शिकायतें मिली हें, जिस पर अब कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। ऐसी बीमा कंपनियों पर शिकंजा कसने की योजना है, जो बीमा के क्लेम के लिए पॉलिसी लेने वालों को परेशान कर रही हैं।

अगर आप भी बीमा कंपनियों की मनमानी से परेशान हैं। आपको समय पर क्लेम नहीं मिल रहा है। अब ऐसा नहीं होने पाएगा। अगर आपके साथ भी कोई कंपनी ऐसा कर रही है तो आपकी एक शिकायत पर बड़ी कार्रवाई हो सकती है। प्रशासन ने इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है। बीमा कंपनियों को निर्देश दिया गया है कि अगर वह कार्रवाई से बचना चाहती हैं तो ससमय क्लेम दें।

मेडिकल से लेकर हर क्लेम में देरी

बीमा क्लेम भुगतान में बीमा कंपनियों की अनावश्यक लेटलतीफी पर संबंधित जीवन बीमा कंपनियों पर कार्रवाई की तैयारी अब पूरी हो गई है। पटना के प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल ने सभी बीमा कंपनियों को ससमय बीमा क्लेम का भुगतान करने का निर्देश दिया है। ऐसा आदेश तब जारी किया गया है जब कोरोना पीड़ितों की मौत के बाद उनके परिजनों को बीमा कंपनियों द्वारा समय पर क्लेम का भुगतान नहीं करने की शिकायत की है। इसके साथ ही स्वास्थ्य बीमा भुगतान भी बीमा कंपनियों द्वारा समय पर नहीं किए जाने की शिकायत मिल रही है।

कार्रवाई के लिए यहां करे शिकायत

बीमा क्लेम से संबंधित यदि किसी को भी शिकायत है तो ऑफिस ऑफ द ओम्बड्समैन (OMB), (प्रथम तल, कल्पना आर्केड बिल्डिंग, बाजार समिति रोड, बहादुरपुर, पटना- 800006) को लिखित या ई मेल bimalokpal-patna@cioins.co.in पर शिकायत कर सकते हैं।

कानून का उलंघन है पॉलिसी रोकना

प्रमंडलीय आयुक्त संजय कुमार अग्रवाल का कहना है कि अनावश्यक कमियां निकाल कर भुगतान को रोकना तथा बेवजह देरी करना कानून का उल्लंघन है। ऐसे बीमा कंपनियों को चिन्हित कर बीमा नियामक प्राधिकरण से इसकी शिकायत की जाएगी तथा सक्षम प्राधिकार से बीमा कंपनियों पर कार्रवाई की अनुशंसा की जाएगी।

कोरोना से मौत पर मुआवजा नहीं देना गंभीर मामला

कोरोना से हुई मौत में बिहार सरकार द्वारा उनके परिजन को 4-4 लाख रुपए का मुआवजा दिया जा रहा है। पीड़ित के परिजनों को ससमय मुआवजा मिले इसके लिए राज्य सरकार लगातार प्रयासरत है। मुआवजा का भुगतान करने में बीमा कंपनियों द्वारा कई बार दौड़ाने की शिकायत मिल रही है और इस संबंध में प्रमंडलीय आयुक्त कार्यालय में भी शिकायतें प्राप्त हो रही है। प्रमंडलीय आयुक्त ने कहा है कि बीमा कंपनियों को कोविड महामारी के दौरान मृत एवं अन्य कारणो से मृत व्यक्तियों के परिवारों के प्रति संवेदनशील रवैया अपनाना चाहिए। प्रमंडलीय आयुक्त ने कहा है कि 10 दिनों में सभी बीमा कंपनियों के साथ बैठक की जाएगी, जिसमें लंबित मामलों की समीक्षा की जाएगी।

खबरें और भी हैं...