आनंद मोहन का जन्मदिन आज...परिवार को रिहाई का इंतजार:गणतंत्र पर ही मिलता है परिहार; मुख्यमंत्री ने भी कहा था- रिहाई का सोच रहे हैं

पटना14 दिन पहले
पूर्व सांसद आनंद मोहन की रिहाई की मांग वाली पोस्टर लिए उनकी बेटी सुरभि सिंह। (ये तस्वीर तब की है, जब आनंद मोहन का परिवार और उनके समर्थक लगातार रिहाई की मांग कर रहे थे। )

आज 26 जनवरी है। आज पूरे देश मे गणतंत्र दिवस की खुशियां मनाई जा रही हैं। वहीं, आज बिहार के बाहुबली नेता और पूर्व सांसद आनंद मोहन का जन्मदिन भी है। यह दिन आनंद मोहन के परिवार के लिए कभी काफी खास है।

बिहार सरकार से उम्मीद जताई जा रही है कि जेल में बंद आनंद मोहन को परिहार देकर उनकी रिहाई हो जाए। ऐसे में आज उनके जन्मदिन को खास बन जाता। पत्नी लवली आनन्द और विधायक पुत्र चेतन आनंद इस पल का इंतजार काफी समय से कर रहे है।

आनंद मोहन की रिहाई के बारे में सोच रहे हैं

हालांकि महाराणा प्रताप पुण्यतिथि समारोह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बात की घोषणा की थी कि वह आनंद मोहन की रिहाई के बारे में सोच रहे हैं। इस पक्ष में काम किया जा रहा है। नीतीश कुमार ने तो एक कदम आगे बढ़ते हुए कहा था कि आनन्द मोहन हमारे मित्र रहे हैं और जब वह जेल गए थे तो उनसे मिलने हम लोग गए थे। तब से परिवार को काफी उम्मीद है कि आनंद मोहन की रिहाई हो जाएगी। खास तौर 26 जनवरी को जब आनन्द मोहन जन्मदिन हो तब।

आनंद मोहन के दादा स्वतंत्रता सेनानी थे

आनंद मोहन का जन्म 26 जनवरी 1956 को बिहार के सहरसा जिले के नवगछिया गांव में एक स्वतंत्रता सेनानी के परिवार में हुआ था। आनंद मोहन के दादा एक स्वतंत्रता सेनानी थे। जेल में बंद आनंद मोहन के परिहार को लेकर परिवार ने कोर्ट से सरकार तक गुहार लगाई है। परिहार गणतंत्र दिवस और स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ही मिलता है। परिहार उनको ही दिया जाता है जिनका जेल में व्यहार कुशल हो।

गोपालगंज के डीएम जी कृष्णया हत्याकांड में उम्र कैद की सजा काट चुके आनन्द मोहन पिछले साल 15 दिनों के पैरोल जेल से बाहर आये थे। अपनी बेटी सुरभि आनन्द की सगाई के लिए जेल से बाहर आए थे तो, उस समय मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत बिहार के सभी बड़े नेता आनंद मोहन के आमंत्रण पर गए थे। इसके बाद से कयास लगाई जाने लगी थी कि आनंद मोहन जल्द ही जेल से बाहर निकलेंगे।