• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Bihar News; 'Doctors Day' Municipal Corporation Did Not Spare Even Doctors, Heavy Water Logging In The Residence Of Doctors And Administrative Officers In IGIMS

'डॉक्टर्स डे' पर नरक में धरती के भगवान:नगर निगम ने डॉक्टरों को भी नहीं छोड़ा, IGIMS में डॉक्टरों और प्रशासनिक अफसरों के आवास में भारी जलजमाव

पटना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डॉक्टरों के आवास से लेकर प्रशासनिक अफसरों का आवास 5 दिनों से जल जमाव में है। - Dainik Bhaskar
डॉक्टरों के आवास से लेकर प्रशासनिक अफसरों का आवास 5 दिनों से जल जमाव में है।

पटना नगर निगम ने धरती के भगवान कहे जाने वाले डॉक्टरों को भी नरक में डाल दिया है। कोरोना काल में जान जोखिम में डालकर मरीजों की जान बचाने वाले चिकित्सक डॉक्टर्स डे पर नरक में रहने पर मजबूर हैं। कोरोना काल में जिस अस्पताल को डेडिकेटेड बनाया गया था वहां के डॉक्टरों का यह हाल है। पूरे शहर को डुबोने वाले नगर निगम ने इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान के डॉक्टरों को भी गंदे पानी में डुबोया है। डॉक्टरों के आवास से लेकर प्रशासनिक अफसरों के आवास पर 5 दिनों से जल जमाव में है। डॉक्टर्स डे पर गुरुवार को भी यही हाल है। डॉक्टरों के विशेष दिन पर उन्हें दलदल से बाहर निकालने के लिए बुधवार को IGIMS में घंटों मंथन किया गया लेकिन संस्थान जल जमाव से मुक्त नहीं हुआ।

परिसर में जलभराव से डॉक्टरों को मुश्किल

IGIMS परिसर में भीषण जलभराव है। एक सप्ताह से हुई भारी बारिश में इंदिरा गांधी आयुर्विज्ञान संस्थान का आवासीय परिसर में भारी जलजमाव है। इसमें निदेशक का बंगला, मेडिकल सुपरिटेंडेंट का बंगला, डीन का बंगला और डॉक्टरों के स्टाफ क्वार्टर पूरी तरह से जलजमाव में है। परिसर में घर से निकलना मुश्किल है। जलजमाव इतना है कि कार से भी आवास से निकलना मुश्किल है। बारिश के कारण यहां से पानी नहीं निकल रहा है और आवास पूरी तरह से संक्रमण का कारण बन गया है। प्रशासनिक अधिकारियों के साथ डॉक्टरों को भी आवास से निकलने में समस्या हो रही है। डॉक्टरों के आवास से से तो बाहर निकलना मुश्किल हो गया है।

नगर निगम किसी को भी नहीं छोड़ रहा

नगर निगम की व्यवस्था ने पूरे पटना को जलजमाव में डुबोने का काम किया है। वह किसी को भी नहीं छोड़ रहा है। एक सप्ताह में पटना के 150 से अधिक मोहल्ले में लोगों का जीवन नरक बना हुआ है। अस्पताल से लेकर कॉलोनियों में पानी भरी है। घर से लोग निकल नहीं पा रहे हैं। पटना नगर निगम और RCD के आपसी सामंजस्य नहीं होने से डॉक्टर डे पर डॉक्टरों को गंदे पानी में ही आना जाना होगा। जलजमाव को लेकर डॉक्टरों में काफी आक्रोश है। उनका कहना है कि डॉक्टर डे पर ऐसी दुर्गति किसी की न हो। नगर निगम और आरसीडी की मनमानी के कारण ऐसा हो रहा है। अस्पताल से लेकर डॉक्टर के आवास में गंदे पानी से संक्रमण का खतरा है।

समस्या के समाधान को लेकर हुआ मंथन

बुधवार को IGIMS में समस्या के समाधान को लेकर अफसरों के बीच मंथन हुआ है। इस दौरान जल निकासी को लेकर चर्चा की गई। परिसर के अंदर जल जमाव से पूरी व्यवस्था गड़बड़ हो गई है। नगर निगम और आरसीडी के अधिकारियों को समस्या को दिखाया गया। इस दौरान पाया गया कि IGIMS के पूर्वी और दक्षिणी छोर पर जल निकासी की व्यवस्था नहीं है। संस्थान के उत्तर-पश्चिमी छोर पर जल निकासी की स्थाई व्यवस्था करनी होगी। आउटलेट को पुनाईचेक पंप हाउस एवं राजीव नगर नाला क्षेत्र में पानी के निरंतर प्रवाह के लिए व्यवस्था बनानी होगी ताकि बीच में कहीं कोई बाधा नही हो। मंथन के बाद भी गुरुवार तक जल निकासी की कोई योजना नहीं बन पाई है। IGIMS के निदेशक डॉ एन आर विश्वास, मेडिकल सुपरीटेंडेट डॉ. मनीष मंडल पटना नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा RCD के एग्जक्यूटिव इंजीनियर शशि भूषण मौजूद रहे। घंटों मंथन हुई है।

खबरें और भी हैं...