पटना में एक दिन में तीन सुसाइड:कदमकुआं में मेडिकल स्टूडेंट ने तो कंकड़बाग में सिक्योरिटी गार्ड के बेटे ने की आत्महत्या; बहादुरपुर में भी फंदे से लटकी मिली विवाहिता

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बहादुरपुर में स्थानीय लोगों की भीड़ और मौके पर पहुंची पुलिस। - Dainik Bhaskar
बहादुरपुर में स्थानीय लोगों की भीड़ और मौके पर पहुंची पुलिस।

राजधानी पटना में शनिवार को अलग-अलग हादसे में तीन की मौत हो गई। इसमें दो लोगों ने फंदे से लटकर आत्मघाती कदम उठाया, जबकि तीसरे मामले में हत्या का भी शक है, भले ही वह देखने में सुसाइड का मामला लग रहा है। मरने वाले में एक लड़की, एक महिला और तीसरा लड़का है। एक के बाद एक तीन मौतों का मामला सामने आने के बाद से राजधानी में सनसनी मच गई।

बहादुरपुर में सुसाइड के बाद परिजनों का हाल।
बहादुरपुर में सुसाइड के बाद परिजनों का हाल।

भाई के सामने तोड़ा गया हॉस्टल के कमरे का गेट

गया के मोहनपुर इलाके की रहने वाली 19 साल की स्निग्धा स्वरा पटना के नया टोला के धरारा इलाके के राधिका गर्ल्स हॉस्टल में रहती थी। पिछले एक साल से वह पटना में रहकर मेडिकल की तैयारी कर रही थी। लॉकडाउन में वो अपने घर चली गई थी। 15 दिन पहले ही वो हॉस्टल में रहने आई। शनिवार को उसके कमरे का गेट अंदर से बंद मिला। सहेलियों और हॉस्टल मैनेजमेंट के लोगों ने बाहर से काफी आवाज लगाई। जब अंदर से कोई रेस्पांस नहीं मिला तो PMCH में PG कर रहे उसके भाई को कॉल कर बुलाया गया। स्निग्धा के मोबाइल पर कई बार कॉल किया गया, पर एक बार भी कॉल रिसीव नहीं हुआ। इसके बाद भाई की मौजूदगी में कमरे का गेट तोड़ा गया। अंदर का नजारा देख हर कोई दंग रह गया। बेड शीट से बने फांसी के फंदे से स्निग्धा की लाश लटक रही थी। तब कदमकुआं थाना की पुलिस को इसकी जानकारी दी गई। हॉस्टल पहुंच कर पुलिस ने छानबीन की। थानेदार विमलेंदु के अनुसार, सुसाइड के पीछे की वजह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाई है। कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला है।

घटनास्थल पर उमड़ी स्थानीय लोगों की भीड़।
घटनास्थल पर उमड़ी स्थानीय लोगों की भीड़।

मां की मौत के बाद से डिप्रेशन में था उज्ज्वल

सुसाइड की दूसरी घटना कंकड़बाग के अशोक नगर रोड नंबर 5 की है। रोहतास के रहने वाले कमलेश सिंह आर्य भट्‌ट नॉलेज यूनिवर्सिटी में सिक्योरिटी गार्ड हैं और किराए के मकान में 18 साल के बेटे उज्जवल सिंह को लेकर रह रहे थे। शुक्रवार रात कमलेश नाइट ड्यूटी पर थे। आज जब वो अपने घर लौटे तो उज्ज्वल के कमरे का गेट अंदर से बंद मिला। काफी देर तक उन्होंने आवाज लगाई। फिर मकान मालिक आए। दोनों ने मिलकर गेट को तोड़ दिया। इसके बाद कमरे के अंदर पंखे के हुक से लटके फांसी के फंदे से उनके बेटे की लाश लटकती मिली। इसी साल उज्ज्वल ने 12th का एग्जाम पास किया था। कंकड़बाग थाना की पुलिस के अनुसार, दो साल पहले उज्ज्वल की मां का निधन हो गया था। उस वक्त से ही वो डिप्रेशन में रहने लगा था। कमरे के अंदर से किसी प्रकार का कोई सुसाइड नोट नहीं मिला।

पति समेत ससुराल वालों पर दर्ज हुआ हत्या का केस

फांसी के फंदे से लटकने की तीसरी घटना पटना के ही बहादुरपुर थाना इलाके का है, लेकिन यह मामला संदिग्ध है। बहादुरपुर गुमटी इलाके की रहने वाली 19 साल की श्रुति कुमारी की शादी को अभी दो महीने भी नहीं हुए, आज उसकी लाश ससुराल में कमरे के अंदर फंदे से लटकती मिली। 20 जून को उसकी शादी रामपुर नहर रोड इलाके में रहने वाले अमित कौशल के साथ हुई थी। मायके वालों का आरोप है कि शादी के बाद से कुछ भी सही नहीं चल रहा था। दहेज के लिए उसे प्रताड़ित किया जा रहा था। इस खेल में पति, सास, ससुर और बिहार पुलिस में नौकरी करने वाला जेठ राज कौशल भी शामिल है। मायके वालों का दावा है कि उनकी लाडली सुसाइड नहीं कर सकती है। उसकी हत्या कर के सुसाइड का रूप दिया गया है। इस कारण पुलिस ने भी शुरुआती जांच के बाद दहेज के लिए हत्या किए जाने की FIR दर्ज की है। अब पूरे मामले की जांच चल रही है। लाश को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। इसकी रिपोर्ट से भी काफी कुछ साफ होगा।

खबरें और भी हैं...