अब हर दिन देनी होगी कांटेक्ट ट्रेसिंग की रिपोर्ट:प्राइवेट लैब को रोजाना पोर्टल पर अपडेट करनी होगी कोरोना रिपोर्ट, कांटेक्ट ट्रेसिंग सेल गठित

पटना5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बिहार में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा है। सरकार युद्ध स्तर पर तीसरी लहर की तैयारी कर रही है। पटना में कोविड कंट्रोल रूम का नंबर जारी कर दिया है और प्राइवेट लैब को हर दिन रिपोर्ट अपडेट करने का आदेश दिया गया है। कांटेक्ट ट्रेसिंग को लेकर ट्रेसिंग सेल का गठन किया गया है। यह सेल कांटेक्ट ट्रेसिंग की पूरी रिपोर्ट हर दिन जिला प्रशासन को देगा।

पटना DM ने कोविड के आंकड़ों और उनकी रिपोर्ट को लेकर जिम्मेदारों को अलर्ट किया है। इसकी हर दिन मॉनिटरिंग के लिए प्राइवेट लैब को भी टेस्टिंग से संबंधित आंकड़ा प्रतिदिन पोर्टल पर अपलोड करने का निर्देश दिया गया है। पटना में अभी 9 प्राइवेट लैब को टेस्टिंग के लिए अनुमति दी गई है। कोरोना की जांच करने वाली लैब की जांच का आदेश दिया गया है। इसके लिए टीम गठित की गई है। हर दिन रिपोर्ट अपलोड नहीं करने वाले लैब के खिलाफ कार्रवाई होगी।

कोविड कंट्रोल रुम का नंबर जारी

कोविड कंट्रोल रूम निबंधन एवं परामर्श केंद्र में शुरू कर दिया गया है। फोन नंबर 0612- 22 190 80 / 224 9964 पर कोरोना से संबंधित जानकारी ली जा सकती है। इसके लिए तीन पालियों में कर्मियों की तैनाती की गई है। साथ ही कांटेक्ट ट्रेसिंग सेल को भी एक्टिव कर दिया गया है। संक्रमितों के संपर्क में आने वाले लोगों से फीडबैक लेकर आवश्यक कार्रवाई की जाएगी। पटना में कुल एक्टिव केस की संख्या 61 है। सिविल सर्जन और जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी को शहरी क्षेत्र में टेस्टिंग में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है। पटना में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र के 52 PHC/ CHC/ UPHC में कोई भी व्यक्ति जाकर अपना सैंपल दे सकता है तथा उन्हें 24 घंटे में रिपोर्ट भी मिल जाएगी। साथ ही 5 मोबाइल टीम को भी जांच में लगाया गया है।

पटना में 5 धावा दल को किया गया रवाना

मास्क और सोशल डिस्टेंस की जांच के लिए पटना में 5 धावा दल को रवाना किया गया है। ये लोगों को मास्क का प्रयोग करने के लिए जागरूक और प्रेरित करेंगे। साथ ही प्रोटोकॉल तोड़ने वालों के विरुद्ध कार्रवाई भी की जाएगी। इसके लिए पांच टीमों को पटना शहर के विभिन्न रूट पर चलाया जाएगा। भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में जागरुकता अभियान चलाने तथा मास्क का प्रयोग कराने को लेकर ही टीम को लगाया गया है।

सिटी बसों में भी मास्क काे लेकर अलर्ट किया गया है। इसकी जांच के लिए अभियान चलाया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी जिला परिवहन पदाधिकारी तथा मोटरयान निरीक्षक को दिया गया है।