पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Bihar News; Road Construction Minister Of Bihar Nitin Naveen's Mother Meera Sinha Died On 29th March In Patna

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

मंत्री नितिन नवीन की मां मीरा सिन्हा का निधन:बिहार में सर्वाधिक मतों से जीतने वाले दिवंगत नवीन किशोर सिन्हा की पत्नी और JP सेनानी के निधन पर CM ने दी श्रद्धांजलि

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन की मां मीरा सिन्हा के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार। - Dainik Bhaskar
पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन की मां मीरा सिन्हा के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

JP आंदोलन की सेनानी नवीन किशोर सिन्हा की पत्नी और पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन की मां मीरा सिन्हा का सोमवार देर रात निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार चल रही थीं। ​​​9 फरवरी 2021 से लगातार उनकी तबीयत खराब होती गई और उन्होंने 29 मार्च 2021 को दिल्ली के AIIMS में अंतिम सांस ली। उनके अंतिम वक्त में उनके पुत्र पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन, उनकी बहू, उनका पोता, उनकी दोनों बेटियां और दोनों दामाद मौजूद थे। मीरा सिन्हा का अंतिम संस्कार दीघा के जनार्दन घाट पर 31 मार्च को किया जाएगा। आज पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन अपनी मां का पार्थिव शरीर लेकर 2:30 बजे पटना पहुंचे। अंतिम दर्शन के लिए उनके शव को नितिन नवीन के सरकारी आवास बंदर बगीचा में रखा गया। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मीरा सिन्हा के पार्थिव शरीर पर पुष्प अर्पित किया। उन्होंने पथ निर्माण मंत्री की मां के निधन पर शोक व्यक्त किया।

बंदर बगीचा स्थित सरकारी आवास पर पथ निर्माण मंत्री से बातचीत करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।
बंदर बगीचा स्थित सरकारी आवास पर पथ निर्माण मंत्री से बातचीत करते मुख्यमंत्री नीतीश कुमार।

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद, राज्यसभा सांसद सुशील मोदी, उप मुख्यमंत्री तारकिशोर सिन्हा और रेणु देवी, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय, BJP के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल, प्रभारी भूपेंद्र यादव ने नितिन नवीन से फोन पर बात की और उन्हें सांत्वना दी।

1976 में हुई थी पटना के नवीन किशोर सिन्हा से शादी

औरंगाबाद की रहने वाली मीरा सिन्हा की शादी 1976 में पटना के नवीन किशोर सिन्हा के साथ हुई थी। नवीन किशोर सिन्हा युवा अवस्था में ही जेपी आंदोलन से जुड़ कर संपूर्ण क्रांति में कूद गए थे। युवा अवस्था में दोनों पति-पत्नी ने भरपूर संघर्ष किया। नवीन किशोर सिन्हा लगातार समाज के लिए काम करते रहे। ABVP के बाद जनसंघ से जुड़ने के साथ-साथ बाद में जब भाजपा अस्तित्व में आई, तो उसके प्रखर नेता बने। नवीन किशोर सिन्हा के कदम से कदम मिलाकर मीरा सिन्हा चलती रही। जीवन में कई ऐसे पड़ाव आए जब संघर्ष अपने चरम पर था तो दोनों पति पत्नी अपने तीन बच्चों नितिन नवीन, नमिता और विनीता के साथ अपने जीवन की गाड़ी को आगे बढ़ाते रहें। बाद में नवीन किशोर सिन्हा पटना पश्चिम से विधायक भी बने। जब वह विधायक बने तब भी दोनों पति पत्नी सम सामान्य लोगों की तरह अपना जीवन व्यतीत करते रहे। नवीन किशोर सिन्हा ताउम्र किराए के घर में रहे।

मां और बेटे ने मिलकर घर और क्षेत्र दोनों को संभाला

31 दिसंबर 2005 में नवीन किशोर सिन्हा का निधन हो गया। उस समय मीरा सिन्हा के ऊपर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। पुत्र नितिन नवीन इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे थे। पिता के निधन के बाद अपने घर को संभालने के लिए नितिन नवीन ने बीच में पढ़ाई छोड़ दी। फिर मीरा सिन्हा ने तय किया कि उनके पुत्र नितिन नवीन अपने पिता के विरासत को आगे बढ़ाएंगे। पटना पश्चिम के लिए भाजपा से अपने पति की खाली सीट पर अपने पुत्र नितिन नवीन को चुनाव लड़वाया। स्व. नवीन किशोर सिन्हा की ख्याति अपने क्षेत्र में इतनी ज्यादा थी कि नितिन नवीन ने उस उप चुनाव में सारे रिकॉर्ड को तोड़ दिया था। भारी मतों से नितिन नवीन विधायक बने थे। मां और पुत्र ने मिलकर अपने घर को संभालने के साथ-साथ अपने क्षेत्र को भी बखूबी संभाला। बाद में पटना पश्चिम का नाम बांकीपुर हो गया जहां से नितिन नवीन लगातार चौथी बार विधायक बने हैं और अभी बिहार के पथ निर्माण मंत्री हैं।

नितिन नवीन के मंत्री पद की शपथ लेने बाद मीरा सिन्हा की तबीयत बिगड़ी

नितिन नवीन जब मंत्री पद के शपथ के लिए जा रहे थे तो उनकी मां ने उनकी आरती उतारकर और तिलक लगाकर शपथ के लिए भेजा था। खुद मीरा सिन्हा इस शपथ समारोह में शामिल हुई थीं। जैसे ही पुत्र नितिन नवीन ने बिहार सरकार के मंत्री पद की शपथ ली वैसे ही उनकी तबीयत खराब हो गई थी। शपथ समारोह से जैसे ही वह बाहर निकली उन्हें चक्कर आ गया था। मीरा सिन्हा लगातार मधुमेह बीमारी से जूझ रही थी। उन्हें राजभवन से सीधे अस्पताल ले जाया गया। फिर बाद में उन्हें दिल्ली एम्स में भर्ती कराया गया था। 9 फरवरी 2021 से लगातार उनकी तबीयत खराब होती गई और उन्होंने 29 मार्च 2021 को दिल्ली के एम्स में अंतिम सांस ली। उनके अंतिम वक्त में उनके पुत्र पथ निर्माण मंत्री नवीन नितिन नवीन, उनकी बहू , उनका पोता, उनकी दोनों बेटियां और दोनों दामाद मौजूद थे।

पथ निर्माण मंत्री ने कहा- वह अपनी मां के लिए पटना में घर बनाना चाहते थे

दैनिक भास्कर की बात जब पथ निर्माण मंत्री और स्वर्गीय मीरा सिन्हा के पुत्र नितिन नवीन से हुई उन्होंने बताया कि वह अपने मां के लिए पटना में उनका अपना घर बनाना चाहते थे। नितिन नवीन अपनी मां को 'मइया' कहते थे और उन्होंने कहा कि वह चाहते हैं कि मइया को एक बार अपने घर में जरूर ले जाए। लेकिन, यह सपना पूरा नहीं हो सका। 2005 में मीरा सिन्हा के पति नवीन किशोर सिन्हा के मंत्री बनने की पूरी उम्मीद थी। लेकिन उस समय के राजनैतिक उलटफेर ने उन्हें मंत्री नहीं बनने दिया। 15 साल बाद जब पुत्र नितिन नवीन मंत्री बने तो, खुद मीरा सिन्हा ने इस संसार को अलविदा कह दिया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय अनुसार अपने प्रयासों को अंजाम देते रहें। उचित परिणाम हासिल होंगे। युवा वर्ग अपने लक्ष्य के प्रति ध्यान केंद्रित रखें। समय अनुकूल है इसका भरपूर सदुपयोग करें। कुछ समय अध्यात्म में व्यतीत कर...

    और पढ़ें