पिता के पटना पहुंचते फंदे से झूल गया बेटा:पलामू के लेक्चरर का बेटा करता था इंजीनियरिंग की तैयारी, मानसिक रूप से चल रहा था परेशान

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शुभ्रांशु की फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
शुभ्रांशु की फाइल फोटो।

झारखंड के पलामू जिले के रहने वाले 18 साल के शुभ्रांशु ने पटना में फंदे से लटक कर अपनी जान दे दी। उसने सुसाइड कर लिया। यह खौफनाक कदम उसने उस वक्त उठाया जब कुछ देर में ही पिता कंचन उसके पास पहुंचने वाले थे। स्टूडेंट के सुसाइड का यह मामला राजधानी में पत्रकारनगर थाना के तहत योगीपुर स्थित सत्यनारायण पथ का है। शुभ्रांशु इस इलाके के एक ब्यॉज हॉस्टल रह कर इंजीनियरिंग की तैयारी कर रहा था। वह मूल रूप से पलामू जिले के जपला इलाके का रहने वाला था।

घटना की सूचना मिलते ही पत्रकारनगर थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। कमरे की तलाशी लेने के बाद लाश को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस मामले के सामने आने के बाद से हॉस्टल में रहने वाले दूसरे स्टूडेंट्स दहशत के साए में आ गए हैं। जांच के दौरान पुलिस ने मौके पर मौजूद कई स्टूडेंट्स और हॉस्टल संचालक से पूछताछ भी की।

फोन पर बातचीत में कई बार समझा चुके थे पिता

पुलिस को पिता ने जो बयान दिया है, उसके अनुसार शुभ्रांशु पिछले कई दिनों से परेशान चल रहा था। फोन पर कई बार हुई बातचीत के दौरान पिता ने उसे समझाया भी था। पर उसने अपने पिता की बातों को इग्नोर कर दिया। इसी वजह से मंगलवार को पिता पलामू से पटना के लिए निकले। वो मिलकर अपने बेटे को समझाना चाहते थे। मगर, शुभ्रांशु ने उन्हें वक्त नहीं दिया। वो राजेंद्र नगर टर्मिनल के पास पहुंचे। उस वक्त बेटे से फोन पर बात भी हुई।

कॉल रिसीव नहीं किया तो हुआ शक

हॉस्टल तक पहुंचने के लिए बेटे ने पिता को गूगल लोकेशन भी भेजा। कुछ देर बाद जब पिता योगीपुर पहुंचे। वहां से बेटे के नम्बर पर कॉल किया। जब उसने कॉल रिसीव नहीं किया तो शक हुआ। फिर पिता ने हॉस्टल संचालक को कॉल किया। जिसके बाद हॉस्टल संचालक शुभ्रांशु के कमरे तक गए। वहां गेट अंदर से बन्द मिला। बाहर से काफी आवाज लगाई। पर अंदर से कोई रिस्पॉन्स नहीं मिला। जिसके बाद संचालक ने गेट को तोड़ दिया। तब फांसी के फंदे से लटकते शुभ्रांशु पर नजर पड़ी। इसके कुछ देर बाद ही उसके पिता पहुंच गए। कंचन पलामू में ही लेक्चरर हैं। शुभ्रांशु दो भाइयों में बड़ा था और उसने दो साल कोटा में रहकर भी पढ़ाई की थी। जबकि, छोटा भाई वर्तमान में कोटा में रहकर पढ़ाई कर रहा है।

खबरें और भी हैं...