पटना में जान से खिलवाड़:न खुद की चिंता न दूसरों की परवाह, नियम तोड़कर बन रहे खतरा, संक्रमण की रफ्तार बढ़ी तो सख्त हुआ प्रशासन

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पटना के खेतान मार्केट में लोगों की उमड़ी 
भीड़। - Dainik Bhaskar
पटना के खेतान मार्केट में लोगों की उमड़ी भीड़।

पटना में जान से खिलवाड़ हो रहा है। यहां लोगों को न खुद की चिंता है और ना ही दूसरों की परवाह है। कोरोना की दूसरी लहर में भी प्रशासन की सख्ती के बाद भी नियम टूट रहे हैं। तेजी से बढ़ रहे संक्रमण के साथ मौत के लिए कहीं न कहीं से यह लोग जिम्मेदार हैं, जो नियम का पालन ही नहीं कर रहे हैं। मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग के नियम को मानते ही नहीं है। ऐसे में प्रशासन को कड़ाई करनी पड़ रही है। 16 मार्च से अब तक 4 लाख से अधिक जुर्माना वसूला गया और 125 गाड़ियों को जब्त किया गया है।

14 अप्रैल को हुई बड़ी कार्रवाई

14 अप्रैल को 21 मौत हुई और संक्रमण के मामले भी 5 हजार के करीब पहुंच गए, लेकिन इस दिन भी लोगों की मनमानी नहीं खत्म हो रही है। बुधवार को मास्क चेकिंग में 18850 रुपए जुर्माना वसूला गया है। इसमें जिला नियंत्रण कक्ष की तरफ 2850, पटना नगर निगम द्वारा 300, थानों की तरफ से 3200, यातायात पुलिस द्वारा 50 और जिला परिवहन कार्यालय द्वारा कुल 6500 रुपए वसूला गया है।

21 दिन में 4 लाख से अधिक जुर्माना

पटना में 21 दिनों में 405950 रुपए जुर्माना मास्क नहीं लगाने वालाें से वसूला गया है। एक तरफ मास्क नहीं लगाकर अपनी और दूसरों की जान जोखिम में डाल रहे हैं। दूसरी तरफ कोरोना का बड़ा खतरा बन रहे हैं। ऐसे लोगों से जुर्माना भी वसूला जा रहा है, इसके बाद भी सुधार नहीं हो रहा है। पटना में सबसे अधिक नियम टूट रहा है। सरकार ने शाम 7 बजे तक दुकानों का समय निश्चित किया है इसके बाद भी मनमानी जारी है।

जुर्माना देने के बाद भी नहीं लगा रहे मास्क

पटना में ऐसे मामले भी सामने आ रहे हैं जिसमें लोग जुर्माना देने के बाद भी मास्क नहीं लगा रहे हैं। यातायात पुलिस और नगर निगम के कर्मचारियों का कहना है कि कई दुकानों पर ऐसा देखा गया है कि बार बार मास्क नहीं लगाने को लेकर कार्रवाई करनी पड़ रही है। एक बार कार्रवाई के बाद भी उनके अंदर सुधार नहीं आ रहा है। आंकड़ों की बात करें तो हर दिन पटना में बड़ा जुर्माना हो रहा है। 16 मार्च को 10400 वसूला गया था और वही आंकड़ा 14 मार्च को 18850 पहुंच गया। हर दिन हो रही कार्रवाई के बाद भी मनमानी जारी है।

गाड़ी जब्त करने के बाद भी पटना में मनमानी

पटना में प्रशासन से 16 मार्च को चेकिंग अभियान जारी होने के बाद से 125 गाड़ियों को जब्त किया है। इसी क्रम में 18 दुकानों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। इसके बाद भी लोगों की मनमानी कोरोना की रफ्तार बढ़ा रही है। पटना में पूरे प्रदेश के साथ गैर प्रांत से भी लोग हर दिन अधिक संख्या में आ रहे हैं। यहां मास्क का पालन ही नहीं सोशल डिस्टेंस के नियम का भी पालन नहीं हो रहा है। इस कारण से पटना के आधा दर्जन से अधिक इलाके काफी संवेदनशील हो गए हैं। सुरक्षा और संक्रमण का रफ्तार रोकने के लिए DM डॉ चंद्रशेखर सिंह ने बुधवार को आदेश जारी किया है कि गाइडलाइन तोड़ने वालों के साथ सख्ती से पेश आया जाए। उन्होंने कड़ाई और चेकिंग बढ़ाने का निर्देश दिया है। प्रशासन का कहना है कि कोविड की गाइडलाइन तोड़ने वाले खुद के साथ अपने परिवार और समाज के लिए खतरा बन रहे हैं।

खबरें और भी हैं...