बैठक / राज्य के 30 लाख परिवारों के लिए बिहार ने मांगा अनाज, पासवान ने राज्यों के खाद्य मंत्रियों के साथ की बैठक

केंद्र सरकार ने बिहार में 86 लाख 44 हजार 970 लोगों को प्रवासी मानते हुए मुफ्त अनाज दिया है। केंद्र सरकार ने बिहार में 86 लाख 44 हजार 970 लोगों को प्रवासी मानते हुए मुफ्त अनाज दिया है।
X
केंद्र सरकार ने बिहार में 86 लाख 44 हजार 970 लोगों को प्रवासी मानते हुए मुफ्त अनाज दिया है।केंद्र सरकार ने बिहार में 86 लाख 44 हजार 970 लोगों को प्रवासी मानते हुए मुफ्त अनाज दिया है।

  • केंद्रीय मंत्री ने सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की
  • पासवान ने बिहार की मांग पर विचार करने का भरोसा दिया

दैनिक भास्कर

May 23, 2020, 06:39 AM IST

पटना. बिहार में गरीबों के लिए अनाज पर छिड़ी तकरार के बीच शुक्रवार को केंद्रीय खाद्य मंत्री रामविलास पासवान और बिहार के खाद्य मंत्री मदन साहनी का आमना-सामना हुआ। केंद्रीय मंत्री ने सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग की। इस दौरान बिहार ने एक बार फिर राज्य के 30 लाख परिवारों के लिए अनाज का मुद्दा उठाया। केंद्रीय मंत्री पासवान ने बिहार की मांग पर विचार करने का भरोसा दिया। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के बाद खाद्य मंत्री साहनी ने बताया कि सभी राज्यों के खाद्य मंत्रियों को अपनी बात कहनी थी।

इसलिए हम लोगों ने सिर्फ एक ही एजेंडे पर बात की। और, केंद्रीय मंत्री के सामने एक बार फिर 30 लाख परिवारों को जन वितरण प्रणाली के जरिए अनाज दिए जाने का मुद्दा उठाया। हमने कहा कि इन परिवारों के लगभग डेढ़ करोड़ लोग अभी भी खाद्य सुरक्षा से वंचित हैं। इतने लोगों को जनगणना होने तक अनाज से वंचित तो नहीं रखा जा सकता है। इसलिए केंद्र सरकार नियमों में संशोधन करें।

लॉकडाउन को देखते हुए ऐसा करना जरूरी हो गया है। एक बात तो तय है कि पिछले 10 साल में बिहार की आबादी बढ़ी है। अगर केंद्र सरकार चाहे तो आबादी में बढ़ोतरी को ही आधार मान कर ही अनाज देने का फैसला कर सकती है, जैसे कई बार भविष्य की आबादी की गणना करके योजना तैयार की जाती है।
क्वारेंटाइन सेंटर में रहने वाले खाएंगे मिड डे मील का चावल, निर्देश जारी
स्कूलाें में रखा मिड डे मील का चावल क्वारेंटाइन में रह रहे लाेगाें काे खिलाया जाएगा। इसलिए कि अभी स्कूल बंद है। शुक्रवार को शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव आरके महाजन ने इस बारे में सभी डीएम व डीईओ को पत्र भेजा है। इसमें कहा गया है कि जनवरी से मार्च तक का खाद्यान्न उठाव कर विद्यालयों में वितरण किया जा चुका है। मिड डे मील की राशि बच्चों के खाते में भेजी जा रही है।
केंद्र ने 86.44 लाख लोगों को प्रवासी मान भेजा अनाज
केंद्र सरकार ने बिहार में 86 लाख 44 हजार 970 लोगों को प्रवासी मानते हुए मुफ्त अनाज दिया है। आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत प्रति व्यक्ति 5 किलोग्राम के हिसाब से 4322.48 टन चावल भेजा गया है। संख्या तय करने में केंद्र ने जन वितरण प्रणाली के दायरे में बिहार के 8.64 करोड़ लोगों के 10 प्रतिशत हिस्से को प्रवासी माना है। खाद्य व उपभोक्ता संरक्षण विभाग ने सभी जिलों को मई के अनाज का उठाव 31 तारीख तक कर लेने का आदेश दिया है। जिलों में तैनात कोई अधिकारी अनाज के वितरण में देर करे तो उसके खिलाफ तत्काल कार्रवाई होनी चाहिए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना