योजना / हनी मिशन के लिए 500 करोड़ के प्रावधान का बिहार को मिलेगा लाभ

Bihar will get benefit of provision of 500 crores for Honey Mission
X
Bihar will get benefit of provision of 500 crores for Honey Mission

  • मधुमक्खीपालकों को मिलेगी सुविधा, बिहार देश के अग्रणी शहद उत्पादकों में

दैनिक भास्कर

May 21, 2020, 06:19 AM IST

पटना. राज्य में मधुमक्खी पालन से रोजगार की संभावना बढ़ने वाली है। केंद्र सरकार नेशनल बीकीपिंग एंड हनी मिशन का गठन कर रही है। मधुमक्खी पालन को बढ़ावा देने के लिए अभी केंद्र ने 500 करोड़ की राशि का भी प्रावधान किया है। इसका सबसे ज्यादा फायदा बिहार को मिलेगा। देश में शहद उत्पादन में बिहार अग्रणी राज्यों में है। बिहार के शहद की ब्रांडिंग होगी। हनी मिशन बनने के बाद केंद्र से इसके लिए अधिक योजना मिलेगी। इसका सीधा फायदा मधुमक्खीपालक किसानों को मिलेगा। अभी राज्य में मधुमक्खी पालन के लिए किसानों को 75 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है।

कृषि विभाग के उद्यान निदेशालय के माध्यम किसान अनुदान मिलता है। प्रति हनी बॉक्स व हनी छत्ता की कीमत 4 हजार है। इसमें 3 हजार अनुदान मिलता है। एक किसान अधिकतम 50 हनी बॉक्स के लिए अनुदान का प्रावधान है। अभी जीविका समूह मधुमक्खी पालन में आगे आ रही है। बिहार में 5 लाख बॉक्स में मधुमक्खी पालन होता है। 50 हजार लोग जुड़े हैं।

राज्य में लगभग 20 हजार टन शहद उत्पादन होता है। हालांकि बिहार से मधुमक्खी पालन के लिए विभिन्न मौसम में उत्तरप्रदेश, मध्यप्रदेश, झारखंड व छत्तीसगढ़ राज्य में हनी बॉक्स ले जाते हैं। अधिकांश वहीं शहद भी बेच देते हैं। इस कारण राष्ट्रीय आंकड़े में नहीं जोड़ा जाता है। राष्ट्रीय आंकड़े के अनुसार देश भर में लगभग 1 लाख टन शहद का उत्पादन होता है। इसमें रस आंकड़े में बिहार यूपी, पश्चिम बंगाल, पंजाब के बाद चौथे स्थान पर है। हनी मिशन बनने से सबसे ज्यादा बिहार को लाभ होगा। राज्य में मधु उत्पादन और बढ़ेगा। युवाओं को रोजगार मिलेगा। मधुमक्खी पालकों का डाटाबेस बनेगा। इसकी जिम्मेदारी उद्यान निदेशालय को दी गई है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना