समझिए, राज्यसभा का गणित:एक-एक सीट के लिए BJP और RJD को लेना होगा सहयोगी दलों से सहायता, एक राज्यसभा MP को 41 वोट की जरूरत

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राज्यसभा चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी गई है। भारत निर्वाचन आयोग ने राज्यसभा की कुल 57 सीटों के लिए चुनाव की तारीखों का ऐलान किया है। इसमें बिहार की 5 सीटें भी शामिल हैं। अब सवाल ये उठता है कि इन पांच सीटों को चुनाव की प्रक्रिया क्या है। और इन पांच सीटों के लिए कितने- कितने वोट की जरूरत पड़ेगी। चूंकि इस चुनाव में विधान सभा के सदस्य वोटर होते हैं। 243 सदस्यों वाली इस बिहार विधानसभा में पांच सीटों पर किस गणित से चुनाव होगा इसको समझिए।

5 सीटों के लिए होने वाले चुनाव में सीधे पांच से 243 में भाग नहीं दिया जाता है। नियम के मुताबिक पांच में एक को जोड़ दिया जाता है जिसका परिणाम 6 होता है। 6 को पूरे विधानसभा के सदस्यों की संख्या से भाग दिया जाता है। जैसे -

चुनाव होना है 5 सीट पर - 5+1= 6

अब 6 का भाग 243 ( बिहार विधानसभा सदस्यों की संख्या) - 243/5 = 40.6 यानी 41

इस गणित के मुताबिक एक सीट के लिए 41 विधायकों का वोट चाहिए होगा। जिसकी संख्या जितनी होती है उतने राज्यसभा के सदस्य चुन लिए जाते हैं। अब जरा बिहार के दलगत स्थिति को समझते हुए ये समझते हैं कि किस दल से कितने राज्यसभा सदस्य चुने जाएंगे।

बिहार विधान सभा BJP की संख्या 77 है। राज्यसभा के एक सीट के लिए 41 वोट चाहिए, ऐसे में एक सीट तो आराम मिल जाएगी, लेकिन दूसरी सीट के लिए अपने सहयोगी दल से सहयोग लेना है। BJP को दो सीटों के 82 वोट चाहिए, जिसकी पूर्ति JDU और HAM मिलकर करेंगे। वहीं, JDU की संख्या 45 है तो इनके तरफ से एक सीट कंफर्म है। बाकि चार वोट ये BJP को दे सकते हैं। RJD की बात करें तो इनके पास 76 वोट है, इनका भी एक सीट आसानी राज्य सभा चला जाएगा। इनको दूसरे सीट के लिए कांग्रेस या फिर लेफ्ट दल से सहायता लेनी होगी। दूसरे सीट के लिए RJD के पास 6 वोट की कमी दिख रही है जो लेफ्ट और कांग्रेस पूरी कर सकती है।

राज्यसभा के लिए बिहार से जिन सीटों पर चुनाव होने वाले हैं, उनके सदस्यों का कार्यकाल 7 जुलाई को खत्म हो रहा है। इनमें केंद्रीय मंत्री और जदयू नेता आरसीपी सिंह के साथ आरजेडी की मीसा भारती, भाजपा के गोपाल नारायण सिंह और सतीश चंद्र दुबे और शरद यादव की सीट शामिल है। शरद यादव की सदस्यता तो 4 दिसंबर 2017 से ही खाली मानी जा रही है।

10 जून को वोटिंग और इसी दिन वोटों की गिनती पूरी होगी

चुनाव आयोग के अनुसार बिहार में 5 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव होने वाले हैं। इसके अलावा हरियाणा, झारखंड, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, कर्नाटक, ओडिशा और महाराष्ट्र जैसे राज्यों के लिए भी राज्यसभा की सीटों पर चुनाव होंगे। शेड्यूल के अनुसार 24 मई को राज्यसभा चुनाव के लिए अधिसूचना जारी होगी। 31 मई तक के उम्मीदवार अपना नामांकन पत्र दाखिल कर पाएंगे। एक जून को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी। 3 जून तक नामांकन पत्र वापस लेने का समय निर्धारित किया गया है। 10 जून को वोटिंग की तारीख रखी गई है। इस दिन सुबह 9 बजे से लेकर शाम 4 बजे तक वोटिंग होगी। 10 जून को ही शाम 5 बजे से वोटों की गिनती की जाएगी और पूरी प्रक्रिया 13 जून तक पूरी कर ली जाएगी।