पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PMCH में ब्लैक फंगस के इलाज में गड़बड़ी की जांच:ब्लैक फंगस का कैसे किया इलाज, खंगाला जा रहा राज, ढूंढा जा रहा इंजेक्शन के हर वायल का हिसाब

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल पर लग चुका है इंजेक्शन की अधिक डोज चलाने का आरोप

अब ब्लैक फंगस के इलाज की जांच होगी। PMCH में जांच चालू हो गई है। इंजेक्शन के एक-एक वायल का हिसाब खंगाला जाएगा। बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज में स्वास्थ्य विभाग की टीम जांच कर रही है। इसमें मरीजों के इलाज का पूरा रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। सरकार से मुफ्त मिली इंजेक्शन एम्फोटेरेसिन बी के बारे में पूरी पड़ताल हो रही है। इसमें मरीजों के भर्ती होने से लेकर डिस्चार्ज और भागने तक का पूरा लेखा-जोखा तैयार किया जा रहा है।

ब्लैक फंगस के इलाज को लेकर सवालों में रहा PMCH
ब्लैक फंगस के इलाज को लेकर पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल सवालों में रहा है। बिना ऑपरेशन के ही विभाग को मेजर सर्जरी की रिपोर्ट भेजी जा रही थी। इंडोस्कोपी मशीन भी नहीं थी और सर्जरी की रिपोर्ट भेजी जा रही थी। इस दौरान इंजेक्शन एम्फोटेरेसिन बी का भी गड़बड़झाला किया गया है। इंजेक्शन की अधिक डोज से मरीजों की हालत बिगड़ने का भी मामला सामने आया, जिसमें एक की मौत भी हो गई। संक्रमितों को भर्ती करने के बाद प्राइवेट हॉस्पिटल में ऑपरेशन के लिए भेजा जाता था। इसका भी खुलासा हुआ और विभाग को ऑपररेशन की जानकारी दी जाती थी।

टीम ने मांगा अब तक के इलाज का पूरा डाटा
स्वास्थ्य विभाग की टीम बुधवार को पटना मेडिकल कॉलेज पहुंची और जांच में जुट गई। बताया जा रहा है कि इसमें WHO के सदस्य भी शामिल हैं। टीम के सदस्य पहले ब्लैक फंगस वार्ड में पहुंचे और वहां से मरीजों से संबंधित पूरा डेटा मांगा। एक-एक मरीज की पूरी पड़ताल की जा रही है। जानकारी के मुताबिक जांच में भी पूरी गोपनीयता बरती जा रही है। इसकी भनक भी किसी को नहीं लगने दी जा रही है। जांच में वैक्सीन को लेकर पूरी पड़ताल चल रही है।

भास्कर ने किया था खुलासा
दैनिक भास्कर ने पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हुए गोलमाल का खुलासा किया था। इसमें यह बताया गया था कि किस तरह से मरीजों को लामा बताकर उन्हें बाहर निजी अस्पतालों में ऑपरेशन के लिए भेजा जाता है। बाद में उन्हीं मरीजों को नए रजिस्ट्रेशन पर भर्ती किया जाता है। सरकार को फर्जी रिपोर्ट भेजने का भी खुलासा दैनिक भास्कर ने किया था। इसके बाद मरीजों के लिए इंडोस्कोपी मशीन को इंस्टॉल किया गया।

खबरें और भी हैं...