पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जयप्रकाश नारायण अस्पताल का हाल:बिना रेडियोलॉजिस्ट के चल रहा हड्डी का अतिविशिष्ट अस्पताल, पीएमसीएच रेफर हो रहे मरीज

पटना14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लोकनायक जयप्रकाश नारायण सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में बिना रेडियोलॉजिस्ट के हो रहा डिजिटल एक्स-रे। - Dainik Bhaskar
लोकनायक जयप्रकाश नारायण सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल में बिना रेडियोलॉजिस्ट के हो रहा डिजिटल एक्स-रे।
  • कोविड जांच के कारण ओपीडी में आने वाले मरीजों को नहीं मिल पा रही खून संबंधी जांच की सुविधा

हड्डी का अतिविशिष्ट अस्पताल होने के बावजूद राजवंशीनगर स्थित लोकनायक जयप्रकाश नारायण अस्पताल में एक भी रेडियोलॉजिस्ट नहीं है। यहां 5 जुलाई 2019 को ही मरीजों के लिए नि:शुल्क डिजिटल एक्सेरे सेवा शुरू हुई, लेकिन इसकी रिपोर्ट की डिटेलिंग करने वाले रेडियोलॉजिस्ट की तैनाती नहीं हुई।

रेडियोलॉजिस्ट के नहीं होने से मरीजों और उनके परिजनों को एक्सरे रिपोर्ट समझने में काफी कठिनाइयां होती है। उन्हें बार-बार डिजिटल एक्सरे रिपोर्ट से संबंधित जानकारी के लिए डॉक्टर का रुख करना पड़ता है। रेडियोलॉजिस्ट के नहीं होने के कारण ओपिनियन के लिए उन्हें पीएमसीएच रेफर कर दिया जाता है। अल्ट्रासाउंड मशीन भी रेडियोलॉजिस्ट की कमी के कारण मरीजों को अपनी सेवा देने का इंतजार कर रही है। जरूरत के हिसाब से ही कार्डियोलॉजिस्ट इस मशीन का इको के लिए इस्तेमाल करते हैं।

नेपाल, असम के साथ-साथ पूर्वोत्तर राज्यों से यहां आते हैं मरीज

वर्ष 2011 में ही सरकार ने इसे आर्थोपेडिक हॉस्पिटल घोषित किया था। जबकि, 1 मार्च 2008 को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस अस्पताल की घोषणा अतिविशिष्ट अस्पताल के रूप में की थी। इस अस्पताल में सालाना लगभग एक लाख नए मरीजों का रजिस्ट्रेशन होता है। इस अस्पताल में हड्डी संबंधित बीमारियों के इलाज के लिए नेपाल, असम, पूर्वोत्तर राज्यों के साथ-साथ पूरे बिहार से मरीज आते हैं।

निदेशक बाेले-कमी जल्द पूरी हाेगी
डायरेक्टर डॉ. सुभाष चंद्रा कहते हैं, विभाग को कार्डियोलॉजिस्ट और रेडियोलॉजिस्ट की कमी के बारे में बताए एक साल से अधिक हो गए। कार्डियोलॉजिस्ट तो आ गए, लेकिन रेडियोलॉजिस्ट की कमी अब भी पूरी नहीं हुई। हालांकि, विभाग से उन्हें आश्वासन मिला है कि जल्द-से-जल्द इसकी कमी के साथ-साथ अन्य समस्याओं को भी जल्द दुरुस्त किया जाएगा। चिकित्सकों की नियुक्ति प्रक्रिया भी चल रही है।

नहीं हो पा रहा मरीजों का रूटीन टेस्ट
इस अस्पताल के ओपीडी में प्रतिदिन 300 से 350 के बीच नए मरीज आ रहे हैं। लेकिन इन मरीजों को फिलहाल खून संबंधी रूटीन टेस्ट के लिए या तो निजी लैब या फिर अन्य संस्थानों का सहारा लेना पड़ रहा है। उन्हें न तो सीबीसी, न एलएफटी, न केएफटी और न ही लिपिड प्रोफाइल की जांच सुविधा मिल पा रही। इसके पीछे की वजह कोरोना जांच में लैब टेक्नीशियन का व्‍यस्‍त होना सामने आई। हालांकि, यहां इंडोर पेशेंट को लगभग-लगभग हर प्रकार की जांच सुविधा मिल रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser