शिक्षा विभाग की बैठक में सख्त दिखे सीएम:अधिकारियों को दिया निर्देश, बोले- शिक्षकों के खाली पदों को जल्द भरें

पटना2 महीने पहले

सीएम नीतीश कुमार लगातार समीक्षा बैठक कर रहे हैं। इसी क्रम में आज सीएम नीतीश कुमार ने शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक की। बैठक के दौरान सीएम ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में सुधार में कई कदम उठाए गए है बड़ी संख्या में प्राथमिक विद्यालय एवं मध्य विद्यालय की स्थापना की गई है। विद्यालय भवनों का भी निर्माण कराया गया है।

सभी पंचायतों में उच्च माध्यमिक विद्यालय की स्थापना की गई है। इससे अब छात्र-छात्राओं को अपने पंचायत में ही उच्च माध्यमिक शिक्षा मिल सकेगी। हमलोग चाहते हैं कि छात्र-छात्राएं बेहतर ढंग से पढ़ाई करें छात्राओं के शैक्षणिक स्तर में सुधार होने से प्रजनन दर में और कमी आएगी। पहले से राज्य में प्रजनन दर घटा है।

सीएम नीतीश ने दिया निर्देश

शिक्षकों के खाली पदों को जल्द से जल्द भरने का प्रयास करें। जहां शिक्षकों की कमी है वहां शिक्षकों की जल्द बहाली की जाए ताकि छात्र छात्राओं के पाठ पाठ में कोई दिक्कत ना हो सके।

बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना का क्रियान्वयन और बेहतर ढंग से करायें छात्र-छात्राओं के बीच इसका प्रचार-प्रसार भी कराएं ताकि वे इस योजना का लाभ उठा सकें।

प्रजनन दर को कम करने में शिक्षा का बहुत महत्व है। छात्राओं के शैक्षणिक स्तर में सुधार होने से राज्य के प्रजनन दर में और कमी आएगी।

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति, अतिपिछड़ा वर्ग तथा अल्पसंख्यक वर्ग की लड़कियों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान दें।

सरकारी स्कूलों में पठन-पाठन के दौरान राष्ट्रपिता महात्मा गांधी और मौलाना अबुल कलाम आजाद के जीवन वृत्त, सिद्धांतों एवं उनके विचारों के बारे में बताया जाता है।

इसका उद्देश्य है कि नई पीढ़ी के बच्चे-बच्चियां अपने महापुरुषों और देश की आजादी के बारे में ठीक ढंग से जान सके।

इस बैठक में उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव, वित्त मंत्री विजय कुमार चौधरी, शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव साथ ही विभाग के तमाम अधिकारी मौजूद रहे।