• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Cricket Player Had Complained Against The Irregularities Of BCA In Gandhi Maidan Police Station, Case Not Registered Even After Six Months

बिहार क्रिकेट लीग से जुड़ा विवाद:खिलाड़ी ने बीसीए के खिलाफ गांधी मैदान थाने में की थी शिकायत, छह माह बाद भी केस दर्ज नहीं

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सीमा विवाद में उलझा मामला, गांधी मैदान थानेदार ने कहा-बीसीए का दफ्तर मेरे थाना इलाके में नहीं।- प्रतीकात्मक इमेज - Dainik Bhaskar
सीमा विवाद में उलझा मामला, गांधी मैदान थानेदार ने कहा-बीसीए का दफ्तर मेरे थाना इलाके में नहीं।- प्रतीकात्मक इमेज

नेशनल क्रिकेट टीम में जगह दिलाने के नाम पर 1.30 करोड़ की ठगी का विवाद बिहार से जुड़ चुका है। यह विवाद अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि बीसीए से जुड़ा एक और मामला सामने आ गया है। क्रिकेट खिलाड़ी आनंद प्रकाश ने बीसीए और बीसीएल पर अनियमितता का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि 9 जून 2021 को ही उन्होंने गांधी मैदान थाने में इस संबंध में आवेदन दिया था लेकिन अबतक एफआईआर नहीं हुई है।

आनंद प्रकाश ने कहा कि उन्होंने इस संबंध में सेंट्रल रेंज के आईजी को भी पत्र लिखा था, इसके बाद भी उचित कार्रवाई नहीं की गई। इधर गांधी मैदान थानेदार रंजीत वत्स ने कहा कि बीसीए और बीसीएल के विवाद से जुड़ा एक आवेदन दिया गया था।

हालांकि बीसीए का दफ्तर मेरे थाना क्षेत्र में नहीं पड़ता है। इस कारण हमारे यहां एफआईआर नहीं हुई। हमने वादी से कहा था कि वे संबंधित थाने में जाकर आवेदन दें। इधर वादी आनंद प्रकाश ने कहा कि गांधी मैदान की पुलिस छह महीने से मुझे जांच होने की ही बात कह रही है।

संविधान के विपरीत गवर्निंग काउंसिल के गठन का आरोप
आनंद प्रकाश ने बीसीए पर कई आरोप लगाए हैं। विवाद बिहार क्रिकेट लीग से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि बीसीए ने बीसीसीआई की सहमति के बिना ही बिहार क्रिकेट लीग का आयोजन 20 से 26 मार्च के बीच कर लिया। बीसीए के संविधान के विपरीत गवर्निंग काउंसिल का गठन किया गया था। इसमें ऐसे-ऐसे लोगों को रखा गया जिनका क्रिकेट से कोई नाता नहीं है। संविधान का उल्लंघन कर बीसीए ने एक नया खाता खोला।

यह भी आरोप लगाया गया है कि बीसीएल की उपविजेता टीम को अबतक 25 लाख रुपए नहीं दिए गए है। आवेदन में कहा गया है कि पुलिस इसकी जांच करे कि बिहार क्रिकेट लीग का पैसा किस खाते में गया और कहां से आया।

निजी स्वार्थ के लिए बदनाम करने की साजिश
बीसीए टूर्नामेंट कमेटी के चेयरमैन संजय सिंह ने कहा कि आदित्य वर्मा निजी स्वार्थ के लिए बिहार क्रिकेट संघ को बदनाम करने की साजिश कर रहे हैं। कुछ दिनों से वे बीसीए के कुछ अधिकारियों के खिलाफ साजिश कर रहे हैं। बीसीए अब पूरी तरह से कमर कस चुका है और ऐसे ब्लैकमेलरों से दो-दो हाथ करने के लिए तैयार है।

इधर, आदित्य वर्मा ने कहा कि पर्याप्त सबूत होने के बाद ही उन्होंने किसी तरह के आरोप लगाए हैं। गलत को गलत कहने में किसी प्रकार का डर नहीं है। इस अवसर पर बीसीए के पूर्व सचिव और बीसीए एडवाइजरी कमिटी के चेयरमैन अजय नारायण शर्मा ,बीसीए अधिकारी धर्मवीर पटवर्धन भी मौजूद थे। संजय सिंह ने कहा कि प्रदेश के विभिन्न जिलों और प्रखंड स्तर पर लोग क्रिकेट, हॉकी और फुटबॉल खेलते हैं।

लेकिन यहां प्रदेश स्तर, जिला और प्रखंड स्तर पर स्टेडियम नहीं है। इसके बावजूद भी बिहार से खिलाड़ी निकल रहे हैं। सरकार से मांग है कि प्रदेश में हॉकी, फुटबॉल और क्रिकेट के लिए चार-चार स्टेडियम का निर्माण कराया जाए। उन्होंने बताया कि मंगलवार को सीनियर वीमेंस क्रिकेट टीम एक दिवसीय सीनियर ट्रॉफी खेलने केलिए कोलकाता के लिए रवाना हो रही है। 20 सदस्यीय टीम जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा से 11 बजे कोलकाता के लिए उड़ान भरेगी।

खबरें और भी हैं...