पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एनटीपीसी से बिहार का केंद्रीय कोटा बढ़ा:दैनिक कोटा 4,175 मेगावाट से बढ़ कर 4,762 मेगावाट हुआ, संकट से मिलेगी निजात

पटना20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

एनटीपीसी ने बिहार का कोटा बढ़ा दिया है। अब वहां से बिहार को 4,762 मेगावाट बिजली की आपूर्ति की जाएगी। पहले वहां से बिहार के लिए 4,175 मेगावाट कोटा निर्धारित था। एनटीपीसी से कोटा बढ़ने के बाद बिहार की बाजार पर निर्भरता कम होगी और संकट से राहत भी मिलेगी।

बिहार को नवीनगर से 507 मेगावाट और उड़ीसा स्थित दरलीपाली बिजलीघर से 80 मेगावाट का कोटा तय करने के बाद यह वृद्धि हुई है। दरलीपाली से बिहार को पहले से 80 मेगावाट बिजली मिल रही है। नए कोटे के बाद वहां से कोटा बढ़कर 160 मेगावाट हो गया है।

बिहार अपनी बिजली जरुरतों के लिए पूरी तरह केंद्रीय सेक्टर पर ही निर्भर है। पिछले दिनों वह अपने सारे बिजलीघर एनटीपीसी के हवाले कर चुका है। इसके तहत कांटी, बरौनी और नवीनगर बिजलीघर शामिल हैं। ऐसे में अब उसके पास कोई बड़ा थर्मल पावर नहीं रह गया है।

केंद्रीय एजेंसी एनटीपीसी और एनएचपीसी के अलावा भूटान की बिजली से उसकी जरूरत का अधिकांश पूरा होता है। इसके अलावा वह मांग बढ़ने पर बाजार से भी बिजली खरीदता है। बिजली कंपनी को सामान्यत: रोजाना बाजार से 600 से 1000 मेगावाट बिजली खरीदनी पड़ती है।

लेकिन, एनटीपीसी से कोटा बढ़ने के बाद बाजार पर उसकी निर्भरता कम होगी। बाजार से बिजली की कीमत अनिश्चित है। पिछले दिनों कोयला संकट के कारण एनटीपीसी के बिजलीघरों में उत्पादन कम होने के बाद उसे काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा था।

खबरें और भी हैं...