पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऊंची उड़ान:दरभंगा एयरपोर्ट ने भुवनेश्वर व रायपुर को पीछे छोड़ा, 6-22 मई के बीच 7468 लोग आए-गए

पटना19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पौने सात महीने में ही दरभंगा से 221414 यात्रियों की हुई आवाजाही

पौने सात महीने पहले शुरू हुए दरभंगा एयरपोर्ट ने यात्रियों की आवाजाही में कोलकाता रीजन में, भुवनेश्वर व रायपुर एयरपोर्ट को भी पीछे छोड़ दिया। यह तब हुआ, जब कोरोना की दूसरी लहर बहुत मायनों में पिक पर रही।

इस महीने के तीसरे हफ्ते यानी 16 से 22 मई के बीच दरभंगा एयरपोर्ट की सिर्फ 56 उड़ानों से 7468 लोग आए-गए, जबकि इसी दौरान भुवनेश्वर एयरपोर्ट की 132 उड़ानों से 7092 तथा रायपुर एयरपोर्ट की 88 उड़ानों से मात्र 4191 लोगों की आवाजाही हुई। दरभंगा एयरपोर्ट, 8 नवंबर 2020 को शुरू हुआ। इस दिन बेंगलुरू से पहली फ्लाइट यहां आई थी। तब से इस महीने की 22 तारीख तक यहां से कुल 221414 यात्रियों की आवाजाही हुई है। यह कम समय में अपनी तरह का अलग रिकॉर्ड है। उड़ान स्कीम के तहत तुलना के हिसाब से यह सर्वाधिक व्यस्त एयरपोर्ट हो चुका है। पिछले 3 दिन यानी 26 मई से 28 मई के दौरान यहां से 2800 यात्रियों की आवाजाही हुई। 11 विमानों से 1329 यात्री आए; 11 विमानों से 1471 यात्री गए।

राज्य की प्रगति में सहायक

बिहार सरकार के अथक प्रयास और केंद्र सरकार के सहयोग से दरभंगा हवाई अड्डा नवंबर 2020 में चालू हुआ। देश के अनेक शहरों से मिथिलावासियों को हवाई संपर्कता सुलभ हुई। कोरोना के बावजूद राज्य के इस तीसरे हवाई अड्डा से रिकाॅर्ड संख्या में लोग आए। यह राज्य की प्रगति में सहायक होगा। -नीतीश कुमार, मुख्यमंत्री

एयर कार्गो, एयर एंबुलेंस की भी सुविधा

दरभंगा एयरपोर्ट, कोरोना काल में मिथिला से आवागमन का बड़ा सहारा रहा है। हमें विश्वास है यह एयरपोर्ट मिथिला की विकास यात्रा में मील का पत्थर साबित होगा। स्थायी टर्मिनल बनने के बाद यहां एयर कार्गो व एयर एंबुलेंस की भी सुविधा होगी। -संजय कुमार झा, जल संसाधन मंत्री

खबरें और भी हैं...