पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

दूसरी सोमवारी...:शिवालयाें में श्रद्धालुओं ने की पूजा

पटना10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • शहर के बड़े मंदिर रहे बंद, पति की लंबी आयु के लिए सुहागनों ने रखा व्रत, मंदिर में पुजारियों ने की बाबा भोलेनाथ की पूजा

सावन की दूसरी सोमवारी पर पूरा वातावरण भक्तिमय हो उठा। हालांकि काेराेना संक्रमण के कारण अधिकतर भक्तों ने घर में ही पूजा-अर्चना की। मंदिरों में जलाभिषेक पर रोक है। शहर के बड़े मंदिर बंद रहे। लेकिन गली-मोहल्लाें के मंदिरों में भक्तों ने पूजा की। सावन की दूसरी सोमवारी का सुहागन के लिए विशेष महत्व है। सुहागन अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रख पूजा-अर्चना करती हैं।

घरों में पूजा करने के बाद महिलाओं ने अपने पास के मंदिर में जाकर बाबा भोले का आशीर्वाद लिया। सोमवार होने की वजह से शिवालयों और मंदिरों को आकर्षक तरीके से सजाया गया था। मंदिर में पुजारियों ने पूजा की। लेकिन अधिकतर मंदिरों में पाबंदी के चलते सन्नाटा ही दिखा। कुछ श्रद्धालुओं ने मंदिर के मुख्य गेट पर ही पूजन सामग्री से पूजा कर दूध से भगवान शिव का अभिषेक करते हुए मंदिर की परिक्रमा भी की।

नहीं लगा साेमवारी मेला, घरों में लाेगाें ने की पूजा
पटना सिटी| कोरोना संकट के कारण इस बार गायघाट और झाऊगंज के पास पारंपरिक साेमवारी मेला नहीं लगा है। वहीं, दूसरी साेमवार काे अाम श्रद्धालुअाें के लिए शहर के शिवालयाें के कपाट बंद रहे। पुजारियों ने ही महादेव की पूजा-अर्चना की। आम लाेगाें ने घराें में भगवान शिव की आराधना, रुद्राभिषेक किया।

गायघाट स्थित गौरीशंकर मंदिर, माल्य महादेव मंदिर चैलीटाल, बाबा मुक्तेश्वरनाथ मंदिर तारिणी प्रसाद लेन, पटनेश्वर मंदिर सादिकपुर, पीतल के महादेव जी झाऊगंज, तिलकेश्वरनाथ मंदिर, शिव मंदिर पातो का बाग, पश्चिम दरवाजा शिव मंदिर, अलखिया बाबा के मंदिर में पूजा-अर्चना हुई। करनालगंज स्थित प्राचीन हनुमान दुर्गा मंदिर अन्य शिवालयों में मंदिर के पुजारी ने धार्मिक अनुष्ठान किया।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय चुनौतीपूर्ण है। परंतु फिर भी आप अपनी योग्यता और मेहनत द्वारा हर परिस्थिति का सामना करने में सक्षम रहेंगे। लोग आपके कार्यों की सराहना करेंगे। भविष्य संबंधी योजनाओं को लेकर भी परिवार के साथ...

    और पढ़ें