भास्कर पड़ताल- AC गाड़ी में बैठा रहा धावा दल:5 KM तक के सफर में टूटती रही कोरोना गाइडलाइन, भीड़ में सरकती रही गाड़ी, नहीं उतरे अफसर

पटनाएक वर्ष पहलेलेखक: मनीष मिश्रा
  • कॉपी लिंक
पटना के कदमकुआं में भीड़भाड़ वाले इलाके में धावादल की गाड़ी। - Dainik Bhaskar
पटना के कदमकुआं में भीड़भाड़ वाले इलाके में धावादल की गाड़ी।
  • मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग न होने पर कार्रवाई की है जिम्मेदारी
  • 5 से अधिक मार्केट की व्यस्त सड़कों पर सामान्य दिनों की तरह भीड़

कोरोना को लेकर सरकार हर दिन कड़े नियम बना रही है। भीड़भाड़ वाले इलाकों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराने के लिए अधिकारियों की लंबी सूची के साथ जवाबदेही तय की गई है। कोरोना प्रोटोकॉल का पालन कराने के लिए पटना में 12 से अधिक गाड़ियां 50 कर्मचारियों को लेकर घूम रही हैं। इसके बाद भी कोरोना का संक्रमण नहीं थम रहा है। दैनिक भास्कर की टीम ने प्रशासन के इस दावे की पड़ताल में शनिवार की शाम जांच और कार्रवाई करने वाली एक प्रशासन की एक गाड़ी का पीछा किया। लगभग 5 KM में भास्कर टीम गाड़ी का पीछा करती रही और इस बीच गाड़ी 500 से अधिक भीड़ वाले पटना के सबसे बड़े बाजार से होकर गुजरी लेकिन हर कदम पर टूट रहे कोरोना के प्रोटोकॉल में एक भी कार्रवाई नहीं की गई। कई जगह गाड़ी भीड़ में फंसी रही लेकिन AC ऑन कर चल रहे कर्मचारियों ने वाहन का शीशा तक नहीं गिराया।

सावधान पटना पहुंच रही कोरोना सुपर फास्ट

किस काम है ऐसा धावा दल

कदमकुआं से भास्कर की टीम ने एक धावा दल का पीछा किया। इनोवा गाड़ी को धावा दल बनाया गया था। देखने से ऐसा लग रहा था कि BR 01 P08677 नंबर से रजिस्टर्ड इनोवा गाड़ी को प्रशासन से मोटी रकम पर हायर किया होगा। इस गाड़ी में चालक के साथ एक कर्मचारी और पिछली सीटों पर एक मजिस्ट्रेट के साथ पुलिस के 2-3 जवान बैठे हुए थे। कदमकुआं से पीछा करते समय गाड़ी से अनाउंस हो रहा था कि मास्क लगाएं और सोशल डिस्टेंस का पालन करें। ऐसा नहीं करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। मास्क नहीं लगाने वालों से 500 रुपए का जुर्माना लिया जाएगा। दुकान पर मास्क और सैनिटाइजर के नियम का पालन नहीं करने वाले दुकानदारों पर कार्रवाई करते हुए दुकान बंद करा दी जाएगी। गाड़ी के आगे लगे लाउडस्पीकर से ऐसा अनाउंसमेंट हो रहा था। गाड़ी का शीशा पैक था अंदर बैठे कर्मचारियों का सुकून देखकर लग रहा था कि गाड़ी AC में ऑन है। गाड़ी कदमकुआं की तरफ से होते हुए हथुआ मार्केट की तरफ बढ़ी। इस दौरान नाला रोड मोड से लेकर हथुआ मार्केट के मोड़ तक दुकानों पर भीड़ के साथ रास्ते में लोगों के भीड़ से गाड़ी की रफ्तार 10 और 20 से आगे नहीं बढ़ पा रही थी। भास्कर की टीम बाइक से पीछा कर यही देखना चाहती थी कि गाड़ी से उतरकर कर्मचारी कब बड़ी कार्रवाई करते हैं।

पटना में कोरोना का खतरनाक संपर्क

गाड़ी चलती गई औपचारिकता पूरी होती गई

गाड़ी जाम में रेंग रही थी। हथुआ मार्केट में गाड़ी के पहुंचते ही जैसे उसका पहिया पूरी तरह से थम गया हो। सड़क की दोनों पटरियों पर दुकानदारों की भारी भीड़ थी जहां ग्राहकों की संख्या में हजारों में थी। इस दौरान वाहनों से आने-जाने वालों के चेहर पर भी मास्क नहीं था लेकिन अनाउंसमेंट के अलावा कर्मचारी कुछ नहीं कर रहे थे। कर्मचारी गाड़ी से उतरने की भी हिम्मत नहीं कर पा रहे थे।

एक घंटे में 5 KM का सफर, रेंगती धावा दल की गाड़ी खाली हाथ

कदमकुआं से खेतान मार्केट पहुंचने में धावा दल को एक घंटे से अधिक का समय लग गया। ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि गाड़ी की रफ्तार क्या रही होगी और सड़क पर जाम किस हद तक रहा होगा। हथुआ मार्केट और चूड़ी मार्केट के साथ खेतान मार्केट में भीड़ के आगे कोरोना की हर गाइडलाइन छोटी दिख रही थी। यह कोई भी दुकान ऐसी नहीं थी जहां लोगों की भीड़ नहीं लगी हो। पटरी पर दुकानदारों के आसपास तो भारी भीड़ जमा थी। कोई भी नियम का पालन नहीं कर रहा था। भीड़ में 50 प्रतिशत लोग के फेस पर मास्क भी नहीं दिख रहा था। गाड़ी काफी देर तक खेतान मार्केट में फंसी रही लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। दुकानों पर नियम टूट रहा था लेकिन एक भी दुकान पर कार्रवाई नहीं की गई।

न तो मास्क पर जुर्माना और ना ही भीड़ पर दुकान पर कार्रवाई

हथुआ मार्केट और चूड़ी मार्केट के साथ खेतना मार्केट में अप्रत्याशित भीड़ के बाद भी कार्रवाई नहीं करने वाला धावा दल अशोक राजपथ पहुंचा तो यहां भी लंबा जाम और लोगों की भीड़ देखने को मिली। यहां भी गाड़ी एक भी जगह नहीं रुकी और न ही शीशा ही नीचे उतरा। गाड़ी कारगिल चौक की तरफ बढ़ गई। ऐसे में कोरोना को लेकर किए जा रहे दावों की हकीकत जाना जा सकता है और यह भी अंदाजा लगाया जा सकता है कि गाड़ियों को लगाकर डीजल-पेट्रोल में इतना पैसा फूंकने के बाद भी धावा दल क्या कर रहा है।