• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • District Land Acquisition Office Making Illegal Recovery By Raising Objection In Patna; Bihar Bhaskar Latest News

भू अर्जन विभाग का खेल देखिए:जिला भू अर्जन कार्यालय खुद आपत्ति डलवाकर कर रहा अवैध वसूली, महीनों तक लटकाए रखता है मामला

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
विवेक कुमार सिंह, राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव। - Dainik Bhaskar
विवेक कुमार सिंह, राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव।

भू अर्जन विभाग में बड़ा खेल चल रहा है। कार्यालय में कागज पर कागज मांगकर लोगों को महीनों दौड़ाया जा रहा है। जिला भू अर्जन कार्यालय से ही आपत्ति डलवा दी जा रही है और फिर अवैध वसूली की जा रही है। ऐसे मामलों को लेकर राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह इस मामले में अपना कड़ा तेवर दिखाया है।

सोमवार को जिला भू-अर्जन पदाधिकारियों के साथ शास्त्रीनगर स्थित सर्वे प्रशिक्षण संस्थान में कहा अब मनमानी नहीं चलेगी। भू-अर्जन के मामलों में रैयतों को मुआवजा भुगतान के संबंध में सेलेक्टेविज्म को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

मनमानी पर भुगतना होगख खामियाजा

आदेश जारी किया गया है कि अगर जिला भू अर्जन पदाधिकारी भुगतान में पारदर्षिता नहीं बरतेंगे तो उन्हें इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। कुछ लोगों को भुगतान करने के नाम पर कागज पर कागज मांगा जा रहा है। महीनों-सालों तक दौड़ाया जाता है। विभाग इस तरह की प्रवृति को ध्यान से देख रहा है। कई बार यह भी देखने को मिला है कि जिला भू अर्जन ऑफिस खुद ही आपत्ति डलवा देता है और नाजायज मांगों के पूरा होने पर भुगतान कर देता है।

राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने ने निदेशक भू-अर्जन सुशील कुमार को कहा कि 31 दिसंबर तक के भुगतान के कागजातों की गहन जांच कराई जाए। खासकर उन मामलों की जिसमें रैयतों का मुआवजा लंबित है। इसके लिए विभाग से 9 पदाधिकारियों के नेतृत्व में टीम के गठन का निदेष दिया गया।

जिलों का दौरा करने का आदेश

आदेश दिया गया है कि 9 अधिकारी उन जिलों का दौरा करेंगे जहां मुआवजा भुगतान की रफ्तार बेहद सुस्त है। अपर मुख्य सचिव ने भू अर्जन के मामलों में अंचल द्वारा रैयतों के लैंड रिकाॅर्ड्स को अपडेट करने में की जा रही लापरवाही को लेकर नाराजगी जाहिर की। 2013 के एक्ट में साफ प्रावधान है कि धारा-11 के तहत अधिसूचना होने के 60 दिनों के भीतर जमाबंदी से अवांछित इंट्री को हटाना देना है। ताकि मुआवजा देने में परेशानी नहीं हो और सही लोगों को ही मुआवजा मिले। किन्तु व्यवहार में इस काम में अंचल अधिकारियों द्वारा कोताही बरती जाती है।

आन्ध्रा की टीम का बिहार दौरा

बिहार में भूमि सर्वेक्षण का काम देखने आई आन्ध्र प्रदेश की टीम ने आज भू अभिलेख और परिमाप निदेशालय में अधिकारियों के साथ लंबी वार्ता की। निदेशालय में निदेषक भू अभिलेख जय सिंह और एलआईएस सलाहकार अखिलेष कुमार झा एवं ने उन्हें बिहार माॅडल की बारीकियों की जानकारी दी। दोपहर के बाद टीम ने गुलजार बाग जाकर नक्षों के डिजिटाइजेशन, उनको रखने और उनको आम लोगों को उपलब्ध कराए जाने के तरीकों की गौर से देखा।

आंध्र प्रदेश की 4 सदस्यीय टीम में टी त्रिविक्रम राव, एम वी रंगा प्रसाद सर्वे के सहायक निदेशक और एम पार्थसारथी एवं के चंदा शेखर सर्वे के डिप्टी इंस्पेक्टर हैं। यह टीम कल मंगलवार को विभिन्न जिलों का दौरा कर वहां शिविर में चल रहे भूमि सर्वक्षण के कार्य का जाएजा लेगी।

खबरें और भी हैं...