पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सड़कों की पड़ताल:50% सड़कें खोद दी, जल्द ठीक न हुईं तो नमामि गंगे में हम सब डूबेंगे

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये है प्रेमचंद गोलंबर - Dainik Bhaskar
ये है प्रेमचंद गोलंबर
  • पहली बार- 75 वार्ड पार्षदों के साथ मिलकर दैनिक भास्कर टीम ने की पूरे शहर की सड़कों की पड़ताल
  • नमामि गंगे परियोजना, हर घर नल और ऊर्जा गंगा परियोजना के लिए खोदी सड़कें
  • शहर की 2540 किमी सड़कों में से करीब 1250 किमी पर चल रहा है काम

अगर आप अपने इलाके में खोदी गई सड़कों से बचकर बड़ी मुश्किल से निकल रहे हैं तो आपको जानकार ये हैरानी होगी कि 50% पटना की लगभग यही स्थिति है। नमामि गंगे परियोजना, हर घर नल व ऊर्जा गंगा परियोजना के लिए एक साथ पूरे शहर की सड़कों को जगह-जगह खोद डाला गया। हालात ये कि कई इलाकों में तो गाड़ियों से जाना जोखिम भरा काम हो गया है। दैनिक भास्कर की 4 टीमों ने 7 दिन में 75 वार्डों के 75 पार्षदों की मदद से सड़कों की स्थिति को जाना।

सड़कों की स्थिति का एक उदाहरण शहर के पॉश इलाके पाटलिपुत्र कॉलोनी से जानिए। यहां जाने के लिए 4 सड़कें हैं और पिछले एक हफ्ते में ये चारों सड़कों को काट दिया गया। इनमें दो सड़कों पर कहीं-कहीं मिट्‌टी भरकर लेवलिंग की कोशिश की गई। लेकिन स्थिति ये कि मिट्‌टी कई जगहों पर इतनी धंस गई कि अगर आपने जरा भी अनदेखी की तो गाड़ी फंसने की संभावना 100% होगी। जैसा कि अक्सर इन सड़कों पर देखा जाता है। कमोबेश यही स्थिति शहर के बाकी इलाकों की भी है। अभी भी राजधानी की 2540 किलोमीटर सड़कों में से 1250 किमी सड़ाकें कटी हुई हैं, जिसपर कुछ न कुछ काम हो रहा है। री-स्टोर की गई सड़कों को मिट्‌टी, गिट्‌टी से भर दिया गया, जिसपर कई जगह तो पैदल चलना भी मुश्किल है। लगभग सभी पार्षद एकसुर में कहते हैं कि खोदी गई सड़कें अगर जल्द ठीक नहीं कि गई तो बारिश के साथ हम सब इसमें डूबेंगे।

सरकार की चेतावनी ​​​​​​-​सड़कों को काटने के 1 हफ्ते में दुरुस्त करना संबंधित एजेंसी की जिम्मेदारी

शहर के हालात- छह माह से सड़कें काटकर छोड़ीं, कहीं मिट्‌टी-गिट्‌टी भरकर छोड़ा...रोज हादसे

मेयर कहती हैं- सरकार से शिकायत की...पर कार्रवाई नहीं हो रही

मेयर सीता साहू का कहना है कि एजेंसियों के स्तर पर नियम के अनुसार काम नहीं होने से परेशानी बढ़ी हुई है। इस संबंध में निगम प्रशासन की ओर से लगातार सरकार के स्तर पर मामला उठाया गया है। नगर विकास मंत्री व प्रधान सचिव को स्थिति की जानकारी दी गई है। बुडको को निर्देश दिया गया है कि एक मुहल्ले में काम पूरा होने और सड़क के रिस्टोर होने के बाद ही दूसरे सड़क को काटा जाए। लेकिन, सभी सड़कों को एक साथ काटकर उसे लंबे समय से छोड़ा गया है। बुडको के साथ बैठक में भी निगम प्रशासन की ओर से यह मामला उठा है, लेकिन कार्रवाई नहीं हो पा रही है।

आयुक्त के निर्देश- एक सड़क का काम पूरा करके ही दूसरी को खोदें

प्रमंडलीय आयुक्त संजय अग्रवाल के आदेश को भी एजेंसियों की ओर से नहीं माना जा रहा है। 25 नवंबर 2020 को प्रमंडलीय आयुक्त ने समीक्षा के क्रम में आदेश दिया था कि एक सड़क पर शुरू सीवरेज निर्माण का कार्य पूरा होने के बाद ही नई सड़क पर सीवरेज निर्माण के लिए खुदाई का कार्य किया जाए। हालांकि, उनके निर्देश के बाद भी उचित कार्रवाई नहीं हो पा रही है। पूर्व डिप्टी मेयर विनय कुमार पप्पू का कहना है कि इस मामले को निगम बोर्ड की बैठक में भी उठाया गया है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हो पाई है।

वीआईपी सड़कों जैसा काम अन्य जगह भी हो

जलजमाव की स्थिति किसी से छुपी नहीं। अभी दो महीने का वक्त है, लेकिन इस बीच अगर थोड़ी बारिश भी हुई तो इन रास्तों में ये समझना मुश्किल होगा कि पत्थर कहा हैं और गड्‌ढे कहां? बेली रोड, बोरिंग रोड जैसे मुख्य सड़कों पर ऊर्जा गंगा योजना के तहत कार्य पूरा होने के तुरंत बाद उसे दुरुस्त कराया गया। इसके अलावा पेयजलापूर्ति पाइपलाइन बिछाने के बाद भी सड़क तुरंत ठीक की जा रही है। अगर ऐसी तत्परता बाकी जगहों पर भी दिखाई जाए तो पटना की आधी आबादी को रोज इन गड्‌ढों से गुजरने जैसे खतरे से निजात मिल जाएगी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - कुछ समय से चल रही किसी दुविधा और बेचैनी से आज राहत मिलेगी। आध्यात्मिक और धार्मिक गतिविधियों में कुछ समय व्यतीत करना आपको पॉजिटिव बनाएगा। कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती है इसीलिए किसी भी फोन क...

    और पढ़ें