• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • During The Construction Of Ashok Rajpath Double Decker Elevated Road, Traffic Will Be One Way, Piling Load Test Was Successful, Construction Work Will Now Speed Up.

2024 के अंत तक पूरा करना है:अशोक राजपथ डबल डेकर एलिवेटेड राेड के निर्माण के दाैरान वनवे होगा ट्रैफिक, पायलिंग लोड टेस्ट रहा सफल, निर्माण कार्य में अब तेजी आएगी

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अशोक राजपथ पर डबल डेकर एलिवेटेड रोड का निर्माण कार्य अब तेजी से होगा। - Dainik Bhaskar
अशोक राजपथ पर डबल डेकर एलिवेटेड रोड का निर्माण कार्य अब तेजी से होगा।

अशोक राजपथ पर डबल डेकर एलिवेटेड रोड का निर्माण कार्य अब तेजी से होगा। पिछले साल 4 सितंबर को भूमिपूजन के बाद से प्री एक्टिविटी का काम चल रहा था। इसमें मिट्टी की जांच के साथ ही पायलिंग लोड टेस्ट शामिल है। इंजीनियरों के मुताबिक पायलिंग लोड टेस्ट सफल रहा है। इस प्राेजेक्ट पर 422 करोड़ खर्च हाेंगे। निर्माण कार्य के दौरान अशोक राजपथ का ट्रैफिक वनवे रहेगा। करगिल चौक से एनआईटी तक बनने वाले इस डबल डेकर एलिवेटेड रोड काे 2024 के अंत तक पूरा करने का लक्ष्य है।

पहले तल की लंबाई 1.50 और दूसरे तल की 2.20 किमी, दोनों की चौड़ाई 2 लेन की
डबल डेकर एलिवेटेड रोड के पहले तल की लंबाई 1.50 किमी और दूसरे तल की 2.20 किमी होगी। पहले तल से लोग एनआईटी की तरफ से गांधी मैदान आएंगे। वहीं दूसरे तल से गांधी मैदान की ओर से एनआईटी की तरफ जाएंगे। दोनों तल की चौड़ाई 2 लेन की होगी। इसे लोकनायक गंगा पथ से जोड़ा जाएगा। इसके लिए कृष्णा घाट या इंजीनियरिंग कॉलेज के पास रास्ता बनाया जाएगा। इस डबल डेकर फ्लाईओवर के नीचे दोनों तरफ सर्विस रोड होगा।

पर्याप्त जगह नहीं, इसलिए डबल डेकर
ट्रैफिक के दबाव के चलते अशोक राजपथ में जाम की स्थिति बनी रहती है। इस हिस्से में डबल डेकर बनने से अशोक राजपथ पर गाड़ियों का लोड कम होगा और ऊपर-नीचे दोनों तरफ से वाहन चलेंगे। अशोक राजपथ पटना का सबसे व्यस्त रोड माना जाता है। यहां पीएमसीएच, पटना विवि, पटना कॉलेज, साइंस कॉलेज, बीएन कॉलेज, एनआईटी कॉलेज सहित पटना साहिब जाने के लिए भी इसी रास्ते का सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाता है।

वहीं इस मार्ग में बने ज्यादातर घर कई दशकों पुराने हैं, साथ ही घनी आबादी है, जो मार्ग से बेहद सटे हुए हैं, जिसके कारण इस रास्ते की चौड़ाई नहीं बढ़ सकती। जबकि गाड़ियों की संख्या बढ़ती जा रही थी। जिससे हर दिन जाम की समस्या का सामना करना पड़ता है।

खबरें और भी हैं...