पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना ने छीना जिनका रोजगार, वे पेड़ लगाकर कमाएंगे पैसा:पटना जिला प्रशासन ने रोजगार सृजन की तैयारी शुरू की, जॉब कार्ड जारी करने पर दिया जा रहा जोर

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पौधरोपन की सांकेतिक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
पौधरोपन की सांकेतिक तस्वीर।

कोरोना ने जिनका रोजगार छीन लिया है, उन्हें अब गांव में ही पैसा कमाने का मौका मिलेगा। सरकार ने प्रवासियों के रोजगार को लेकर विशेष तैयारी की है। इसी के तहत पटना में जॉब कार्ड जारी करने पर विशेष जार दिया जा रहा है। पटना जिला प्रशासन ने रोजगार सृजन की जो तैयारी की है, उसके मुताबिक योजनाओं पर मस्टररोल जारी कर मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराना है। प्रत्येक ग्राम पंचायत में कम से कम पांच जल संरक्षण की योजनाओं को प्रारंभ कर रोजगार उपलब्ध कराना है। पौधरोपण की योजनाओं में प्रवासी को प्राथमिकता देना है। सतत जीविकोपार्जन के लिए व्यक्तिगत लाभ की योजनाओं जैसे पौधरोपण, पशु शेड, बकरी शेड, मुर्गी शेड, वर्मी कंपोस्ट में प्रवासियों को प्राथमिकता के आधार पर रोजगार उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है।

रोजगार के साथ विकास पर होगा काम
पटना DM डॉ चंद्रशेखर सिंह का कहना है कि गांवों का विकास एवं प्रवासियों को रोजगार देने के लिए जल संरक्षण, पौधरोपण सहित ग्रामीण विकास की विभिन्न योजनाओं को मनरेगा के तहत संचालित किया जाएगा। इसके लिए तेजी से जॉब कार्ड का निर्माण किया जाना है। DM का कहना है कि मनरेगा योजना अंतर्गत वित्तीय वर्ष 2021-22 में कुल 1429246 मानव दिवस सृजित किए गए हैं। मई माह में कुल 802300 मानव दिवस सृजित हुए हैं। इतना ही नहीं, रोजगार करने के इच्छुक व्यक्तियों को जॉब कार्ड निर्गत कर स्थानीय एवं प्रवासी मजदूरों को रोजगार देने की प्रक्रिया लगातार जारी है। इस क्रम में उल्लेखनीय है कि जिला अंतर्गत कुल सक्रिय जॉब कार्ड धारियों की संख्या 216736 है।

अप्रैल में भी दिया गया काम
अप्रैल और मई में जारी किए गए जॉब कार्ड की संख्या 2957 है। प्रवासी मजदूरों को जारी किए गए जॉब कार्ड की संख्या 499 है, जिसमें से 472 प्रवासी मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराए गए हैं। प्रवासी मजदूर के द्वारा सृजित किए गए कुल मानव दिवस की संख्या 6608 है। जिला अंतर्गत प्रतिदिन औसतन 31,000 मजदूर कार्य में संलग्न हैं। जल जीवन हरियाली सरकार की महत्वाकांक्षी योजना है। इसके लिए मनरेगा योजना के तहत कार्यों को गति प्रदान की गई है। जल जीवन हरियाली अभियान के अंतर्गत मनरेगा के द्वारा संचालित योजनाओं की संख्या 388 है। इन योजनाओं की मॉनिटरिंग कर प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया गया है।

हरियाली से लाएंगे ऑक्सीजन
मनरेगा के तहत धरती को हरे-भरे पेड़ों से लैस करने के लिए पौधरोपण अभियान को गति प्रदान किया जा रहा है। इसके लिए वित्तीय वर्ष 2021-22 में मनरेगा के तहत कुल 390880 पौधे लगाए जाने की परियोजना है, जिसमें काष्ठ प्रजाति के 227850 पौधे, फलदार प्रजाति के 147030 एवं अन्य प्रजाति के 16000 पौधे शामिल हैं। 5 जून 2021 को विश्व पर्यावरण दिवस को जिले के सभी प्रखंडों में पौधरोपण अभियान प्रारंभ हो चुका है। सभी प्रोग्राम पदाधिकारी को प्रखंड अंतर्गत पौधरोपण अभियान को गति प्रदान करने का निर्देश दिया गया है। उप विकास आयुक्त के स्तर पर मनरेगा संचालित योजनाओं की प्रभावी मॉनिटरिंग की जा रही है तथा योजनाओं का प्रभावी कार्यान्वयन सुनिश्चित किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...