पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Education Department Will Send Vacancy To BPSC In October, Advertisement Will Be Published After 15 Days, Women Will Be Appointed On 16 Thousand Headmaster head Teacher Posts Out Of 45852

शिक्षा विभाग अक्टूबर में बीपीएससी को भेजेगा रिक्ति:इसके 15 दिनों बाद प्रकाशित होगा विज्ञापन, 45852 में से 16 हजार प्रधानाध्यापक-प्रधान शिक्षक पदों पर महिलाओं की होगी नियुक्ति

पटना12 दिन पहलेलेखक: पंकज कुमार सिंह
  • कॉपी लिंक
2022 में स्कूलों को मिल जाएंगे प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक। - Dainik Bhaskar
2022 में स्कूलों को मिल जाएंगे प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक।

45852 प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक बहाली के लिए आवेदन लेने की प्रक्रिया दिसंबर तक शुरू हो जाएगी। शिक्षा विभाग अक्टूबर में बीपीएससी को प्राथमिक विद्यालय में 40518 प्रधान शिक्षक और उच्च माध्यमिक विद्यालय में 5334 प्रधानाध्यापक की रिक्ति भेजेगा। शिक्षा विभाग ने इसकी तैयारी तेज कर दी है।

दोनों पद नए संवर्ग के हैं, इसलिए रोस्टर क्लियरेंस में परेशानी नहीं होगी। सामान्य प्रशासन विभाग के आरक्षण प्रावधान के अनुसार 35 प्रतिशत महिला प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक होंगी। 16 हजार प्रधान शिक्षक व प्रधानाध्यापक पद पर महिलाओं की नियुक्ति होगी।

अन्य वर्गों के लिए भी आरक्षण का प्रावधान होगा। प्रधान शिक्षक का मूल वेतन 30500 रुपए निर्धारित किए हैं। यानी डीए, एचआरए सहित अन्य भत्ता जोड़कर प्रतिमाह लगभग 45 से 47 हजार रुपए मिलेंगे। प्रधानाध्यापक का मूल वेतन 35000 निर्धारित है।

इसमें डीए व एचआरए सहित अन्य भत्ता जोड़ने के बाद लगभग 50 से 52 हजार रुपए प्रतिमाह मिलेंगे। बीपीएससी के परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार के अनुसार शिक्षा विभाग से रिक्ति मिलने के 15 से 20 दिनों के अंदर विज्ञापन प्रकाशित कर दी जाएगी।

विज्ञापन प्रकाशन के बाद योग्य शिक्षकों को एक माह तक आवेदन का मौका दिया जाएगा। आवेदन आने के बाद स्क्रूटनी कर परीक्षा आयोजन में लगभग तीन माह लग जाएंगे। माना जा रहा है कि 2022 के नए सत्र में प्राथमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों को प्रधान शिक्षक और प्रधानाध्यापक की नियुक्ति हो जाएगी।

दोनों पदों की बहाली के लिए 150-150 वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे। प्रत्येक प्रश्न एक अंक के होंगे। 0.25 प्रतिशत निगेटिव मार्किंग होगी। यानी चार प्रश्न के गलत उत्तर देने पर एक अंक कटेंगे। दो घंटे की परीक्षा होगी। परीक्षा में संबंधित हिंदी, अंग्रेजी, गणित, सामान्य अध्ययन और शिक्षक एप्टीट्यूट से जुड़े प्रश्न पूछे जाएंगे।

प्रधान शिक्षक पद के लिए योग्यता
40518 प्राथमिक स्कूलों में प्रधान शिक्षक की नियुक्ति के लिए निजी स्कूलों के शिक्षकों को मौका नहीं मिलेगा। पंचायत या नगर प्रारंभिक शिक्षक के पद पर न्यूनतम 8 साल तक लगातार सेवा कर चुके शिक्षक आवेदन कर सकेंगे। पंचायतीराज संस्था एवं नगर निकाय संस्था के तहत स्नातक शिक्षक, जिनकी सेवा संपुष्ट है, यानी जो दो साल से अधिक कार्य कर चुके हैं, वे आवेदन कर सकेंगे। वर्ष 2012 या उसके बाद नियुक्त शिक्षक के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण होना आवश्यक है। मान्यताप्राप्त विवि से कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक उत्तीर्ण होना चाहिए।

प्रधानाध्यापक के लिए योग्यता
न्यूनतम 31 और अधिकतम 47 वर्ष आयु के शिक्षक प्रधानाध्यापक के लिए आवेदन के पात्र होंगे। वर्ष 2012 या उसके बाद नियुक्त शिक्षक के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा में उत्तीर्ण होना आवश्यक है। मान्यताप्राप्त विवि से कम से कम 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातकोत्तर उत्तीर्ण होना चाहिए। मौलाना मजहरूल हक अरबी व फारसी विवि, राज्य मदरसा शिक्षा बोर्ड द्वारा जारी आलिम की डिग्री और केएसडीएस की शास्त्री की डिग्री को स्नातक के समतुल्य माना जाएगा। अभ्यर्थी को बीएड या बीएएड या बीएससीएड उत्तीर्ण होना चाहिए।

दोनों ही पद नए संवर्ग के, रोस्टर क्लियरेंस आसान

  • प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षकों की जल्द बहाली पूरा कराने का लक्ष्य है। अगले माह बीपीएससी को रिक्ति भेज दी जाएगी। इसकी तैयारी चल रही है। दोनों ही पद नए संवर्ग के हैं, इसलिए रोस्टर क्लियरेंस में समस्या नहीं है। सरकार का लक्ष्य है अगले सत्र से स्कूलों में प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक नियुक्ति कर दिया जाए। -संजय कुमार, शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव

बहाली के लिए ये अनुभव होंगे मान्य

  • राज्य सरकार के स्कूल में पंचायती राज संस्था एवं नगर निकाय संस्था के तहत उच्च माध्यमिक विद्यालय में न्यूनतम 8 वर्ष और माध्यमिक स्कूल में शिक्षक के पद पर न्यूनतम 10 वर्ष की लगातार सेवा।
  • सीबीएसई, आईसीएसई, बीएसईबी से स्थायी संबद्धता प्राप्त स्कूल में उच्च माध्यमिक विद्यालय में शिक्षक के पद पर न्यूनतम 10 और माध्यमिक विद्यालय में 12 वर्ष की लगातार सेवा योगदान की तिथि या प्रशिक्षण अर्हता प्राप्त करने की तिथि जो बाद की तिथि है, इसके आधार पर गणना होगी।
खबरें और भी हैं...