परिचर्चा:गोहिल पटना पहुंचे, सीटाें पर सहयाेगी दलों से करेंगे वन-टू-वन चर्चा

पटनाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • सदाकत आश्रम में तीन दिन रहेंगे, पार्टी के सक्रिय कार्यकर्ताओं से बातचीत के बाद कांग्रेस वर्किंग कमेटी, इलेक्शन कमेटी और कैंपेन कमेटी की करेंगे अहम बैठक

बिहार महागठबंधन को समेटने कांग्रेस के नेता और बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल मंगलवार से बिहार में रहेंगे। महागठबंधन में कांग्रेस की क्या हैसियत हो, इसके लिए वे सक्रिय कांग्रेसी कार्यकर्ता से सबसे पहले मिलेंगे और उनकी राय जानेंगे। वे तीन दिनाें तक सदाकत आश्रम में ही रहेंगे और कांग्रेस वर्किंग कमेटी, इलेक्शन कमेटी और कैंपेन कमेटी की अहम बैठक करेंगे। उन बैठकों में कांग्रेस की संभावित सीटों और सहयोगी दलों की जरूरत वाली सीटों पर वन-टू-वन चर्चा होगी। लगातार 48 घंटे तक बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर होने वाली इन महत्वपूर्ण बैठकों से निकले नतीजों के आधार पर महागठबंधन के सहयोगी दलों राजद, हम, रालोसपा और वीआईपी से एलांयस की सीटों पर बात शुरू करेंगे।  कांग्रेस एक महीने में एलायंस के हर पहलु पर चर्चा पूरी कर मजबूती से विधानसभा चुनाव में उतरने का एेलान कर चुकी है। राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी बिहार प्रदेश कांग्रेस सलाहकार समिति की बैठक में 31 जुलाई तक एलायंस की सीटें तय करने का निर्देश दे चुके हैं। उन्होंने स्पष्ट हिदायत दी है कि लोकसभा चुनाव वाली गलती न दोहराते हुए इसी महीने महागठबंधन की सीटें तय कर सभी नेताओं को गांवों में उतर जाना है।

मांझी ने 10 तक टाली अपनी कोर कमेटी की बैठक  
इधर, हम सेक्युलर के अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने साेमवार काे अपने आवास पर कोर कमेटी की बैठक बुलाई। महागठबंधन में अपनी बात को अनसुना होता देख मांझी ने अपने नेताओं से एनडीए की तरफ जाने की संभावना पर भी चर्चा की। हालांकि, बैठक के बीच में ही कांग्रेस में उनके शुभचिंतक बिहार के एक महत्वपूर्ण नेता ने गोहिल के पटना आने की सूचना देते हुए 3 दिनों तक समन्वय समिति के गठन को लेकर धैर्य रखने की सलाह दी। फिर मांझी बैठक समाप्त कर तीन दिनों के लिए पटना से गया के लिए रवाना हो गए और कोर कमेटी की बैठक 10 जुलाई को तय कर गए। इसके पहले जीतनराम मांझी ने 26 जून को अपनी पार्टी के नेताओं के साथ बैठक की थी। समन्वय समिति गठन के मामले में उनके अल्टीमेटम की लगातार दो डेडलाइन खत्म हो चुकी है। पहला अल्टीमेटम 25 जून और फिर 2 जुलाई तक दिया गया था। मांझी का आरोप है कि राजद महागठबंधन को अपनी शर्तों पर चलाना चाहता है, जो उन्हें मंजूर नहीं हैं। अब उन्हें कांग्रेस की पहल का इंतजार है।

जनसंवाद रैली से चुनावी शंखनाद करेंगे यशवंत सिन्हा

पटना|विधानसभा चुनाव में तीसरे मोर्चे के एलान के बाद पूर्व वित्त मंत्री यशवंत सिन्हा अब जिलों का दौरा कर जनसंवाद करेंगे। ‘बदलो बिहार- बनाओ बेहतर बिहार’ के नारे के साथ चुनावी मैदान में उतरे सिन्हा मंगलवार को पटना से बिहार के सभी जिलों में जन संवाद रैली के माध्यम से लोगों से जुड़ेंगे। सुबह साढ़े 9 बजे जननायक जयप्रकाश नारायण की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगे। उसके बाद शहीद स्मारक पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर आगे बढ़ेंगे। मंगलवार को ही जहानाबाद में जन संवाद करेंगे। बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर उन्हाेंने एलान किया है कि तीसरा मोर्चा चुनाव लड़ेगा, जिसका मुख्य उद्देश्य मौजूदा सरकार को उखाड़ फेंकना है। साथ ही, बिहार की जनता को राज्य में ही जीने का आधार देना है। उन्होंने यह भी कहा है कि इस धर्मयुद्ध में जो उनके साथ आना चाहते हैं, उनका स्वागत है। उन्होंने राज्य की बदतर स्थिति के लिए एनडीए सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

खबरें और भी हैं...