• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Guardianship Committee Formed By Delhi High Court To Resolve The Property Dispute Of King Mahendra, Wife son And Brother Will Be Involved

किंग महेंद्र की संपत्ति विवाद:किंग महेंद्र की संपत्ति का विवाद सुलझाने को दिल्ली हाईकोर्ट ने बनाई गार्जियनशिप कमेटी, पत्नी-बेटा और भाई होंगे शामिल

पटना25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

दिल्ली हाईकोर्ट ने जदयू के राज्यसभा सदस्य व नामी उद्योगपति डॉ.महेंद्र प्रसाद (किंग महेंद्र) के बहुचर्चित घरेलू व संपत्ति विवाद के निदान का रास्ता निकाला है। कोर्ट ने गार्जियनशिप कमेटी बनाने को कहा है। इसमें किंग महेंद्र पत्नी (सतुला देवी), बड़ा बेटा (राजीव शर्मा) व भाई (उमेश शर्मा) होंगे।

यह कमेटी किंग महेंद्र से जुड़े हर मामले के बारे में सर्वसम्मति से निर्णय लेगी। इलाज कराने से लेकर उनकी सम्पत्ति और वित्तीय संचालन के निष्पादन सहित अन्य मामलों पर निर्णय का अधिकार कमेटी को दिया गया है। लेकिन अगर किसी मुद्दे पर आपसी सहमति नहीं बनती है तो उसे कोर्ट द्वारा नियुक्त सुपरवाइजिंग गार्जियन के पास भेजा जाएगा।

कोर्ट ने दूसरी पत्नी होने का दावा करने वाली महिला, एक बेटा व पुत्रवधू को कमेटी में नहीं रखा

बिहार से 7 टर्म के राज्य सभा सांसद व जाने-माने उद्योगपति किंग महेंद्र की हालत नाजुक बनी हुई है। वे न तो किसी को पहचान पाते हैं और न ही कुछ समझ पाते हैं। उनका 3000 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कारोबार है। उनकी सम्पत्ति को लेकर विवाद गहराता गया और मुकदमेबाजी का दौर शुरु हो गया। दिल्ली हाईकोर्ट की जस्टिस प्रतिभा एम.सिंह ने इसके निदान का यह रास्ता निकाला है। अपने 147 पन्ने के आदेश में उन्होंने हर पहलू पर प्रकाश डाला है।

कोर्ट ने फिलहाल तीन साल के लिए उक्त एक व्यवस्था बनाई है। कोर्ट के निर्देश के मुताबिक किंग महेंद्र नई दिल्ली स्थित अपने आवास में ही रहेंगे। अगर उनकी पत्नी चाहेंगी तो परिवार के किसी महिला सदस्य के साथ वहां रह सकती हैं। उनकी दूसरी पत्नी होने का दावा करने वाली उमा देवी अगर उनके आवास में रहना चाहती हैं तो रह सकती हैं। कमेटी हर 15 दिन पर सुपरवाइजिंग गार्जियन (रिटायर्ड जस्टिस राजीव सहनी) को अपने लिए गए निर्णय से अवगत कराएगी। सुपरवाइजिंग गर्जियन हर छह महीने पर अपनी प्रगति रिपोर्ट कोर्ट में पेश करेंगे।

खबरें और भी हैं...