जिम ट्रेनर गोलीकांड; खुशबू को आज नहीं मिली जमानत:डॉक्टर दंपती के वकील ने कहा- ट्रेनर के साथ नहीं हुई थी कोई घटना, SSP मिले हुए हैं...

पटना2 महीने पहले
जिम ट्रेनर विक्रम सिंह के साथ डॉक्टर की पत्नी खुशबू। (फाइल फोटो)

जिम ट्रेनर विक्रम सिंह गोलीकांड में जेल में बंद मुख्य आरोपी खुशबू सिंह को बड़ा झटका लगा है। कोर्ट ने उसे बेल देने से इनकार कर दिया। जमानत याचिका पर मंगलवार को पटना में ADJ-24 राकेश कुमार तिवारी की कोर्ट में करीब एक घंटे तक बहस हुई। इसके बाद कोर्ट ने टिप्पणी करते हुए सरकारी वकील से कहा कि इंज्यूरी रिपोर्ट जल्द से जल्द मंगवाकर कोर्ट में जमा कराइए। अगर जल्द से जल्द जमा नहीं हुआ तो मैं फैसला दे दूंगा।

विक्रम सिंह के वकील द्विवेदी सुरेंद्र के अनुसार, कोर्ट में खुशबू के वकील ने बहस की शुरुआत ही केस डायरी से की। जो हमारे पास नहीं है, लेकिन आरोपी के वकील के पास थी। सवाल यह है कि यह केस डायरी खुशबू के वकील के पास पहले कैसे पहुंची? विक्रम की इंज्यूरी रिपोर्ट भी आज नहीं आई।

सुरेंद्र ने बताया, 'भरी कोर्ट में खुशबू के वकील ने कहा कि विक्रम सिंह के साथ कोई घटना ही नहीं हुई है। उसे कुछ नहीं हुआ है। गलत बयान दिया जा रहा है। घटना तो किसी सचिन के साथ हुई है। विक्रम को गोली नहीं मारी गई है।'

SSP पर मिलीभगत का आरोप

खुशबू को जमानत दिलाने के लिए कुल 5 वकीलों की टीम आई थी। बहस हाईकोर्ट के वकील कर रहे थे। विक्रम के वकील द्विवेदी सुरेंद्र ने बताया, 'खुशबू के वकील ने इस मामले में सीधे तौर पर पटना पुलिस के मुखिया SSP उपेंद्र कुमार शर्मा को कटघरे में खड़ा कर दिया। आरोप लगाया कि खुशबू और उनके पति राजीव कुमार सिंह को फंसाने की साजिश है। कोई बड़ा गैंग है, जो इन्हें फंसा रहा है। उस गैंग के इशारे पर विक्रम काम कर रहा है। वह झूठा आरोप लगा रहा है। झूठे इंफॉर्मेंट और SSP की मिलीभगत है, क्योंकि विक्रम ने PMCH में घटना के संबंध में जो बयान दिया, वो करीब 5 घंटे के बाद दिया। यह सोंची समझी साजिश है।'

22 सितंबर को मारी गई थी गोली

बता दें, इस जानलेवा हमले में घायल विक्रम ने पुलिस के सामने खुशबू सिंह और उसके फिजियोथेरेपिस्ट पति डॉ. राजीव कुमार सिंह का नाम लिया था। इसके बाद 4 दिनों की जांच-पड़ताल और ठोस सबूतों के आधार पर पुलिस ने 22 सितंबर की रात खुशबू और उसके पति को अपने कब्जे में लिया था और 23 सितंबर को इनकी गिरफ्तारी को पुष्टि की थी।

साथ ही पुलिस ने लाइनर का काम करने वाले खुशबू के पुराने प्रेमी मिहिर सिंह और 3 शूटर्स को भी गिरफ्तार किया था। 23 सितंबर की शाम प्रेस कांफ्रेंस में खुद पटना के SSP उपेंद्र कुमार शर्मा ने इस हाई प्रोफाइल केस का खुलासा किया था।

गौरतलब है कि घायल विक्रम का इलाज PMCH में हुआ था। 11 दिन वो एडमिट रहा। जब वह डिस्चार्ज हुआ और घर जाकर डिस्चार्ज पेपर देखा तो उस पर उसके नाम की जगह छोटे भाई सचिन का नाम लिखा था। नाम सुधरवाने के लिए उसने काफी कोशिश की थी।

खबरें और भी हैं...