पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सुरक्षा:पटना एयरपाेर्ट पर लगेगा हाई वर्जन का डीवीओआर और आईएलएस सिस्टम, विमान की लैंडिंग हाेगी सुरक्षित

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डीवीओर और आईएलस का टेंडर हाे चुका है। इन दाेनाें अपडेटेड मशीन लग जाने से लैंडिंग प्राेसेस में पायलट काे मदद मिलेगी। - Dainik Bhaskar
डीवीओर और आईएलस का टेंडर हाे चुका है। इन दाेनाें अपडेटेड मशीन लग जाने से लैंडिंग प्राेसेस में पायलट काे मदद मिलेगी।
  • आतंकी हमले या बम से उड़ाने की धमकी मिलने पर विमान की पार्किंग के लिए बनेगा आइसाेलेशन वे

पटना एयरपाेर्ट पर पहली बार आइसाेलेशन वे बनेगा। आतंकी हमले या बम से उड़ाने की धमकी मिलने पर एक विमान की वहां पार्किंग हाे सकती है। साथ ही ऑपरेशनल एरिया में हाईवर्जन का अपडेटेट विदेशी इंस्ट्रूमेंट लैंडिंग सिस्टम यानी आईएलएस मशीन लगाई जाएगी। डाॅप्लर वेरी हाई फ्रीक्वेंसी ओमनी रेंज यानी डीवीओआर भी लगाई जाएगी। 15 साल पहले एयरपाेर्ट पर आईएलएस लगाई गई थी जाे अब पुरानी हाे चुकी है। नई मशीन लगने से एयरपाेर्ट का लैंडिंग सिस्टम और सुरक्षित हाे जाएगा। जाे डीवीओरआर अभी लगा है वह 24 साल पहले लगा था। यह आस्ट्रेलिया का था।

अब साउथ अफ्रीका की मशीन लगेगी। यह मशीन आ चुकी है, जिसकी कीमत करीब 3 कराेड़ है जबकि इलेक्ट्रिकल व सिविल इंजीनियरिंग काम पर 2.36 कराेड़ खर्च हाेंगे। सिविल का काम शुरू हाे गया है। इसे इसी साल 31 मार्च तक लग जाना है। इसके लग जाने से पायलट काे 600 किलोमीटर की ऊंचाई से सिग्नल मिलना शुरू हाे जाएगा।

आईएलएस 15 साल पुराना
पटना एयरपाेर्ट पर लगा आईएलएस 15 साल पुराना है। आईएलएस मशीन की कीमत 4 कराेड़ है जबकि इसके सिविल और इलेक्ट्रिकल वर्क की लागत 4.36 कराेड़ हाेगी। इसके अलावा इस साल पटना एयरपाेर्ट का रनवे, पार्किंग के सर्फेस क्वालिटी काे बेहर बनाने के लिए बिटुमिनस का काम हाेगा।

एयरपाेर्ट निदेशक भूपेश नेगी ने बताया कि इन दाेनाें मशीनाें के लग जाने से एयरपाेर्ट की जाे विजिबिलिटी 1000 मीटर है, वही रहेगी। डीवीओर और आईएलस का टेंडर हाे चुका है। इन दाेनाें अपडेटेड मशीन लग जाने से लैंडिंग प्राेसेस में पायलट काे मदद मिलेगी। किसी तरह की अनहाेनी हाेने पर एक विमान के लिए आइसाेलेशन बे बनेगा।
राज्य सरकार ने दक्षिण में दी 16.5 एकड़ जमीन
पिछले साल 15 दिसंबर काे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नए टर्मिनल भवन का जायजा लेने गए थे। वहां से ऑपरेशनल एरिया में भी गए थे। इस दाैरान कहा गया था कि दक्षिणी बाउंड्री और रेलने लाइन के बीच सरकार की 16.5 एकड़ जमीन खाली है। इस पर आइसाेलेशन वे और डीवीओआर लगाने की जरूरत है।

सरकार ने इसकी अनुमति दे दी है। एयरपाेर्ट पर पैरेलल टैक्सी ट्रैक भी बनेगी। इसके लिए भी जमीन की जरूरत है। जमीन आईसीएआर की है। पैरेलल टैक्सी ट्रैक बन जाने से रनवे हमेशा खाली रहेगा और कम समय में ही विमानाें की लैंडिंग व टेकऑफ हाे सकेगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

    और पढ़ें