पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कैसे होगी पढ़ाई:राज्यभर में उच्चतर माध्यमिक स्कूल खुले पर बहाल नहीं हो सके शिक्षक

पटना17 दिन पहलेलेखक: पंकज कुमार सिंह
  • कॉपी लिंक
  • इस साल के अंत तक 2500 शिक्षक हो जाएंगे रिटायर्ड

हाईस्कूल में शिक्षा की बदहाली का आलम यह है कि मध्य विद्यालयों को उच्च और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में तब्दील तो कर दिया गया, लेकिन शिक्षकों की बहाली नहीं की जा सकी है। 2022 तक हाईस्कूलों में 49,361 और शिक्षकों की जरूरत होगी। इस साल के अंत तक हाईस्कूलों के लगभग 2500 शिक्षक रिटायर्ड हो जाएंगे। शिक्षकों के रिटायर्ड होने से 2022 तक लगभग 5 हजार पद और रिक्त हो जाएंगे।

2019 की बहाली 2021 में पूरा करने की भी स्थिति में भी आधे से अधिक शिक्षकों की सीटें वैकेंट रह जाएंगी। छठे चरण में 30020 रिक्ति में अनुमान है कि 10 से 12 हजार सीटें ही भर सके। कारण बताया जा रहा है कि गणित, विज्ञान और अंग्रेजी विषयों के शिक्षक अभ्यर्थी नहीं मिल रहे। सामाजिक विज्ञान के विषयों में अधिक अभ्यर्थी हैं। 2012 के बाद 2021 में 37335 सीटों के लिए जारी हुई एसटीईटी के रिजल्ट 15 में से 12 विषयों में 24,599 अभ्यर्थी पास हुए हैं। विज्ञान, उर्दू और संस्कृत का रिजल्ट आना बाकी है। अभी राज्य के लगभग 8 हजार उच्च व उच्चतर माध्यमिक स्कूल हैं।

49,361 शिक्षक के पद भरने होंगे

वर्तमान में संचालित और आगे संचालित होने वाले उच्च माध्यमिक स्कूलों में 49,361 शिक्षक के पद भरना होगा। पिछले साल ही सभी पंचायतों में उच्च माध्यमिक विद्यालय का संचालन शुरू होना था। लेकिन कोरोना के कारण शुरू नहीं हो सका। पिछले साल ही हाईस्कूलों में 33916 शिक्षकों की बहाली के लिए कैबिनेट की मंजूरी मिल चुकी है।

इसमें विभिन्न विषयों के 32919 व कंप्यूटर के 1000 शिक्षक बहाल करने की मंजूरी मिली थी। 2950 नए पंचायतों में शुरू हो रहे उच्चतर माध्यमिक स्कूलों के लिए शिक्षकों की जरूरत है। हिंदी, अंग्रेजी, विज्ञान, गणित व सामाजिक विज्ञान के 5425-5425 शिक्षक के पद हैं। द्वितीय भारतीय भाषा के 5791 पद हैं। जिलों में जिला परिषद व नगर निकायों के माध्यम से शिक्षकों की बहाली होनी है।

नियोजन के लिए बीएड के साथ ही एसटीईटी उत्तीर्ण होना अनिवार्य होगा। बहाली चरणबद्ध तरीके से होगी। सातवें चरण की बहाली प्रक्रिया में कई बदलाव भी कर दिए हैं। अब उच्च और उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में शिक्षक बहाली के लिए मेधा सूची बनाने में मैट्रिक और इंटर के अंक नहीं जुड़ेंगे। सॉफ्टवेयर के माध्यम से अभ्यर्थियों से ऑनलाइन आवेदन लिए जाएंगे।

मंत्री ने कहा- अब तेजी से बहाली पूरी करा ली जाएगी

हर पंचायत में हमने उच्च माध्यमिक स्कूल खोला है। इसलिए शिक्षकों की कमी है। तीन माह के अंदर छठे चरण में 30 हजार शिक्षकों की बहाली पूरा होते ही सातवें चरण की शिक्षक बहाली प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। शिक्षक बहाली पर न्यायालय में फंसे पेच के कारण देर हुई थी। अब तेजी से बहाली पूरा करा ली जाएगी। बहाली पूरी पारदर्शी तरीके से हो, इसका ध्यान रखा जा रहा है।
- विजय कुमार चौधरी, शिक्षा मंत्री

छठे चरण की बहाली के बाद भी रिक्त रहेंगे 30 हजार पद

हाईस्कूलों में शिक्षकों की कमी से पढ़ाई बाधित होती है। इस साल के अंत तक लगभग 2500 हजार शिक्षक रिटायर्ड हो जाएंगे। शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए हर साल एसटीईटी होना चाहिए, लेकिन नहीं 8 साल बाद परीक्षा होती है। छठे चरण की बहाली होने के बाद भी 30 हजार से अधिक शिक्षकों के पद रिक्त रह जाएंगे।
- केदार नाथ पांडेय, माध्यमिक शिक्षक संघ के अध्यक्ष व विधान पार्षद

खबरें और भी हैं...