भास्कर एक्सक्लूसिव:भद्रघाट से दमराही घाट तक जुलाई तक तैयार होगा हाईवे, दीदारगंज तक बढ़ेगा

पटना10 दिन पहलेलेखक: इन्द्रभूषण
  • कॉपी लिंक
एएन सिन्हा संस्थान स्थित अशाेक राजपथ की ओर से गंगा पथ काे जाेड़ दिया गया। - Dainik Bhaskar
एएन सिन्हा संस्थान स्थित अशाेक राजपथ की ओर से गंगा पथ काे जाेड़ दिया गया।

पटना सिटी इलाके में गंगा नदी के किनारे महात्मा गांधी सेतु के पास भद्रघाट से दमराही घाट तक पौने पांच किमी लंबा और दाे लेन चौड़ा हाईवे इसी वर्ष पूरी तरह बनकर तैयार हो जाएगा। इससे अशोक राजपथ पर जाम झेलती छोटी गाड़ियों को पटना सिटी इलाके में एक वैकल्पिक रास्ता उपलब्ध हो जाएगा। वैसे इसे बनाने वाले बिहार राज्य पथ विकास निगम ने इस पौने पांच किमी हाईवे को सवा किलोमीटर और बढ़ाकर दीदारगंज तक बढ़ाने का मार्ग भी तलाश रहा है। इससे महात्मा गांधी सेतु के पास से दीदारगंज तक छोटी गाड़ियों को तेजी से निकलने का एक बढ़िया रास्ता उपलब्ध हो जाएगा।

दरअसल लोकनायक गंगा पथ के इस इलाके में एलिवेटेड बनाने के निर्णय के बाद गंगा किनारे इस तरह के एक वैकल्पिक मार्ग की जरूरत भी थी। जब लोकनायक गंगा पथ के निर्माण की शुरुआत हुई थी तो पटना सिटी इलाके में दुल्ली घाट से नुरुद्दीन घाट तक जमीन में मिट्टी भरकर बांध पर सड़क बनानी थी, पर गंगा नदी में बहाव के निरंतर बदलाव के कारण बांध पर सड़क बनाना संभव नहीं हो पाया।

इसके बाद बीएसआरडीसी ने आईआईटी रुड़की के विशेषज्ञों के सुझाव के बाद इस हिस्से में भी एलिवेटेड स्ट्रक्चर ही बनाने का निर्णय किया और फिर से टेंडर कर एजेंसी को निर्माण सौंप दिया। ऐसे में इस इलाके के विधायक और राज्य के पूर्व पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव के समय ही इस वैकल्पिक मार्ग बनाने का लिया गया निर्णय आखिरकार सही साबित हुआ।

अभी कंगन घाट तक जा रहीं गाड़ियां
पिछले ढाई साल से इस वैकल्पिक मार्ग को धीरे-धीरे विकसित किया जा रहा है। महात्मा गांधी सेतु के पास भद्रघाट से मित्तन घाट, खाजेकलां घाट, कंगन घाट, गुरु गोविंद सिंह घाट, पटना घाट होते दमराही घाट तक इस वर्ष जुलाई तक काम पूरा कर लेने का लक्ष्य है। वैसे भद्रघाट से कंगन घाट तक अभी गाड़ियां आ-जा रही हैं। दमराही घाट से दीदारगंज को जोड़ने की योजना भी बनाई जा रही है। दमराही घाट तक काम पूरा करने के बाद उस पर काम शुरू किया जाएगा।

पटना घाट से स्टेशन तक भी फाेरलेन
पटना घाट से पटना साहिब स्टेशन तक भी फाेरलेन रोड विकसित किया जा रहा है। दरअसल अटल पथ के लिए जब बिहार सरकार ने रेलवे से जमीन ली थी तब ही पटना साहिब स्टेशन से पटना घाट तक रेलवे से 550 मीटर की लंबाई में जमीन ली गई थी। अटल पथ से पश्चिमी पटना के लोगों को काफी राहत मिली है। उसी तरह पटना घाट से पटना साहिब स्टेशन तक फाेरलेन रोड बन जाने से पूर्वी पटना के लोगों को काफी सुविधा होगी।

दीघा राेटरी से एएन सिन्हा इंस्टीट्यूट तक लोकनायक गंगा पथ का निर्माण तेजी से चल रहा है, जिसे 5 जून तक तैयार कर देना है। वैसे बिहार राज्य पथ विकास निगम का लक्ष्य लोकनायक गंगा पथ से पीएमसीएच को जोड़ने वाला संपर्क पथ भी जून में ही चालू करने का है। गंगा पथ को एनएन सिन्हा इंस्टीट्यूट स्थित पुल से जोड़ने का काम पूरा हाे गया है।

इसके साथ ही अब दीघा से गांघी मैदान तक वाहनों का परिचालन शुरू हो गया है। इसकी कुल दूरी 5.4 किमी है। हालांकि, पटना प्रमंडल कार्यालय के सामने अशोक राजपथ से मिलाने का कार्य नहीं किया गया है।