• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • If Not Deposited, The Connection Will Be Deducted, Money Will Be Charged With Interest, 1.50 Crore In Bihar And 5.67 Lakh Houses In Patna Water Connection

बिहार में सभी जिलों में लगेगा पेयजल टैक्स:जमा नहीं किया तो कटेगा कनेक्शन, ब्याज के साथ वसूला जाएगा; प्रदेश में 1.5 करोड़ और पटना में 5.67 लाख घरों में वाटर कनेक्शन

पटनाएक महीने पहलेलेखक: आलोक द्विवेदी
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक इमेज। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक इमेज।

बिहार के सभी जिलों में विभिन्न टैक्स की तरह ही वाटर सप्लाई पर भी टैक्स लगेगा। इसके लिए मकान, दुकान, फैक्ट्री, स्कूल, कोचिंग, रेस्टोरेंट, होटल, अस्पताल, सरकारी विभाग के लिए अलग-अलग टैक्स का निर्धारण किया गया है। जो फिक्स चार्ज के अतिरिक्त अलग से वसूला जाएगा।

इस दौरान निर्धारित समय सीमा के अंदर यदि कोई टैक्स जमा नहीं करता है, तो उसका कनेक्शन काट दिया जाएगा और एक फीसदी ब्याज के साथ टैक्स की वसूली होगी। वॉटर सप्लाई पर टैक्स लगाने से बिहार में 1.50 करोड़ मकान मालिक प्रभावित होंगे। जिसमें पटना में 5.67 लाख लोगों को वाटर सप्लाई टैक्स देना होगा।

480 रुपए से 12 हजार रुपए तक लगेगा टैक्स
बिहार में पेयजल शुल्क के रूप में 480 रुपए प्रति माह से लेकर 12 हजार रुपए तक वसूला जाएगा। इसके अतिरिक्त दुकान, फैक्ट्री, स्कूल, कोचिंग, रेस्टोरेंट, होटल के लिए फिक्स चार्ज के अतिरिक्त प्रति किलोलीटर अलग से टैक्स देना होगा। जो प्रॉपर्टी टैक्स के आधार पर निश्चित किया जाएगा।

एक हजार तक प्रॉपर्टी टैक्स देने वाले हर घर से प्रत्येक वर्ष ‌‌480 रुपए पेयजल शुल्क
1001 से दो हजार रुपए प्रॉपर्टी टैक्स देने वाले घरों से 780 रुपए, 2001 से तीन हजार के बीच 1440 और 3001 रुपए से अधिक प्रॉपर्टी टैक्स देने वाले से 1800 रुपए पेयजल शुल्क प्रति वर्ष वसूला जाएगा। इसी तरह से होटल, रेस्टोरेंट, सिनेमा हॉल, सर्विस स्टेशन और छोटे व्यापारी प्रतिष्ठान से पानी का उपयोग करने वाले प्रतिष्ठान से एक हजार रुपए तक प्रॉपर्टी टैक्स देने वाले से 24 सौ रुपए स्थायी शुल्क के साथ ही साढ़े सात रुपए प्रति किलोलीटर के हिसाब से टैक्स वसूलने की तैयारी है।

18 किलोलीटर खर्च करने पर साढ़े सात की जगह 12 रुपए प्रति किलोलीटर टैक्स वसूला जाएगा। वहीं पर 2001 से 3000 के लिए 42 सौ रुपए फिक्स चार्ज और साढ़े रुपए प्रति किलोलीटर, 2001 से 3000 रुपए तक 6 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ ही 12 रुपए प्रति किलोलीटर और 3001 से अधिक टैक्स देने वालो को 12 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ ही 14.50 रुपए प्रति किलोलीटर टैक्स देना होगा।

जबकि सरकारी संस्थान के लिए एक हजार रुपए प्रॉपर्टी टैक्स देने वालों को 24 सौ रुपए फिक्स चार्ज के साथ ढाई रुपए प्रति किलोलीटर, 1001 से 2000 रुपए तक 42 सौ रुपए फिक्स चार्ज के साथ साढ़े तीन रुपए, 2001 से 3000 रुपए के लिए 6 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ पांच रुपए प्रति किलोलीटर और 3001 रुपए से अधिक से 12 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ 6 रुपए प्रति किलोलीटर चार्ज किया जाएगा।

इसके साथ ही गैर सरकारी संस्थान के लिए 24 सौ से 12 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ ही अलग-अलग प्रापर्टी टैक्स के मुताबिक पांच रुपए प्रति किलोलीटर से 12 रुपए प्रति किलोलीटर शुल्क वसूला जाएगा। वहीं पर औद्योगिक इकाइयों से 6 हजार से 12 हजार रुपए फिक्स चार्ज के साथ ही 12 रुपए प्रति किलोलीटर से 36 रुपए प्रति किलोलीटर टैक्स वसूला जाएगा।

समस्तीपुर में सबसे अधिक और शेखपुरा में सबसे कम कनेक्शन
देश में 8.15 करोड़ घरों में वाटर सप्लाई कनेक्शन लगा हुआ है। जिसमें बिहार में 1.50 करोड़ में पानी सप्लाई के लिए वाटर कनेक्शन लगाया गया है। अरवल, मुंगेर, रोहतास, गया, रोहतास, गोपालगंज, कैमूर में मकानों की संख्या के मुताबिक 99 फीसदी घरों में वाटर सप्लाई कनेक्शन लगाया गया है।

संख्या के आधार पर सबसे अधिक कनेक्शन समस्तीपुर में है। जहां पर 8.91 लाख घरों में से 8.19 लाख घरों में पानी का कनेक्शन है। सबसे कम कनेक्शन शेखपुरा में है। जहां पर 92555 में वाटर कनेक्शन है। हालांकि, शेखपुरा में मकानों की संख्या महज 1.09 लाख है। पटना में 6.71 लाख घरों में 5.67 लाख घरों में पानी की सप्लाई को लेकर कनेक्शन लगाया गया है।

खबरें और भी हैं...