नहीं चलेगी मनमानी:ऑक्सीजन की कमी बता मरीज को हटाया तो कार्रवाई शुरू होगी

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्राइवेट अस्पतालों के संचालकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करते डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह। - Dainik Bhaskar
प्राइवेट अस्पतालों के संचालकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक करते डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह।
  • डीएम ने प्राइवेट अस्पताल संचालकों के साथ की बैठक, अधिक राशि वसूली करने वालों को कार्रवाई की दी चेतावनी

जिले के 90 प्राइवेट अस्पताल के 2000 बेड पर कोरोना पॉजेटिव मरीजों का इलाज चल रहा है। लेकिन, प्रशासन को शिकायत मिल रही है कि कई अस्पताल भर्ती लेने के बाद 24 घंटे में मरीज को डिस्चार्ज कर रहे हैं। ऐसे प्राइवेट अस्पताल का चिंह्नित कर कार्रवाई कार्रवाई शुरू होगी। गुरुवार को स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत की उपस्थिति में डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्राइवेट अस्पतालों के साथ बैठक की। इस दौरान डीएम ने कहा कि सरकार द्वारा तय राशि से अधिक इलाज का खर्च लेने वाले अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी।

बैठक के दौरान प्रशासन ने स्पष्ट किया कि कई प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ शिकायत मिली है कि 24 घंटे भर्ती रखने के बाद ऑक्सीजन की कमी बताकर डिस्चार्ज कर रहे हैं। इसके साथ ही नए मरीज को भर्ती भी ले रहे हैं। ऐसे अस्पतालों की मॉनिटरिंग की जाएगी। आखिर जब ऑक्सीजन की कमी है तो एक मरीज को डिस्चार्ज कर दूसरे मरीज को कैसे भर्ती ले रहे हैं। आप क्षमता से अधिक मरीज को भर्ती नहीं करें। जिस मरीज को भर्ती करें उसका समुचित इलाज करें।

दो प्राइवेट अस्पतालों के खिलाफ मिली अधिक पैसा लेने की शिकायत

जिला प्रशासन को अधिक बिल लिए जाने के मामले में दो निजी अस्पतालों के खिलाफ गुरुवार को शिकायत मिली है। इसकी जांच शुक्रवार को होगी। राघोपुर दियारा निवासी ने शिकायत की है कि एक निजी अस्पताल ने 50 हजार लेने के बाद भर्ती किया। अगले दिन 50 हजार जमा करने की डिमांड रख दी। प्रशासन ने पूछा कि आप कैसा इलाज कर रहे हैं कि आपको 24 घंटे में 1 लाख खर्च आ गए। डीएम ने कहा कि सभी लोगों को इलाज पर होने वाले खर्च का प्रोपर बिल अस्पताल प्रबंधन द्वारा दिया जाएगा। अधिक राशि लेने की शिकायत आम लोग कोरोना कंट्रोल रूम के नंबर पर शिकायत दर्ज कर सकते हैं।

खबरें और भी हैं...