• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • In The Name Of Getting Jobs Abroad, The Youths Of Bihar UP Were Cheated Of 60 Lakhs, The Company Absconded

नौकरी दिलाने के नाम पर 60 लाख की ठगी:विदेश में नौकरी दिलाने के नाम पर बिहार-यूपी के युवकों से 60 लाख की ठगी, कंपनी फरार

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • पुलिस पहुंची ताे कंपनी के दफ्तर में लटका मिला ताला

बिहार और यूपी के करीब 300 बेरोजगार युवकों से वीजा बनवाने और विदेश भेजने के नाम पर करीब 60 लाख की ठगी की गई है। इस मामले में नियोजन भवन स्थित प्रोटेक्टर ऑफ इमिग्रेंट बिहार-झारखंड के रितेश राज ने कोतवाली थाने में जीवीएम मैनपावर कंपनी के डायरेक्टर मिथिलेश पांडेय, शीतल वर्मा, नीतू झा, कविंद्र कुमार, सौरभ कुमार, दीक्षा सिंह सहित 15 लोगों पर केस दर्ज कराया है।

जीवीएम मैनपावर कंपनी फ्रेजर रोड के डुमरांव पैलेस में है। मामला दर्ज होने के बाद पुलिस पहुंची तो वहां ताला लटका मिला। ठगी के शिकार युवकों ने बताया कि एक युवक से 15 से 20 हजार रुपए लिए गए थे। कंपनी ने उन लोगों का पासपोर्ट भी रख लिया। कंपनी वादा किया था कि वीजा बनवाकर उनलोगों को विदेशाें में नौकरी लगवा देगा। लेकिन जब न वीजा मिला और न पैसा तो युवकों ने शिकायत दर्ज कराई।

दिल्ली में बैठा है गिरोह का मास्टरमाइंड, बैंक अकाउंट मिला
छानबीन में पता चला कि जालसाज गिरोह का मास्टरमाइंड दिल्ली में बैठा हुआ है। यहां उसने अपना दफ्तर खोल दिया था और लोगों को ठगी करने के लिए नौकरी पर रखा था। पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। जिस खाते पर यूपी और बिहार के युवकों ने पैसा भेजा है उस खाते को भी खंगाला जा रहा है। ऐसे तीन बैंक खाते की जानकारी पुलिस को मिली है। पुलिस संबंधित बैंक से भी जल्द ही इसके बारे में संपर्क करेगी। पुलिस का कहना है कि संबंधित खाते को फ्रीज कराया जाएगा।

नियोजन विभाग से निबंधित नहीं थी कंपनी
पुलिस ने बताया कि कोई भी कंपनी अगर विदेशों में मैनपावर का सप्लाई करता है तो उसे पहले नियोजन विभाग से निबंधन कराना होगा। निबंधन संख्या मिलने के बाद ही कोई कंपनी विदेशों में मैनपावर का सप्लाई कर सकता है। जीवीएम मैनपावर नियोजन विभाग से निबंधित नहीं है। ऐसे में पुलिस यह मान रही है कि कंपनी का उद्देश्य बेरोजगार युवकों से ठगी का ही था। इसी तरह का एक मामला बीते फरवरी में आ चुका है।

खबरें और भी हैं...