पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Income Of 1359 Crores And Expenditure Of 1499 Crores In Patna Municipal Corporation, Yet Budget Of 600 Crores Profit

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बजट 2021-22:पटना नगर निगम में 1359 करोड़ की आय व 1499 करोड़ का व्यय, फिर भी 600 करोड़ मुनाफे का बजट

पटना17 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लेमन ट्री होटल में आयोजित पटना नगर निगम की बैठक में मेयर सीता साहू व सांसद रामकृपाल यादव। - Dainik Bhaskar
लेमन ट्री होटल में आयोजित पटना नगर निगम की बैठक में मेयर सीता साहू व सांसद रामकृपाल यादव।
  • निगम वित्त आयोग से मिलने वाली राशि को दिखा रहा मुनाफा
  • नगर निगम के बजट में इस बार ई-गवर्नेंस पर सबसे ज्यादा जोर

पटना नगर निगम की ओर से वित्तीय वर्ष 2021-22 में 1499 करोड़ का बजट पेश किया गया। बजट में अभी 1359 करोड़ रुपए की आय और 1499 करोड़ के खर्च का प्रस्ताव आया है। इस लिहाज से करीब 140 करोड़ रुपए बजट में घाटा होते दिख रहा है, लेकिन नगर निगम प्रशासन का कहना है कि मार्च खत्म होने से पहले 14वें वित्त आयोग की बकाया करीब 600 करोड़ और छठे राज्य वित्त आयोग से भी आवंटन प्राप्त हो सकता है। इन दोनों राशि के मिलने से आय में वृद्धि होगी।

इस आधार पर करीब 600 करोड़ रुपए मुनाफा होने की उम्मीद है। बजट पास होने के बाद नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने दावा किया कि आय के आंकड़ें में और भी बदलाव हो सकता है। नगर निगम के बजट को प्रस्तुत करते हुए नगर आयुक्त ने कहा कि इस बार के बजट में ई-गवर्नेंस पर सबसे अधिक फोकस किया जा रहा है।

ई-ऑफिस व्यवस्था को लागू की जा रही है। इसके लिए अभी साॅफ्टवेयर को अंतिम रूप दिया जा रहा है। निगम प्रशासन की ओर से सभी प्रकार की संचिकाओं को ऑनलाइन किया जा रहा है। एक माह में सभी प्रकार की फाइलें, योजनाओं की विवरणी और अन्य तमाम कार्यक्रमों को डिजिटल कर दिया जाएगा।

एक अप्रैल से निगम में ई-ऑफिस की व्यवस्था शुरू हो जाएगी। इससे पता चल सकेगा कि कौन-सी फाइल किस स्तर पर कितने समय से अटकी हुई है। नगर निगम क्षेत्र के लोगों को इससे नगरीय सुविधाएं त्वरित गति से पहुंचाने में कामयाबी मिलेगी। सभी वार्ड पार्षदों को टैब दिया जा रहा है। इससे वे ऑनलाइन मीटिंग से जुड़ेंगे। साथ ही, आम लोगों के लिए योजनाओं को ऑनलाइन कर दिया जाएगा। इससे लोग जान सकेंगे कि किस वार्ड में कौन-कौन सी योजनाएं चल रही हैं और उनकी गति क्या है? इसको लेकर वे एजेंसी पर भी काम पूरा कराने का दबाव बना सकेंगे।

सफाईकर्मियों को समर्पित है यह बजट
बजट सत्र की अध्यक्षता करते हुए मेयर सीता साहू ने कहा कि पिछले वित्तीय वर्ष में हमने कोरोना महामारी के संकट हो झेला। हमारे सफाई कर्मचारियों ने अपनी जान पर खेलकर शहर को माहामारी के समय में भी साफ रखने में कोई कसर नहीं छोड़ी।

पूर्ण बजट की जगह प्रारूप बजट पेश
नगर निगम की ओर से पूर्ण बजट की जगह प्रारूप बजट ही पेश किया गया। नगर आयुक्त ने कहा- इस बार बजट की छपाई इस कारण नहीं कराई गई कि इसमें पार्षदों की ओर से आने वाले सुझावों को भी शामिल किया जाएगा। 14वें वित्त आयोग व छठे राज्य वित्त आयोग की बकाया राशि के मिलने के बाद संशोधित बजट की छपाई होगी।

मॉल-मल्टीप्लेक्स तो नहीं बना, कच्ची नली-गली भी नहीं की जा सकी पक्की
पटना नगर निगम की ओर से पेश किए गए बजट 2021-22 में कई योजनाओं को छोड़ दिया गया है। वर्ष 2019-20 व वर्ष 2020-21 के बजट में निगम की ओर से नगरीय निवेश की योजना बनाई गई थी। पिछले एक साल में नगर निगम प्रशासन की ओर से कच्ची नाली-गली पक्कीकरण की योजनाओं को पूरा कराने में भी कामयाबी नहीं मिल पाई।

इन योजनाओं पर नहीं हो पाया काम

1. व्यावसायिक इमारत : नगर निगम ने तीन स्थानों पर मॉल व मल्टीप्लेक्स के निर्माण की योजना बनाई थी। इसके लिए पिछले दो बजट में 298 करोड़ का प्रस्ताव किया गया। लेकिन, अबतक काम नहीं हो सका।

2. किफायती आवास : राजधानी में निम्न आय वर्ग के लोगों के लिए किफायती आवास के निर्माण की योजना तैयार की गई। इस पर 377 करोड़ रुपए खर्च हाेना था। पर यह योजना भी ठंडे बस्ते में चली गई।

3. आधारभूत संरचना का विकास : नगर निगम ने कॉलोनी स्मार्ट रोड व ड्रेनेज परियोजना का कांसेप्ट लाया था। इस पर 2806 करोड़ रुपए खर्च होने थे। पर, यह राशि नहीं मिल पाई। इससे योजना अधर में लटक गई।

इस बार के बजट में प्रस्तावित कार्य

1. प्रदूषण नियंत्रण : इस वित्तीय वर्ष में प्रदूषण नियंत्रण पर 204 करोड़ खर्च करने की योजना तैयार की गई है। इसमें कंपोस्टिंग प्लांट, रीसाइक्लिंग प्लांट, वेस्ट टू एनर्जी, रोड पेवमेंट आदि योजनाएं शामिल हैं।

2. जलापूर्ति योजना : हर घर नल का जल पर इस साल निगम प्रशासन 215 करोड़ रुपए खर्च करेगा। इसके तहत ओवरहेड टैंक व हाई यील्ड बोरिंग व जलापूर्ति पाइपलाइन को बिछाने की योजना है।

3. रोड व ड्रेन : सीएम कच्ची नाली गली पक्कीकरण योजना के समाप्त होने के बाद राजधानी क्षेत्र की कच्ची नाली व गलियों के पक्कीकरण के लिए नई योजना शुरू की गई है। इस पर 110 करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे।

सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर दिया जाएगा जोर

पटना नगर निगम क्षेत्र में वित्तीय वर्ष 2021-22 में सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट पर ठोस काम होता दिखेगा। इसके लिए नगर निगम की ओर से तैयारियां तेज कर दी गई हैं। निगम प्रशासन ने गीला व सूखा कचरा के निस्तारण की योजना पर काम शुरू कर दिया है। सूखा कचरा के निस्तारण के लिए दो प्लांट बनाए जाएंगे। मैटेरियल रिकवरी फैसिलिटी के तहत 50 टन व आठ टन प्रति दिन क्षमता के दो प्लांट लगाए जाएंगे। नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने कहा कि इसके लिए टेंडर प्रक्रिया चल रही है।

नालों का निर्माण कराएगा बुडको
बजट बैठक में पार्षदों की ओर से नालों के निर्माण का मसला जोर-शोर से उठाया गया। इस दौरान नगर आयुक्त ने कहा कि इस संबंध में नगर विकास विभाग की ओर से बुडको को दिशा-निर्देश जारी किया गया है। इसके तहत बुडको ने योजना तैयार कर ली है। इससे जलजमाव की समस्या को दूर करने में मदद मिलेगी।

दैनिक कर्मचारियों के मानदेय पर फैसला नहीं लेगा निगम
बजट बैठक में पार्षद संजीत कुमार बबलू ने दैनिक कर्मचारियों के मानदेय को बढ़ाने का प्रस्ताव रखा। उन्होंने कहा कि दैनिक कर्मचारियों को काफी कम मानदेय मिलता है। करीब 400 रुपए प्रतिदिन के हिसाब से मानदेय मिलता है। इसमें 200 रुपए की वृद्धि की जाए। इस पर नगर आयुक्त ने कहा कि कर्मियों के मानदेय को बढ़ाने पर फैसला सरकार के स्तर पर होगा। निगम अपने स्तर पर पहले ही सरकार के स्तर पर निर्धारित दर में वृद्धि कर चुका है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- किसी विशिष्ट कार्य को पूरा करने में आपकी मेहनत आज कामयाब होगी। समय में सकारात्मक परिवर्तन आ रहा है। घर और समाज में भी आपके योगदान व काम की सराहना होगी। नेगेटिव- किसी नजदीकी संबंधी की वजह स...

    और पढ़ें