• Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • IPS Rakesh Dubey Made Illegal Earnings In More Than Half A Dozen Real Estate Companies; Enforcement Directorate's Screws Will Now Tighten In Illegal Sand Mining Case

ईओयू का खुलासा:आधा दर्जन से अधिक रियल इस्टेट कंपनियों में आईपीएस राकेश दूबे ने लगाई अवैध कमाई; बालू के अवैध खनन मामले में अब शिकंजा कसेगी ईडी

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईपीएस राकेश दूबे के खिलाफ भी पीएमएलए के तहत हो सकती है कार्रवाई। - Dainik Bhaskar
आईपीएस राकेश दूबे के खिलाफ भी पीएमएलए के तहत हो सकती है कार्रवाई।

बालू के अवैध खनन के मामले में आरोपी भोजपुर के तत्कालीन एसपी राकेश कुमार दूबे पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का शिकंजा कस सकता है। आर्थिक अपराध इकाई ने राकेश दूबे पर मनी लौंड्रिंग कर कालेधन को सफेद करने के प्रयास का भी आरोप लगाया है। दूबे पर आरोप है कि उन्होंने पाटलिपुत्र बिल्डर्स सहित आधा दर्जन से अधिक रियल इस्टेट कंपनियों में अवैध पैसा लगाया है।

खासबात यह है कि पाटलिपुत्र बिल्डर्स के मालिक अनिल कुमार के खिलाफ ईडी ने पहले से ही प्रीवेंशन ऑफ मनी लौंड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत मुकदमा दर्ज कर रखा है। पिछले दिनों ईडी ने अनिल कुमार को गिरफ्तार कर रिमांड पर भी लिया था। ऐसे में राकेश दूबे की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं।

पाटलिपुत्र बिल्डर्स के अलावा आईपीसी इंफ्रास्ट्रक्चर, देवघर व रांची, कामिनी इंफ्रास्ट्रक्चर प्रा.लि. (निदेशक जावेद खान), ख्याति कंस्ट्रक्शन, मैक्स ब्लिफ, नोएडा (प्रोपराइटर अजय शर्मा), बिल्ड कॉन सहित कई अन्य बिल्डर्स के साथ उनकी कंपनियों में नगद राशि का निवेश का भी आरोप है। ईओयू के अनुसार विभिन्न बिल्डरों से राकेश दूबे के व्यावसायिक संबंध होने के साक्ष्य मिले हैं।

अभी तक 2.55 करोड़ से अधिक की संपत्ति अर्जित करने के साक्ष्य मिल चुके
दूबे के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान उनके द्वारा ख्याति कंस्ट्रक्शंस के बैंक खाते में 25 लाख रुपए ट्रांसफर किए जाने के भी साक्ष्य मिले थे। ईओयू के अनुसार अभी तक 2 करोड़ 55 लाख 49 हजार 691 रुपए से अधिक की संपत्ति अर्जित करने के साक्ष्य मिल चुके हैं।

दूबे ने अपने परिजनों, मित्रों, व्यावसायिक सहभागियों एवं अन्य के माध्यम से मनी लौंड्रिंग कर कालेधन को सफेद करने का भी प्रयास किया है। इन खुलासों के बाद ईडी दूबे के खिलाफ भी पीएमएलए के तहत कार्रवाई कर सकती है। इसके पीछे का तर्क यह है कि चूंकि उनपर ऐसे बिल्डर की कंपनी में निवेश करने का आरोप है जिसके खिलाफ ईडी पहले से कार्रवाई कर रही है।

ऐसे में दूबे पर भी ईडी कभी भी शिकंजा कस सकती है। दूबे फिलहाल निलंबित हैं। उनके खिलाफ आय से अधिक संपत्ति के मामले में 15 सितंबर को मुकदमा दर्ज किया था।

अवैध रूप से कमाए करोड़ों रुपए सूद पर भी लगाने का है आरोप
ईओयू के अनुसार राकेश दूबे ने अवैध रूप से कमाए गए करोड़ों रुपए को सूद (ब्याज) पर भी लगा रखे हैं। फुलवारीशरीफ में अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी के पद पर पोस्टिंग के दौरान दूबे द्वारा काफी जमीन खरीदने की भी सूचना मिली है। अगर किसी लोकसेवक के खिलाफ भ्र्ष्टाचार के मामले में कार्रवाई होती है और उसकी आय से अधिक संपत्ति 33 लाख से अधिक पाई जाती है तो ईडी मामला दर्ज कर जांच कर सकती है।

खबरें और भी हैं...