बिहार में आओ खेलें रैली-रैली:चुनाव में 2 साल का समय, फिर भी प्रदेश में सम्मेलन और सभाओं की लगी लाइन

पटना2 महीने पहले

बिहार जैसे राज्यों में चुनाव आगाज भी होगा तो वो 2024 में होगा। लेकिन, अभी से ही बिहार की राजनीति गरमाई हुई है। राज्य की राजनीति में रैली, सम्मेलन और सभाओं का दौर चल रहा। अगले 7 दिनों में 5 बड़ी रैलियां हैं। जब से JDU ने NDA से अलग होकर महागठबंधन के साथ सरकार बनाई है, उसके बाद ये स्थिति बनी गई है।

दरअसल, BJP ने सत्ता से बेदखल होने के अपनी राजनीतिक गतिविधियों बढ़ा दी है। पार्टी ने सीमांचल को फोकस करते हुए गृह मंत्री अमित शाह की रैली आयोजित की है। तो वहीं BJP के इस कार्यक्रम से प्रभावित महागठबंधन ने भी रैली करने की घोषणा कर दी। बिहार की दो गठबंधन ने जब रैली करने की घोषणा की तो दूसरे दल भी सभा और सम्मेलन शुरू कर चुके हैं।

आइए नजर डालते है बिहार में होने वाली रैलियों और सम्मेलनों पर-

BJP की जनभावना रैली- 23 सितंबर को BJP के तरफ से पूर्णिया में बड़ी रैली का आयोजन किया जा रहा। जनभावना रैली के नाम ये आयोजित इस कार्यक्रम में गृहमंत्री अमित शाह शिरकत करेंगे। सीमांचल में आयोजित हो रहे इस रैली का उद्देश्य महागठबंधन के क्षेत्र में सेंध लगाना है। सीमांचल पूरी तरह से मुस्लिम बहुल इलाका है। ऐसे में अमित शाह BJP के सरकार से हटने के बाद हुंकार भरेंगे। इसके साथ ही नीतीश सरकार पर हमलावर होंगे।

23 सितंबर को BJP के तरफ से पूर्णिया में बड़ी रैली का आयोजन किया जा रहा।
23 सितंबर को BJP के तरफ से पूर्णिया में बड़ी रैली का आयोजन किया जा रहा।

JDU की जनभावना मार्च- 27 सितंबर को बिहार के हर प्रखंड मुख्यालयों में JDU जनभावना मार्च करेगा। केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ होने वाले इस मार्च में बेरोजगारी, महंगाई, भ्रष्टाचार के मसलों को उठाया जाएगा। पटना से लेकर हर जिला में इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए JDU ने अपने सभी जिला अध्यक्षों और पदाधिकारियों के साथ बैठक किया है। राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी पदाधिकारियों को टास्क भी दिए हैं।

27 सितंबर को बिहार के हर प्रखंड मुख्यालयों में JDU जनभावना मार्च करेगा।
27 सितंबर को बिहार के हर प्रखंड मुख्यालयों में JDU जनभावना मार्च करेगा।

महागठबंधन की जनभावना रैली- BJP के सीमांचल में कार्यक्रम के बाद महागठबंधन ने भी सीमांचल के अंदर ही रैली करने की ठानी है। जनभावना रैली के माध्यम से JDU-RJD के नेता एक मंच से BJP के खिलाफ हल्ला बोलेंगे। JDU मुताबिक अमित शाह जनभावना को बिगाड़ने आ रहे है तो इस भावना को ठीक करने के लिए महागठबंधन दूर्गापूजा के बाद जनभावना रैली की जाएगी।

महागठबंधन ने भी सीमांचल के अंदर रैली करने की ठानी है।
महागठबंधन ने भी सीमांचल के अंदर रैली करने की ठानी है।

CPIM की भारत बचाओ महारैली- 22 सितंबर को CPIM के तरफ से महंगाई, बेरोजगारी और सांप्रदायिकता के खिलाफ भारत बचाव रैली का आयोजन कर रही है। पटना के गांधी मैदान में होने वाले इस महारैली में बिहार के कोने कोने लोगों को बुलाया गया। इसमें CPIM के नेता सीताराम यचुरी भी शामिल होंगे।

जाप का दुसाध महासम्मेलन- पूर्व मुख्यमंत्री और स्वतंत्रता सेनानी भोला पासवान शास्त्री की जयंती दुसाध महासम्मेलन 21 सितंबर को आयोजन किया गया। पप्पू यादव की पार्टी जाप की तरफ से आयोजित किया जा रहा है। इसको लेकर दुसाध जाति के लिए हक और अधिकार की बात कही गई।

जाप के दुसाध महासम्मेलन में शामिल पप्पू यादव।
जाप के दुसाध महासम्मेलन में शामिल पप्पू यादव।

डोम जाति अधिकार एकता सम्मेलन- कुछ जातिय संगठन भी इस समय अपना सम्मेलन आयोजित कर रहे है। डोम विकास समिति की तरफ से 23 सितंबर को डोम जाति अधिकार एकता सम्मेलन का आयोजन किया जाएगा। डोम जाति के हक अधिकार को लेकर ये कार्यक्रम किया जा रहा है। हालांकि इस सम्मेलन से राजनीति का कोई सीधा कनेक्शन नही दिखता है।

खबरें और भी हैं...