नीट काउंसिलिंग को जेडीए ने स्वास्थ्य विभाग को लिखा पत्र:सभी मेडिकल काॅलेज अस्पताल की ओपीडी में आज से कार्य बहिष्कार करेंगे जूनियर डॉक्टर

पटना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नीट काउंसिलिंग में अधिक विलंब से पीजी में दाखिला अभी तक नहीं हो पाया है। इसलिए जूनियर डॉक्टरों पर काम का लोड बढ़ गया है। राष्ट्रीय रेजिडेंट डॉक्टर एसोसिएशन (आरडीए) की अपील पर जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन आठ दिसंबर बुधवार से ओपीडी में कार्य बहिष्कार का फैसला किया है। जेडीए राज्य के सभी सरकारी मेडिकल काॅलेज अस्पताल में ओपीडी में कार्य बहिष्कार का निर्णय लिया है।

वैसे जूनियर डॉक्टरों की हर जगह ड्यूटी लगती है। चाहे ओपीडी, ओटी, कोरोना वार्ड, इमरजेंसी की क्यों न हो। पर जेडीए अभी सिर्फ ओपीडी में कार्य बहिष्कार करने का निर्णय लिया है। वैसे जूनियर डॉक्टरों के कार्य बहिष्कार करने से ओपीडी में दिखाने आने वाले मरीजों की परेशानी बढ़ जाएगी। खासकर दूर दराज से आने वाले मरीजों की परेशानी बढ़ जाएगी।

तीसरी लहर से पहले काउंसिलिंग पूरी हो
जेडीए के अध्यक्ष डॉ. कुंदन सुमन के मुताबिक काउंसिलिंग नहीं होने से दाखिला भी नहीं हो पाया है। इस वजह से मेडिकल कालेज अस्पतालों में पीडी डॉक्टरों की कमी हो गई है और जूनियर डॉक्टरों पर लोड बढ़ गया है। इस बीच यदि कोरोना की तीसरी लहर आ गई तो स्वास्थ्य सेवा ध्वस्त होने की आशंका रहेगी इसलिए नीट (2021) का जल्द काउंसिलिंग पूरा करा लिया जाय जिससे समय से दाखिला हो सके।

खबरें और भी हैं...