पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

'स्वास्थ्य मंत्री इस्तीफा दो':कोरोना से बेकाबू होते हालात के बीच CPI, AISF, AIYF ने किया प्रदर्शन; खुद बिना मास्क के दिखे, दो गज की दूरी का भी नहीं रखा ख्याल

पटना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
PMCH के पास प्रदर्शन करते वाम दलों के प्रदर्शनकारी। - Dainik Bhaskar
PMCH के पास प्रदर्शन करते वाम दलों के प्रदर्शनकारी।

राज्य में स्वास्थ्य व्यवस्था की बदहाली, मरीजों और स्वास्थ्य कर्मियों की घोर उपेक्षा के मुद्दे पर PMCH पटना के मेन गेट पर CPI, AISF, AIYF के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। 'बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था की स्थिति सुधारो या गद्दी छोड़ दो, इंसानों के जीवन से खिलवाड़ बंद करो, सभी मरीजों को ऑक्सीजन, वेंटिलेटर, बेड सभी मरीजों को उपलब्ध कराओ, कोविड मरीजों का हाल जानने के लिए परिजनों से मिलने की व्यवस्था करो' सहित कई नारे लगाए। प्रदर्शनकारियों ने डॉक्टरों व अन्य कोरोना वारियर्स के जीवन व भविष्य की गारंटी देने, पत्रकारों को स्वास्थ्य कर्मियों की तरह 50 लाख का बीमा भी सुनिश्चित करने, देश के बड़े पूंजीपतियों पर 10 फीसदी कोरोना कर लगाने, एम्बुलेंस सेवा निःशुल्क करने, RTPCR की रिपोर्ट 48 घंटे में देने और सभी जिलों में वेंटिलेटर युक्त अस्पताल शुरू करने की मांग की।

प्राइवेट अस्पतालों में लूट मची है
प्रदर्शन के बाद सभा को संबोधित करते हुए CPI की राज्य कार्यकारिणी के सदस्य विश्वजीत कुमार ने कहा कि देश और बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था खुद ICU में है। ऑक्सीजन, बेड, वेंटिलेटर के बिना मरीज तड़प रहे हैं। शासन-प्रशासन को इसकी कोई फिक्र नहीं। उन्होंने कोविड मरीजों के परिजनों को PMCH सहित सभी अस्पतालों में हाल जानने के लिए मिलने देने की मांग करते हुए कहा कि सरकारी कुव्यवस्था की वजह से भी मरीजों की जान जा रही है। AISF के राष्ट्रीय सचिव सुशील कुमार ने कहा कि प्राइवेट अस्पतालों में पूरी तरह से लूट मची है।

RT-PCR रिपोर्ट 48 घंटे में देने की मांग
CPI के नगर संयोजक देवरत्न प्रसाद ने RT-PCR रिपोर्ट 48 घंटे में देने की मांग करते हुए कहा कि जयाप्रभा-मेदान्ता अस्पताल को कोविड अस्पताल के रूप में सरकार परिणत कर अपनी देखरेख में ले। सरकारी जमीन पर प्राइवेट अस्पताल सरकार ने किस दिन के लिए बना रखा है। उन्होंने बदहाल स्वास्थ्य व्यवस्था के जिम्मेदार स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय के इस्तीफे की मांग की।

खबरें और भी हैं...