मौसम की मार:बिहार में आठ जिलों में बिजली गिरने से 15 की मौत, बेगूसराय में सबसे अधिक 7 लोगों की जान गई

पटना/भागलपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को वज्रपात से मरने वालाें के परिजनों को तत्काल चार-चार लाख रुपए की सहायता देने का आदेश दिया। - Dainik Bhaskar
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को वज्रपात से मरने वालाें के परिजनों को तत्काल चार-चार लाख रुपए की सहायता देने का आदेश दिया।
  • सहरसा, मधेपुरा, बांका, भागलपुर, कैमूर, मुंगेर जमुई में गईं जानें

बिहार में ठनका से मंगलवार काे फिर 15 लाेगाें की माैत हुई। कोसी-सीमांचल और पूर्व बिहार के विभिन्न जिलों में 8 लोगों की जान गई है। इनमें सहरसा और मधेपुरा में दो-दो, बांका, मुंगेर, सुल्तानगंज और जमुई में एक-एक मौत हुई है। वहीं बेगूसराय में 7 और कैमूर में दाे लाेगाें की माैत हुई। बेगूसराय की मंझौल पंचायत में 4 और खाजहांपुर पंचायत के बहियार में मां-बेटी व नावकाेठी के समसा में एक बच्चे की मौत ठनका गिरने से हो गई। कई लोग घायल भी हुए हैं।

सहरसा में सदर प्रखंड के अमरपुर पंचायत निवासी देवप्रकाश सिंह (42) और सोनवर्षाराज के झिटकिया निवासी अशोक सिंह (40) की मौत हो गई। दोनों बारिश के दौरान खेत में काम कर रहे थे। खेत में काम करनेके  दौरान मधेपुरा के चौसा लौआलागन पूर्वी पंचायत के प्रकाश सिंह (50) और आलमनगर के रतवारा पंचायत के प्रवीण कुमार (52) भी ठनका की चपेट में आ गए। बांका के रजौन के फुडकी निवासी विनोद कुमार (17) की मौत हो गई।

विनोद भी खेत गया था, जहां यह हादसा हुआ। मुंगेर के असरगंज जोरारी निवासी कासिम (32) की ठनका के चपेट में आने से मौत हो गई। कासिम खेत में गाय चराने गया था। जमुई की मोहनपुर पंचायत के मंगरार छाता भियर गांव की सुनीता देवी (25) की खेत में काम करने के दौरान मौत हो गई। भागलपुर के देवधा गांव निवासी जगत प्रसाद सिंह की पत्नी बूचो देवी की भी ठनका गिरने से मौत हो गई। बूचो देवी खेत काम करने गई थी।

सीएम ने जताया शोक, 4-4 लाख मुआवजे का आदेश
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को वज्रपात से मरने वालाें के परिजनों को तत्काल चार-चार लाख रुपए की सहायता देने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि लोगों को पूरी तरह सतर्क रहने की जरूरत है। मौसम खराब होने पर वज्रपात से बचाव के लिए आपदा प्रबंधन विभाग के सुझावों का पालन करें।

खबरें और भी हैं...