पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

28.70 करोड़ का फर्जीवाड़ा:एनएचएआई के खाते से फर्जी निकासी में कोटक महिंद्रा की बोरिंग रोड शाखा का मैनेजर गिरफ्तार

पटना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गिरफ्तार मैनेजर के ठीक होने के बाद पुलिस करेगी पूछताछ और होगी कोर्ट में पेशी

एनएचएआई और भू-अर्जन विभाग के खाते से फर्जी तरीके से 28 करोड़ की निकासी के मामले में तत्कालीन बैंक मैनेजर सुमित सिंह को गिरफ्तार कर लिया गया। सुमित सिंह कोटक महिंद्रा बैंक की बोरिंग रोड शाखा के मैनेजर थे। बैंक ने आंतरिक जांच में उन्हें दोषी पाया था। सोमवार को ही बैंक की तरफ से कहा गया था कि सुमित आंतरिक जांच में दोषी पाए गए हैं और उन्हें नौकरी से बर्खास्त कर दिया गया है। दो जनवरी को गांधी मैदान थाने में मामला दर्ज कराया गया था। इसके बाद पुलिस ने नौ जनवरी को सुमित को हिरासत में लिया था।

पूछताछ के दौरान समित की तबीयत बिगड़ी और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया। सोमवार को बैंक ने उन्हें बर्खास्त किया और मंगलवार को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। सुमित का इलाज अब पुलिस की सुरक्षा में चल रहा है। सुमित के ठीक होते ही पुलिस पूछताछ करेगी और कोर्ट में पेश करेगी।

30 जून को सुमित ने बोरिंग रोड शाखा में बतौर मैनेजर ज्वाइन किया था। इससे पहले एग्जीबिशन रोड शाखा में असिस्टेंट मैनेजर थे। डीएसपी टाउन सुरेश कुमार ने कहा कि सुमित को गिरफ्तार कर लिया गया है। अन्य बैंक कर्मियों और संलिप्त लोगों की भूमिका की जांच चल रही है। जिनकी भी संलिप्तता सामने आएगी उनके विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।
सुमित के भाई ने सात बैंक कर्मियों पर लगाया आरोप, अभिषेक को बताया सरगना
सुमित के भाई संतोष कुमार मंगलवार को एसएसपी से मिलने उनके दफ्तर पहुंचे थे। संतोष ने कहा कि बोरिंग रोड शाखा से 8.70 करोड़ का फर्जीवाड़ा हुआ है। उक्त आरटीजीएस में कहीं भी सुमित का हस्ताक्षर नहीं है। उन्होंने कोटक महिंद्रा बैंक के सात पदाधिकारियों और कर्मियों पर सुमित को फंसाने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि उनके भाई को एग्जीबीशन रोड शाखा के मैनेजर अभिषेक राजा, क्षेत्रीय प्रबंधक राजकिशोर सिंह ने फंसाया है।

यही दोनों धोखाधड़ी के सरगना हैं। इसके अलावा सुमित ने बैंक के दीपक, सुमित (एसडीओ), दीपक, जूही, सौरभ और हर्षा माया पर इस धोखाधड़ी में शामिल होने का आरोप लगाया है। संतोष ने कहा कि अगर यह जांच सही तरीके से हुई तो मामला 50 करोड़ से अधिक का होगा। इस बावत डीएसपी टाउन ने कहा कि सुमित के भाई के पक्ष को भी सुना जाएगा। इस षड्यंत्र में जिनका नाम आएगा, उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा।

जांच टीम भी उलझी : शातिरों तक अब भी नहीं पहुंच पाई पुलिस
दो जनवरी को मामला दर्ज होने और शुभम गुप्ता की गिरफ्तारी के बाद सागर, सिद्धार्थ, सौरभ और अमृत का नाम सामने आया था। पुलिस इन चारों की तलाश में छापेमारी भी की, पर सफलता हाथ नहीं लगी। शुभम 11.73 करोड़ का आरटीजीएस कराने बैंक आया था।

जिस निपेंद्र कुमार के खाते में यह आरटीजीएस होना था पुलिस अबतक उसका भी पता नहीं लगा सकी है। मामले में जांच टीम भी उलझी नजर आ रही है। जिस खाते पर ट्रांजक्शन होना है, वह फर्जी पते पर है। पूरे मामले को सुलझाना और दोषियों पर कार्रवाई करना पुलिस के लिए चुनौती है।

बड़ा सवाल- क्या आंख मूंदकर मैनेजर ने लिख दिया-ओके टू प्रोसेस
चुनाव के दौरान भी करोड़ों रुपए का ट्रांसफर किया गया था। 8 दिसंबर 2020 के एनएचएआई के कवरिंग लेटर में लिखा है कि चुनाव के कारण हमारे कर्मी व्यस्त हैं कृपया फंड का ट्रांसफर कर दें। इस लेटर में भू अर्जन पदाधिकारी पंकज पटेल के हस्ताक्षर हैं। जांच के बाद एग्जीबिशन रोड शाखा के मैनेजर अभिषेक राजा ने ओके टू प्रोसेस लिखा है।

फर्जी ट्रांजक्शन के ऐसे कई लेटर मीडिया को उपलब्ध कराया गया है। अब बड़ा सवाल यह है कि करोड़ों के ट्रांसफर से पहले बिना संबंधित अधिकारी से फोन पर बात किए ही बैंक मैनेजर ने ओके टू प्रोसेस लिख दिया। ऐसा ही एक पत्र मोहन अलंकार ज्वेलर्स के नाम का है जिसमें 5.34 करोड़ का ट्रांस्फर होने की बात आ रही है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser