कार्रवाई:नगर थाना पुलिस ने 15 लाख के 81 मोबाइल के साथ 4 चोरों को पकड़ा

हाजीपुर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नगर थाने द्वारा बरामद की गई 81 चोरी की मोबाइल - Dainik Bhaskar
नगर थाने द्वारा बरामद की गई 81 चोरी की मोबाइल
  • चोरों का अंतरराष्ट्रीय गिरोह, नेपाल के बीरगंज व पोखरा में भी करते हैं चोरी

नगर थाना द्वारा 81 मोबाइल के साथ कुछ चोरों को भी गिरफ्तार किया गया है। जब्त मोबाइलों में 80 मोबाइल एंड्राइड है एवं एक सिंपल मोबाइल है। सभी मोबाइलों की कीमत कम से कम 10000 से लेकर 50000 रुपए प्रति मोबाइल बताई गई है। कुल मिला कर लगभग 15 लाख से ऊपर का चोरी का मोबाइल पकड़ा गया है। मोबाइल बरामद होने की सूचना मिलने पर दो लोग अपनी मोबाइल तलाशते हुए थाना पर पहुंचे और अपना मोबाइल प्राप्‍त किया। इनमें से एक व्‍यक्‍ति ने बताया कि शुक्रवार की शाम तीन बजे नीलकमल कपड़े के दुकान के पास खरीदारी करते समय उसके मोबाइल पॉकेट से निकाल लिया गया था एवं दूसरा व्यक्ति जो कि बीएमपी का सिपाही नगेंद्र कुमार है जो जिसने बताया कि वह मेस का सामान लेने राजेंद्र चौक के पास गया था, इसी दौरान उसका भी मोबाइल चोरों द्वारा चोरी कर ली गई थी।

नाबालिग चोर देते हैं घटना को अंजाम, पास में खड़े व्यस्क चोर करते हैं रखवाली

झारखंड के एक ही गांव के है सभी चोर
पुलिस के पूछताछ के बाद यह भी पता चला है कि यह सभी चोर झारखंड के एक ही गांव के हैं। इस गांव के लोगों का मुख्य पेशा अन्य जिलों एवं नेपाल में जाकर मोबाइल चोरी करना है। नाबालिग बच्चे को चोरी करने के एवज में उनके माता-पिता को प्रति मोबाइल 500 से 1000 रुपए मिलते हैं। इनका चोरी करने के अलावा रहने का भी ठिकाना बदलता रहता है। यह लोग खासकर जो इन में वयस्क होते हैं उनके आधार कार्ड पर रेलवे स्टेशन या बस अड्डे के बगल में होटल में कमरा लेते हैं और रात भर रहते हैं। दिन के उजाले में एवं संध्या के समय चोरी की घटना को अंजाम देते हैं। चोरी करने वाले बच्चे से मोबाइल लेकर घटनास्थल से दूर करने एवं उन्हें इकट्ठा करने का जिम्मेवारी अलग-अलग लोगों की होती है। फिर यह मोबाइल ले जाकर झारखंड में ही बेच देते हैं। इनके पास कोई अतिरिक्त सामान नहीं होता है। सभी के पास एक पिट्ठू बैग होता है जिसमें दो या तीन से कपड़े होते हैं।

सूचना पर त्वरित कार्रवाई हुई
यह दोनों शख्स मोबाइल खोजते हुए नगर थाने पहुंचे थे। सूचना के अनुसार कल संध्या 4:00 बजे के करीब एक लड़की रोती हुई थाने पर आई थी। जिसने वहां किसी दरोगा को मोबाइल चोरी की बात बताई। त्वरित कार्रवाई करते हुए एसआई सुनील कुमार ने चोर की तलाश शुरू की। एसआई ने कल देर रात्रि तक 81 मोबाइल के साथ 4 चोर पकड़े हैं। चार चोरों में दो नाबालिग भी हैं जिसका नाम रोशन एवं गोविंद है जो कि झारखंड का रहने वाला है।
मोबाइल हाजीपुर-पटना से चोरी
घटना की जानकारी देते हुए सदर एसडीपीओ राघव दयाल ने बताया कि 4 दिन पूर्व 7 मोबाइल चोरों को जेल भेजा गया था। उसमें से 3 नाबालिग थे। पूर्व में पकड़े गए चोरों का अनुसंधान चल ही रहा था तभी चोरों के गिरोह जो कि अंतरराष्ट्रीय गिरोह है। यह गिरोह नेपाल के बीरगंज एवं पोखरा में भी जाकर मोबाइल की चोरी करते हैं। बरामद 81 मोबाइलों में से ज्यादातर हाजीपुर और पटना में चोरी की गई मोबाइल हैं।

पॉकेट से मोबाइल निकालने के लिए बच्चों का करते हैं प्रयोग
चोरी करने का भी इनका तरीका अलग है। भीड़ में घुसकर यह गिरोह पॉकेट से मोबाइल निकालने के लिए बच्चों का प्रयोग करते हैं। जैसे ही भीड़-भाड़ में घुसकर नाबालिग बच्चा मोबाइल निकालता है, वहां खड़ा दूसरा वाले चोर उसको लेकर 100-200 मीटर दूर खड़े अपने तीसरे साथी को दे देता है। अगर चोरी करते यह पकड़े जाते हैं तो इनका चौथा साथी भीड़ में बच्चे को मारपीट से बचाते हैं।

खबरें और भी हैं...