पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पॉपुलेशन कंट्रोल पर पॉलिटिकल पंगा; भाजपा-जदयू में ठनी:नीतीश की जनसंख्या नीति भाजपाई मंत्रियों को मंजूर नहीं, बोले-लागू हो यूपी का मॉडल

पटना16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर भाजपा-जदयू में मतभेद। - Dainik Bhaskar
जनसंख्या नियंत्रण कानून को लेकर भाजपा-जदयू में मतभेद।

पंचायती राज मंत्री सम्राट चौधरी पंचायत चुनावों में दो बच्चों वाला कानून लागू करने पर अडिग हैं। उनका स्पष्ट मानना है कि जब नगर निकायों में यह कानून लागू हो सकता है तो पंचायतों में क्यों नहीं। सम्राट ने कहा- अब समय आ गया है कि जनसंख्या कानून पर बिहार में भी गंभीरता से विचार हो। पूरे देश में इस कानून की जरुरत है। यदि देश की आबादी पर कंट्रोल नहीं किया गया तो आने वाला समय काफी भयावह होगा।

आज जो लोग शिक्षित हो रहे हैं, उनमें प्रजनन दर दो बच्चों तक ही सीमित है। ऐसे में दो से अधिक बच्चों वालों को कोई सुविधा नहीं मिले। सिर्फ चुनाव नहीं, दो से अधिक बच्चे वालों को सरकार की सभी योजनाओं और फैसिलिटी से भी वंचित रखना चाहिए।

बिना किसी कानून के कैसे करेंगे पॉपुलेशन कंट्रोल : नितिन
पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन ने कहा है कि जनसंख्या नियंत्रण के लिए कानून बनने ही चाहिए। बगैर किसी कानून के इसे कैसे नियंत्रित करेंगे? जनसंख्या बढ़ोतरी की मौजूदा रफ्तार से पूरी दुनिया परेशान है। यह केवल भारत की ही समस्या नहीं है, अब यह ग्लोबल समस्या हो गयी है। हां, भारत इस समस्या से कुछ अधिक परेशान है। मंत्री ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रित हो, यह हमारी प्राथमिकता में होनी चाहिए।

जनसंख्या वृद्धि के कारण संसाधनों पर अत्यधिक बोझ हो गया है और यह बढ़ता ही जा रहा है। विकास और कल्याणकारी कार्यों पर भी इसका प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है। जनसंख्या नियंत्रित होगी तो बुनियादी सुविधाओं में विकास होगा। लोग बेहतर जीवन जी सकेंगे।

जनसंख्या नियंत्रण कानून समाज के लिए जरूरी: गिरिराज
केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने जनसंख्या नियंत्रण कानून को समाज और विकास के लिए बेहद जरूरी बताया है। उन्होंने कहा है कि ये धर्म और राजनीति का मुद्दा नहीं है। यह तो सीधे-सीधे विकास का मुद्दा है। इसे दूसरे रुप में नहीं लिया जाना चाहिए। न यह किसी धर्म से जुड़ा मामला है न किसी राजनीति का हिस्सा है।

जदयू के 2 मंत्री बोले-बिहार मॉडल ही सही

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की इस बात को जदयू के कमोबेश तमाम बड़े नेताओं ने मंगलवार को खूब बढ़ाया कि ‘जनसंख्या नियंत्रण सिर्फ कानून से संभव नहीं है; मैं इसके पक्ष में नहीं हूं; खासकर महिला शिक्षा व इससे आई जागृति से प्रजनन दर अपने-आप घटता है।’ भवन निर्माण मंत्री डॉ.अशोक चौधरी ने तो यहां तक कहा कि देश, जनसंख्या नियंत्रण के मामले में बिहार की सफल नीतियों से सीख ले।

उनके अनुसार, बिहार ने सही नीतियों से यह साबित किया है कि अगर लड़कियों, महिलाओं को एक स्तर की सही शिक्षा दी जाए, तो उनके प्रजनन दर में कमी आती है। बढ़ती जनसंख्या, पूरे देश के लिए चिंता का विषय है। देश इस मामले में बिहार की नीतियों से सीखे।

बिहार, सफल जनसंख्या नियंत्रण योजना का उदाहरण: विजय चौधरी
शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने लगभग यही बातें कहीं। उनके मुताबिक मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के प्रयासों और नीतियों से साबित हुआ है कि महिलाओं को शिक्षित बनाया जाए तो प्रजनन दर में कमी आती है। बिहार में प्रजनन दर में आई कमी, सफल जनसंख्या नियंत्रण योजना का उदाहरण है।

वहीं जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने कहा कि जनसंख्या नियंत्रण का बिहार मॉडल सबसे बेहतर है। यह आजमाया हुआ है, बेहतरीन नतीजे इसकी कामयाबी की गवाही हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में यह साबित करके दिखा दिया कि कैसे लड़कियों व महिलाओं को शिक्षित कर देने से वैसी जागृति आ जाती है, जो खुद ब खुद प्रजनन दर को कम कर देती है।

कानून से जनसंख्या की समस्या का हल नहीं : केसी त्यागी
जदयू के वरीय नेता केसी त्यागी बोले-सिर्फ एक बिल पास कर देने, एक कानून बना देने से जनसंख्या की समस्या का समाधान नहीं होगा। बिहार में लड़कियों को, महिलाओं को शिक्षित करके हमने जनसंख्या को कम करने का प्रयास किया है। हम बिहार नतीजों से उत्साहित हैं। इसके लिए जागरूकता अभियान चले।