पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

नीतीश बोले:कोई नहीं जानता पृथ्वी पर कब-क्या होगा, निर्माण में गुणवत्ता को मेंटेन रखें

पटना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
29 भवनों के उद्‌घाटन व शिलान्यास कार्यक्रम में सीएम नीतीश कुमार व डिप्टी सीएम सुशील मोदी।
  • 15 साल में भवन निर्माण विभाग ने विभिन्न योजनाओं पर खर्च किए 13 हजार 142 करोड़ रुपए, शिक्षा व स्वास्थ्य विभाग से जुड़े भवनों को बनाने के लिए अलग से बनाया गया निगम

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि निर्माण में गुणवत्ता से समझौता बिल्कुल न हो। पृथ्वी पर कब क्या हो जाए, कोई नहीं जानता। कोई कोरोना के बारे में जानता था क्या? कभी घटता है, फिर बढ़ने लगता है। वे बुधवार को 29 भवनों के उद्घाटन, शिलान्यास कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि बीते 15 साल में भवन निर्माण विभाग के स्तर से निर्माण पर 13 हजार 142 करोड़ खर्च हुए। निर्माण, चौतरफा दिख रहा है। शिक्षा, तथा स्वास्थ्य विभाग से जुड़े भवनों को बनाने के लिए अलग से निगम बनाए गए। निर्माण से जुड़े पुराने निगमों को जिंदा किया गया। प्रखंड स्तर तक सरकारी भवन बने, बन रहे हैं।

इंजीनियरिंग कॉलेज, पॉलीटेक्निक, आईटीआई, एएनएम संस्थान यानी हर क्षेत्र से जुड़े भवन बने हैं। जिलों में इंजीनियरिंग कॉलेज बन रहे हैं। अब मजबूरी में किसी को भी बिहार से बाहर पढ़ने के लिए नहीं जाना पड़ेगा। प्रखंड कार्यालयों के 51 भवनों में से 36 भवन बन गए। प्रखंड आईटी के 96 भवनों में से 71 का निर्माण पूरा हो चुका है।

कलाकृतियों का लोकार्पण

मुख्यमंत्री ने सरदार पटेल भवन (पटना) में श्रीमती सीमा कोहली, बालन नांबियार एवं काली कंडर डे की तीन कलाकृतियों का लोकार्पण किया। कार्यक्रम को विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार चौधरी तथा शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन प्रसाद वर्मा ने भी संबोधित किया। अध्यक्षता करते हुए भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी ने नीतीश कुमार को आधुनिक बिहार का शिल्पकार कहा। भवन निर्माण विभाग के प्रधान सचिव चंचल कुमार ने समारोह का संचालन किया। उन्होंने निर्माण कार्यों के बारे में विस्तार से बताया।

बीते 15 साल में सड़क, पुल-पुलिया, सिंचाई और बिजली पर खर्च हुए 2.63 लाख करोड़

पटना|उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि पिछले 15 वर्षों में बिहार सरकार द्वारा सड़क, पुल-पुलिया, सिंचाई, भवन, विद्युत संरचना पर 2 लाख 63 हजार करोड़ रुपए खर्च किए गए। केवल भवन निर्माण विभाग ने 19,778 करोड़ रुपए के भवन बनाए। इसमें वर्ष 2020-21 में हुआ निर्माण भी शामिल है। कहा- इसके ठीक पलट राजद के राज में एक भी भवन का निर्माण नहीं हुआ।

वे लोग केवल मरम्मत करते रहे। उन्होंने कहा कि बिहार में अधिकतर महत्वपूर्ण भवनों का निर्माण अंग्रेजों ने किया। इसके बाद एनडीए के कार्यकाल में बड़ी संख्या में आइकोनिक बिल्डिंग का निर्माण हुआ। 2003 में तत्कालीन सरकार ने 23 निगमों को बंद करने का निर्णय लिया।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें