देखिए, पटना में 14 करोड़ की डकैती के आरोपी को:पटना सिविल कोर्ट से फरार हुए इसी कुख्यात अपराधी ने SS ज्वेलर्स में की थी डकैती

पटना4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
SS ज्वेलर्स में डकैती का आरोपी कुख्यात रवि गुप्ता उर्फ रवि पेशेंट। - Dainik Bhaskar
SS ज्वेलर्स में डकैती का आरोपी कुख्यात रवि गुप्ता उर्फ रवि पेशेंट।

शुक्रवार को पटना के बाकंरगज में स्थित SS ज्वेलर्स में हुए डकैती कांड को कुख्यात अपराधी रवि पेशेंट उर्फ रवि गुप्ता ने अपने साथियों के साथ मिलकर अंजाम दिया। वहां से 18 कैरेट का 30 से 35 किलो सोना, जिसकी कीमत करीब 14 करोड़ रुपए बताई जा रही है। इसके साथ ही 14 लाख रुपए कैश भी अपराधियों ने लूट लिया। शुरुआत में पुलिस को जरा भी अंदाजा नहीं था कि दिनदहाड़े इस कांड को किस अपराधी के गैंग ने अंजाम दिया।

यह बात तब सामने आई जब भागने के क्रम में पकड़े गए जहानाबाद के रहने वाले अपराधी साधु से पुलिस टीम ने सख्ती से पूछताछ की। अब आज भास्कर आपको उस कुख्यात अपराधी रवि पेशेंट का चेहरा दिखा रहा है। ध्यान से इस कुख्यात के चेहरे को आप देख लीजिए। यह अपराधी बिहार ही नहीं, बल्कि पड़ोसी राज्यों झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में भी ज्वेलरी लूट की बड़ी वारदातों को अंजाम दे चुका है।

सही से 6 महीने भी जेल में नहीं रख पाई पुलिस
21 जून 2019 को रवि पेशेंट ने अपने गैंग के साथ मिलकर पटना के आशियाना-दीघा रोड में स्थित पंचवटी रत्नालय ज्वेलर्स में डकैती की थी। वहां से 5 करोड़ की ज्वेलरी के साथ-साथ 13 लाख रुपया कैश लूटा था। बिहार-झारखंड और पश्चिम बंगाल में हुए छापेमारी के बाद पटना पुलिस की टीम ने रवि पेशेंट और उसके साथियों को गिरफ्तार किया था। इसके बाद भी पुलिस उसे ज्यादा दिनों तक जेल में कैद कर के नहीं रख पाई थी। 30 जून 2019 को इसे पटना पुलिस ने गिरफ्तार किया था। बेऊर जेल में कैद रहने के दौरान इसने वहीं बैठकर अपने फरार होने की साजिश रची।

मात्र 6 महीने से कम के समय में 18 दिसंबर 2019 को पटना सिविल कोर्ट से पेशी के दौरान अपने साथ दूसरे अपराधी आशीष राय को लेकर फरार हो गया। इसके बाद उसने पश्चिम बंगाल के आसनसोल सहित कई जगहों पर ज्वेलरी शॉप में बड़ी डकैती भी की थी। पड़ोसी राज्यों की पुलिस भीद उसे अब तक गिरफ्तार नहीं कर पाई।

बाकरगंज में डकैती के विरोध में बंद की गई सराफा बाजार।
बाकरगंज में डकैती के विरोध में बंद की गई सराफा बाजार।

इस कुख्यात को कई नाम से जानते हैं लोग
कुख्यात रवि कुमार गुप्ता पटना के ही आलमगंज थाना के तहत सादिकपुर इलाके का रहने वाला है। इस कुख्यात को लोग कई अलग-अलग नामों से जानते हैं। इसका दूसरा नाम रवि पेशेंट है। कुछ लोग इसे नेताजी के नाम से बुलाते हैं। अधिकतर लोगों के बीच यह अपराधी मास्टर जी के नाम से भी मशहूर है। पुलिस से बचने के लिए बार-बार यह अपना हुलिया भी बदलता रहता है। यह अपराधी काफी शातिर है।

लंबी है क्राइम हिस्ट्री
रवि गुप्ता के नाम अकेले पटना में एक दो नहीं बल्कि 16 से भी अधिक आपराधिक मामले दर्ज हैं। 2019 में पंचवटी रत्नालय से पहले साल 2018 में इसने पटना के रामकृष्णा नगर इलाके में डकैती के ही वारदात को अंजाम दिया था। उसके पहले गर्दनीबाग में डकैती के साथ-साथ एक शख्स की हत्या भी कर दी थी। राज ट्रेडर्स के मालिक बंटी गुप्ता की भी हत्या इसी अपराधी ने की थी।

डकैती के विरोध में सराफा कारोबारियों ने दुकानें तो आज बंद रखी ही। साथ में बाकरगंज से पैदल मार्च करते हुए फ्रेजर रोड स्थित समाहरणालय पहुंचे। यहां पर DM और SSP के साथ वो बात करेंगे।
डकैती के विरोध में सराफा कारोबारियों ने दुकानें तो आज बंद रखी ही। साथ में बाकरगंज से पैदल मार्च करते हुए फ्रेजर रोड स्थित समाहरणालय पहुंचे। यहां पर DM और SSP के साथ वो बात करेंगे।

सर्राफा दुकानदारों को DM ने बुलाया
SS ज्वेलर्स में हुए डकैती कांड के विरोध में पटना के सराफा कारोबारी पूरी तरह से उतर आए हैं। बाकरंगज इलाके में छोटी-बड़ी होलसेल और खुदरा की कुल 350 ज्वेलरी शॉप हैं। डकैती के विरोध में सभी सराफा कारोबारियों ने अपनी दुकानों को आज पूरी तरह से बंद करके रखा है। दोपहर में सारे दुकानदार बाकरगंज में ही एक जगह पर जमा हो गए हैं और सरकार व पुलिस की लचर व्यवस्था के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे हैं। पाटलिपुत्रा सराफा कारोबारी संघ के अध्यक्ष विनोद कुमार के अनुसार पटना के DM डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने सभी कारोबारियों को अपने पास बुलाया है। वो एक मीटिंग करने वाले हैं। पूरे पटना जिले में 5 हजार सराफा कारोबारी हैं। सभी इस वारदात के विरोध में हैं।

खबरें और भी हैं...