बदली व्यवस्था:अब मरीज के परिजनों को भी दी जाएगी, रेमडेसिविर आवंटन की सूचना

पटना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • बिहार को मिले 14 हजार इंजेक्शन अस्पतालों और सभी जिलों के सिविल सर्जन को आवंटित, पटना को सबसे अधिक 3000

रेमडेसिविर इंजेक्शन आवंटन की व्यवस्था राज्य सरकार ने बदल दी है। अब इंजेक्शन आवंटन की जानकारी मरीज के परिजनों को मोबाइल पर दी जाएगी। राज्य स्वास्थ्य समिति ने इस संबंध में सभी अस्पताल अधीक्षक व सिविल सर्जन को आदेश दिया है। अभी तक मरीज के परिजनों को पता ही नहीं चलता था कि उन्हें इंजेक्शन आवंटित हुआ है या नहीं।

राज्य स्वास्थ्य समिति ने कहा है कि सिविल सर्जन एवं औषधि नियंत्रण प्रशासन की राज्यस्तरीय कमेटी द्वारा जिन मरीजों को इंजेक्शन आवंटित किया जाएगा उसकी सूचना मोबाइल के माध्यम से मरीज के परिजनों को दें। आवंटन की सूची मरीज के नाम, पता व मोबाइल नंबर के साथ जिला नियंत्रण कक्ष को भी दी जाएगी ताकि जिला नियंत्रण कक्ष के प्रभारी दंडाधिकारी द्वारा संबंधित मरीज के परिजनों को फोन से इसकी सूचना दी जा सके। रेमडेसिविर इंजेक्शन की खरीद बीएमएसआईसीएल के द्वारा की जा रही है। फिलहाल राज्य को 14 हजार वायल इंजेक्शन मिला है।

सरकारी अस्पतालों में वितरण की प्रक्रिया

राज्य स्वास्थ्य समिति ने कहा है कि विभिन्न चिकित्सा महाविद्यालय अस्पतालों एवं जिले के अंतर्गत सरकारी एवं गैर सरकारी अस्पतालों में डॉक्टरों द्वारा प्रेस्क्राइब किए जाने की स्थिति में संबंधित मरीज को औषधि चिकित्सक की निगरानी में रेमडेसिविर उपलब्ध कराया जाएगा। कोविड के गंभीर मरीजों को इंजेक्शन के लिए साक्ष्य के रूप में प्रेस्क्रिप्शन, कोविड टेस्ट रिपोर्ट एवं आधार कार्ड की प्रति सरकारी अस्पताल के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी को देनी होगी। इसी आधार पर सिविल सर्जन मरीज को रेमडेसिविर का आवंटन करेंगे।

निजी अस्पतालों को ऐसे होगा आवंटन

निजी अस्पतालों में इलाज करा रहे मरीजों को इंजेक्शन देने के लिए अस्पतालों को औषधि नियंत्रण प्रशासन द्वारा विकसित गूगल फॉर्म को भरना होगा। इसके बाद राज्य स्तरीय समिति द्वारा निजी अस्पतालों को इंजेक्शन के आवंटन संबंधी सूचना सिविल सर्जन ए‌वं संबंधित जिलों के सहायक औषधि नियंत्रक तथा उस अस्पताल को दी जाएगी। आवंटन के आधार पर निजी अस्पताल जिला औषधि भंडार से इंजेक्शन उठाएंगे। निजी अस्पतालों को इंजेक्शन के पैसे देने पड़ेंगे, लेकिन कितना, यह अभी तय नहीं किया गया है।

खबरें और भी हैं...