एम्स के डॉक्टर बोले:ऑक्सीजन लेवल को कम नहीं कर रहा कोरोना का ओमिक्राॅन वेरिएंट

पटना4 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

डेल्टा वैरिएंट मरीजों के ऑक्सीजन स्तर को कम कर देता था, लेकिन अाेमिक्राॅन में ऐसे लक्षण नहीं देखने को मिल रहे हैं। ओमिक्रॉन वैरिएंट में 70 फीसदी संक्रमण नाक के स्तर तक ही सीमित रह जाता है। फेफड़े तक नहीं पहुंच पाता है, जिसकी वजह से इससे संक्रमित मरीजों में ऑक्सीजन की कमी जैसी समस्या नहीं देखने को मिल रही है।

यही वजह है कि ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीज अस्पतालों में कम भर्ती हो रहे हैं। प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो की ओर से सोशल मीडिया पर लाइव परिचर्चा में पटना एम्स के सहायक प्रोफेसर डॉ. नीरज कुमार ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि टीका नहीं लेने वालों पर नया वैरिएंट अधिक घातक साबित हो रहा है।

घर हाेना चाहिए हवादार

डॉ. नीरज ने कहा कि हमें घर के वेंटिलेशन में सुधार करना चाहिए। हमारा घर अधिक हवादार होने चाहिए। उन्होंने कहा कि लोगों को अच्छी तरह से फिटिंग वाले मास्क पहनने चाहिए ताकि संक्रमण कहीं से प्रवेश न करे। उन्होंने लोगों से अपील की कि डॉक्टर के संपर्क में रहें, अधिक से अधिक टेली कंसल्टेशन का इस्तेमाल करें, अनावश्यक घबराए नहीं, भीड़भाड़ में न जाएं।

जरूरी दवाइयां अपने पास रखें। परिचर्चा का संचालन पीआईबी पटना के सहायक निदेशक संजय कुमार ने किया।

खबरें और भी हैं...