पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • One Family Member Dead, 20 People With Corona Symptoms In Patna,Team Of Administratiion Not Reached For Investigation Even After 24 Hours

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना से पहले मार रहा सिस्टम:परिवार के एक संक्रमित की मौत, 20 सदस्यों में कोरोना के लक्षण, 24 घंटे बाद भी जांच के लिए नहीं पहुंची टीम

पटनाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कंट्रोल रूम से लेकर सिविल सर्जन कार्यालय तक दौड़े परिजन
  • नहीं दिया गया ध्यान, अब बढ़ रहा मौत का खतरा

कोरोना से पहले बिहार सरकार का सिस्टम संक्रमितों की जान ले रहा है। बेड से लेकर ऑक्सीजन तक के लिए लड़ाई चल रही है। हर दिन ऐसे संक्रमितों की मौत हो रही है जो सिस्टम से हार गए हैं। शनिवार की सुबह एक ऐसा ही चौंकाने वाला मामला सामने आया है। AG कॉलोनी के रितेश कुमार की जान भी सिस्टम के कारण चली गई। एक मौत के बाद अब परिवार के अन्य सदस्यों की जान को खतरा है। जिला कंट्रोल रूम के साथ सिविल सर्जन कार्यालय में दौड़ लगाने के बाद भी परिवार के किसी सदस्य की जांच नहीं हो पाई है जिससे खतरा बढ़ता ही जा रहा है। घर वालों के साथ पूरा मोहल्ला दहशत में है।

मौत से 24 घंटे पहले कंट्रोल रूम को किया गया था फोन

AG कॉलोनी के श्रीनगर रोड में ससुराल में रह रहे रितेश कुमार ने होली के बाद कोरोना का टीका लिया था। इसके बाद से ही वह बीमार रहने लगे थे। कोरोना का कोई लक्षण तो नहीं था लेकिन कमजोरी बढ़ती जा रही थी। इधर तीन-चार दिनों से तबीयत कुछ ज्यादा खराब हो गई। घर में पल्स ऑक्सीमीटर से नापने पर ऑक्सीजन का लेवल कम आया इसके बाद घर वालों को चिंता सताने लगी। घर वालों ने तत्काल डॉक्टरों से संपर्क किया तो डॉक्टरों ने भर्ती करने की सलाह दी। घर वालों ने तारा नर्सिंग होम में रितेश को भर्ती करा दिया। और इसके बाद से वह परिवार वालों की जांच के लिए लगातार कंट्रोल रूम में फोन करते रहे। इस दौरान परिवार के सदस्य सिविल सर्जन कार्यालय भी गए और जांच की मांग की लेकिन इसके बाद भी टीम घर नहीं आई।

परिवार के 20 सदस्यों में लक्षण, बढ़ रहा है मौत खतरा

परिवार में एक मौत के बाद अब अन्य सदस्यों में मौत का खतरा बढ़ रहा है। परिजनों के मुताबिक घर में एक व्यक्ति की मौत के बाद अब सभी खतरे की जद में है। हर व्यक्ति की हालत खराब है। वह समझ नहीं पा रहे हैं कि क्या होगा। घर में सभी सदस्यों में कोरोना के गंभीर लक्षण है लेकिन कंट्रोल रूम पर फोन करने के 24 घंटे बाद भी कोई मदद नहीं मिल पाई है।

महिला के मुंह से आ रहा खून, अस्पताल से मदद नहीं

बक्सर के इटारी का रहने वाला एक परिवार कोरोना संक्रमित है। मां-बाप और बच्चे में कोरोना का गंभीर लक्षण है। महिला के मुंह से खून आ रहा है। परिवार के सदस्य पूरी तरह से परेशान है। कंट्रोल रूम से लेकर सिविल सर्जन कार्यालय तक दौड़ लिए लेकिन कोई मदद नहीं मिल पा रही है। प्राइवेट अस्पताल में CT स्कैन में हालत गंभीर बताई गई और तत्काल किसी बड़े अस्पताल में भर्ती करने की सलाह दी गई। सदर अस्पताल भर्ती करने से इनकार कर रहा है। वह कोरोना की रिपोर्ट मांग रहा है जबकि RTPCR की रिपोर्ट ही अभी नहीं आई है। सिस्टम की इस मनमानी में महिला की जान बचा पाना मुश्किल हो गया। परिजनों का आरोप है कि सदर अस्पताल भी प्राइवेट अस्पतालों की तरह व्यवहार कर रहा है जिससे समस्या बढ़ गई है।

3 दिन पहले मिली अनुमति, बेड फुल ऑक्सीजन ड्राई

पटना के तारा हॉस्पिटल को 3 दिन पहले कोविड के इलाज की अनुमति जिला प्रशासन द्वारा दी गई। हॉस्पिटल ने इलाज शुरू किया तो बेड पूरी तरह से फुल हो गया। बेड फुल होते ही ऑक्सीजन ड्राई हो गया। अब सवाल यह है कि ऑक्सीजन ही नहीं है तो मरीजों का इलाज कैसे किया जाएगा। अस्पताल प्रबंधन अब नए मरीजों को भर्ती करने से हाथ खड़ा कर दिया है। ऐसे में संक्रमितों की जान बचाना मुश्किल होगा।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए आप अपने प्रयासों में कुछ परिवर्तन लाएंगे और इसमें आपको कामयाबी भी मिलेगी। कुछ समय घर में बागवानी करने तथा बच्चों के साथ व्यतीत करने से मानसिक सुकून मिलेगा...

और पढ़ें