पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कवायद:कोरोना की वैक्सीन लगाने के लिए आज से सभी 75 वार्डों में जाएगी एक-एक टीम

पटना21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद बुधवार को टीका केंद्रों पर भीड़ उमड़ पड़ी। पाटलिपुत्र अशोका होटल में देर रात तक लोग कतार में खड़े रहे। - Dainik Bhaskar
वैक्सीन उपलब्ध होने के बाद बुधवार को टीका केंद्रों पर भीड़ उमड़ पड़ी। पाटलिपुत्र अशोका होटल में देर रात तक लोग कतार में खड़े रहे।
  • 25 जुलाई तक सबकाे टीका लगाने का रखा गया है लक्ष्य

राजधानी के सभी 75 वार्डों में एक-एक टीम भेजी जाएगी, जो 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को वैक्सीनेट करेगी। बुधवार को नगर निगम के अधिकारियों और वार्ड पार्षदाें के साथ समीक्षा के बाद डीएम डॉ. चंद्रशेखर सिंह ने 25 जुलाई तक शत प्रतिशत टीकाकरण का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके लिए गुरुवार से विशेष अभियान शुरू किया जा रहा है। सभी वार्ड में एक-एक टीम सुबह 10 से शाम 4 बजे तक टीकाकरण करेगी। इस बीच, बिहार राज्य स्वास्थ्य समिति ने बुधवार को पटना जिले को 95 हजार डाेज कोवैक्सीन उपलब्ध कराई है। गुरुवार को कोविशील्ड मिलने की उम्मीद है।

राज्य में बुधवार को 99776 लोगों को कोरोना का टीका लगा है। सात जिलों समस्तीपुर, बेगूसराय, मुंगेर, किशनगंज, लखीसराय, अरवल और शेखपुरा जिले में किसी को टीका नहीं लगा। वहीं 15 अन्य जिलों में भी एक हजार से कम लोगों को टीका लगा। सुपौल में 35, जहानाबाद में 80, खगड़िया में 90,जमुई में 176, मधेपुरा में 199, बक्सर में 211, शिवहर में 211, कटिहार में 342, रोहतास में 360, भोजपुरा में 397 और गोपालगंज में 414 लोगों को ही टीका लगाया गया है। पटना में सबसे ज्यादा 43 हजार से अधिक लोगों को टीका लगा है। दूसरे स्थान पर गया है जहां 9593 लोगों को टीका लगा है। बुधवार को बिहार को वैक्सीन की डोज नहीं मिली है। अगले दो दिनों में लगभग 5 लाख डोज वैक्सीन मिलनी है। इसके बाद ही टीकाकरण की गति तेज हो पाएगी।

94 वर्षीय लक्ष्मी देवी वैक्सीनेशन एट होम की बनीं पहली लाभार्थी़

स्वास्थ्य विभाग की ओर से बुधवार को कोविड टीकाकरण अब उनके द्वार अभियान की शुरुआत हुई। इसके तहत बुद्धा कॉलोनी में 94 वर्षीय लक्ष्मी देवी को कोवैक्सीन की पहली डोज दी गई। इस अभियान की शुरुआत रविवार को ही हुई थी, लेकिन वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने के कारण लोगों को उनके घर पर टीकाकरण की सुविधा नहीं मिल पा रही थी।

अभियान की पहली लाभार्थी लक्ष्मी देवी ने बताया कि उन्हें यह मदद सिविल सर्जन डॉ. विभा कुमारी सिंह की पहल से मिली। कहा कि वैक्सीन लेने से काफी डर रही थीं। लेकिन, सिविल सर्जन के समझाने के बाद उन्होंने वैक्सीन लेने का निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि वे चल नहीं पाती हैं। ऐसे में ‘वैक्सीनेशन एट होम’ जैसी पहल एक सराहनीय कदम है। सिविल सर्जन ने बताया कि गुरुवार से शहरी क्षेत्र के हर वार्ड में वैक्सीनेशन एट हाेम के लिए टीम जाएगी। वार्ड पार्षद के समन्वय से बुजुर्ग, दिव्यांग अाैर गंभीर बीमारी से ग्रसित लाेगाें की पहचान कर टीका लगाया जाएगा।

खबरें और भी हैं...