पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सालभर से अटका प्रोजेक्ट एक माह में चालू:न्यायालय की सख्ती पर हरकत में आया PMCH प्रशासन, अब खुद के ऑक्सीजन से बचाएगा मरीजों की जान

पटना5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

न्यायालय की सख्ती का असर अब दिखने लगा है। पटना मेडिकल कॉलेज (PMCH) में एक वर्ष के प्रोजेक्ट को एक माह में चालू करने की तैयारी की जा रही है। काफी दिनों से योजना में अटका ऑक्सीजन प्लांट आननफानन में चालू कर दिया गया है। गुरुवार को ऑक्सीजन घोटाले का खुलासा होते ही शुक्रवार को छोटा ऑक्सीजन प्लांट चालू कर दिया गया। काफी दिनों से इसके उद्घाटन का इंतजार किया जा रहा था। अब तैयारी बड़े लिक्विड प्लांट की है, जिसके बाद PMCH को बाहर से ऑक्सीजन नहीं लेना होगा।

1000 लीटर से होगी राहत

शुक्रवार को PMCH के अधीक्षक डॉ IS ठाकुर ने छोटे ऑक्सीजन प्लांट का शुभारंभ किया। उनका कहना है कि इसमें हर दिन 1000 लीटर ऑक्सीजन तैयार किया जाएगा। 20 लीटर का 50 सिलेंडर प्रतिदिन मरीजों के लिए तैयार होगा इससे काफी हद तक राहत मिल जाएगी। अधीक्षक का कहना है कि उनका प्रयास है कि लिक्विड का प्लांट भी एक माह में चालू हो जाए।

हर दिन 900 सिलेंडर की है खपत

PMCH के अधीक्षक डॉ का कहना है कि मेडिकल कॉलेज में 900 सिलेंडर की खपत हर दिन होती है। ऑक्सीजन का छोटा प्लांट शुरू होने से काफी राहत हुई है। लिक्विड प्लांट के शुरू होते ही ऑक्सीजन की समस्या खत्म हो जाएगी। बाहर से ऑक्सीजन नहीं लेना पड़ेगा। नवनिर्मित प्लांट से 1000 लीटर प्रतिदिन तैयार होगा।

बैकअप के लिए 16 सिलेंडर तैयार

अधीक्षक डॉ IS ठाकुर का कहना है कि बैकअप के लिए 16 बडे़ ऑक्सीजन सिलेंडर को रखा गया है। इससे बैकअप की पूरी व्यवस्था रहेगी, जिससे मरीजों को दिक्कत नहीं होगी।

खबरें और भी हैं...